बच्चे का किक मारना या हाथ पैर चलाना या हिचकियाँ लेना गर्भावस्था का सबसे रोचक अनुभव है. ये सारी बातें इस बात का प्रतिक है कि आपके अन्दर मौजूद जीवन सक्रिय है और तेजी से बढ़ रहा है. इस दौरान कई बार माता के मन में अलग अलग प्रश्न भी आते हैं, जैसे कि क्या बच्चा पर्याप्त किक मार रहा है और क्या उसके हाथ पैर सही सलामत है. हालांकि जब बच्चा पेट में होता है और जब बाहर आता है वह पूरी तरह से अलग होता है. यहाँ हम आपको बता रहे हैं कि हर तिमाही में बच्चे में क्या क्या परिवर्तन देखने को मिलते है.
पहली तिमाही में कौशिकाएं बस एक दुसरे के साथ जुड़ना शुरू करती है. तीसरे महीने के अंत में बच्चे के वोकल कोर्ड्स बनने लगते हैं. पर इस वक्त आपको भ्रूण की कोई हलचल महसूस नहीं होती. इस समय आपको बस चक्कर आने, थकान रहने और सर दुखने जैसे ही लक्षण महसूस होते हैं.
दूसरी तिमाही में आपको बच्चे की हिलन डुलन समेत अन्य गतिविधियाँ महसूस होने लगती है. आपको 14 से 26 सप्ताह के दौरान बच्चे का हिलना महसूस होगा. बच्चे के किक आपको वैसे ही लगेंगे जैसे नर्वस होने पर पेट में कुछ अजीब लगता है. आपको कोई गुब्बारा बन कर फूटता हुआ या मछली तैरती हुई महसूस होती है. हालांकि आपको यह ध्यान रखने की जरूरत है कि हर बच्चे की अलग अलग चीज करने की अपनी उम्र होती है. अब हम आपको बताते हैं कि किस वक्त शिशु सर्वाधिक सक्रिय होता है. जब आप रात को सोने जाते हैं, या जब आप नाश्ता करते है अथवा जब आप नर्वस होते हैं तब तब शिशु सर्वाधिक सक्रिय होता है.
चौथे महीने में कुछ दुबली पतली महिलाएं या दूसरी बार बच्चों को जन्म दे रही माताएं, बच्चे की गतिविधियों को महसूस कर सकती है. हालांकि कभी कभी आपको यह गतिविधियाँ ऐसी लगेगी जैसे कि पेट में गैस बन रही हो.
पांचवे महीने में अधिकांश महिलाओं को पहली बार भ्रूण हिलता हुआ महसूस होता है. एक बार आप उसे महसूस कर लेते हैं तो वहां से बच्चे की रोजमर्रा की गतिविधियाँ और अधिक बढती है. उनकी मुट्ठियाँ मजबूत होती है और वे अधिक फुर्ती से पंच मारने में सक्रिय होते जाते है. यही से बच्चे के हाथ पैर हिलाने की प्रक्रिया में भी तेजी आती है. आपके डॉक्टर इस दौरान आपके बच्चे की गतिविधि देखने के लिए आपका एक अल्ट्रासाउंड टेस्ट भी करवा सकते हैं. शिशु जब छह महीने का होता है तो उसकी गतिविधियाँ और बढ़ जाती है तथा वह पैर चलाने लगता है.
तीसरी तिमाही में आपको और अधिक पेट दर्द होता है. साथ ही आपको भ्रूण की गतिविधि भी महसूस होने लगती है. और अब आपको यह गतिविधियाँ प्रतिदिन महसूस होती है. अब आपको यह ध्यान देना चाहिए कि शिशु कितनी गतिविधियाँ कर रहा है और क्या वह कम से कम दिन में दो बार किक मार रहा है या नहीं. गौरतलब है कि शिशु सुबह और शाम के समय जरुर किक मारता है. आप यह भी कर सकते हैं कि एक घड़ी लें और यह देखें कि शिशु कितनी बार गतिविधियाँ करता है और जब दस गतिविधियाँ हो जाएं तो रुक जाएं. अब वापस समय देखें और यह समझने की कोशिश करे कि दस गतिविधियाँ करने में शिशु को कितना समय लगता है.
सातवें महीने में आपका बच्चा और मजबूत तथा तन्दुरुस्त होता है और उसकी किक की क्षमता भी बढ़ जाती है. इसके अलावा आपको बच्चे की हिचकियाँ भी महसूस होती है. इन सब में चिंता करने जैसा कुछ नहीं है.
आठवाँ महीना आपके लिए बेहद दर्द भरा होता है. इसके साथ ही आपको बच्चे का उलटना भी महसूस होता है. ऐसे में अगर आप खड़े हैं तो बैठ जाएं या करवट ले लें इससे बच्चे की पोजीशन भी बदल जाती है. इस स्टेज पर आप अपने बच्चे से बातचीत करने में भी सक्षम हो जाते हैं.
नौवां महीना इस बात का प्रतिक है कि अब आपका नन्हा शैतान नन्हा नहीं रहा. अब आपको किक कम महसूस होती है क्योंकि बच्चे को उतनी जगह नहीं मिल पाती लेकिन अब आप बड़ी बड़ी हलचलें महसूस करते हैं जैसे कि बच्चे का पलटना.
अब हम आपको बताते हैं कि भ्रूण की गतिविधियों में कब कमी हो जाती है. आम तौर पर सेक्स करने के बाद गर्भ में या तो बच्चे एक दम सुस्त हो जाते हैं या फिर बहुत अधिक सक्रिय हो जाते हैं. ये परिवर्तन बेहद आम और स्वस्थ है तथा इसमें चिंता करने जैसा कुछ भी नहीं है. इसी तरह कभी कभी दूसरी तिमाही के दौरान बच्चे की गतिविधियाँ एक दम धीमी पड़ जाती है. कई घन्टों या कुछ दिनों तक वे कोई भी प्रतिक्रया नहीं करते हैं, इसमें चिंतित होने जैसा कुछ नहीं है.


Parul Tiwari

Kanchan negi Sarita Rautela neha Maheshwari priya rajawat AMRITA VERMA Reshma Chaudhary @kiran kumari Himani Sunita Pawar manisha neeraj Singh tomar ARTI Kajal Kumari Shailja Pandey meenxi Meenakshi Gusain Ekta Jain h m Khushboo Kanojia Jasbir Sajwan Durga ksagar Amandeep Kaur Azad Khan Chouhan Molla Tuhina beagum Amrita Yadav Asifa shivani Shirin kausar Qureshi Priya Mishra Payal.S.Dakhane swati Gayatri Y durga salvi Roop Tara Amrita Varma Rekha Gaur Pooja AshutoshKajal KumariSaumya PReshma Chaudhary Kanchan negi meenxi Sarita Rautela Sunita Pawar Krishna kumar priya rajawat neha Maheshwari Preet Sanghu Prachi Kp Nirmal Bhatia Amandeep Kaur Amita ARTI MAMTA-PRADEEP MAHAWAR diksha & sandeep preeti Karishma Hariya Priya pravin Shailja Pandey Asha Sharma Meenakshi Gusain Reshma Chaudhary Ekta Jain કરુણા Seema Chaudhary PARUL TIWARI❤ Mrs. Kallarakal M P Dilshad Khan Nisha Sharma Nisha Sharma Shalini Asati Kanchan negi shivani Shristhy thapa(sunam)
Anaya MeenaMayuri Kacha Sonali Puneet Maggu

Parul Tiwari

#delhimom
#bbcrratorsclub
#momstarhack
#parulsays
#parulspeaks
#momsfearforbaby
#mombabybond
#momandbaby
#babycare

Mayuri Kacha

Informative post di

shivani

Helpful post

Himani Sharma

Informative

ARTI

Helpful Post

sneha

Nice info

Sunita Pawar

उपयोगी

priya rajawat

Informat8ve post

manpreet kaur

Helpful & intresting

Sonali Puneet Maggu

Helpful nd very nice

Priya Sharma

Very interesting

anjna gautam

👌👌👌

Recommended Articles

Get the BabyChakra app
Ask an expert or a peer mom and find nearby childcare services on the go!
Phone
Scan QR Code
to open in App
Image
http://app.babychakra.com/feedpost/112173