जिम्मेदारियों का बोझ परिवार पर पड़ा तो
ऑटो, रिक्शा, ट्रेन को चलाने लगी बेटियां
साहस के साथ अंतरिक्ष तक बेध डाला
सुना वायुयान भी उड़ाने लगी बेटियाँ
और कितने उदाहरण ढूंढ कर लाऊ
हर शक्ति क्षेत्र आजमाने लगी बेटियाँ
वीर की शहादत पर अर्थी को कांधा देके
अब श्मशान तक जाने लगी बेटियां
घर में बंटा के हाथ रहती है माँ के साथ
पिता की हर एक बांधा हरती है बेटियाँ
कटु बोल बोलने से पहले सोचती है खूब
मन में डरती सहमती है बेटियाँ
बेटे हो भले उद्दण्ड भले दुखा दे आप का दिल
कष्ट सह के भी धैर्य धरती है बेटियाँ
प्रश्न ये ज्वनशील सब के लिए आज
नित्य प्रति कोख में क्यों मरती है बेटियाँ


Roje panda

#babychakra #beti

Isha Pal

Bahut achi poem h

Mayuri Kacha

Nice poem dear

Get the BabyChakra app
Ask an expert or a peer mom and find nearby childcare services on the go!
Phone
Scan QR Code
to open in App
Image
http://app.babychakra.com/feedpost/111738