Personalizing BabyChakra just for you!
This may take a moment!

क्या प्रेगनेंसी के दूसरे तिमाही के दौरान सेक्स करना सुरक्षित है?

cover-image
क्या प्रेगनेंसी के दूसरे तिमाही के दौरान सेक्स करना सुरक्षित है?

दुसरे तिमाही में विशेष रूप से शरीर की संरचना और हार्मोनल लेविल्स में परिवर्तन होता है. यदि आपकी प्रेगनेंसी नॉर्मल हुई है, तो ऐसा कोई कारण नहीं जिसके वजह से आप इस दौरान सेक्स नहीं कर सकते.

 

सुरक्षित सेक्स कैसे करें?

 

अगर आपकी प्रेगनेंसी सामान्य रूप से हो बिना किसी कॉम्प्लीकेशन्स के, तो प्रेगनेंसी के दूसरे तिमाही के दौरान सेक्स करना बिल्कुल सुरक्षित है. इससे भ्रूण को किसी भी तरह का नुक़सान नहीं पहुंचता है. लेकिन ऐसे कुछ परिस्थितियों में सेक्स से बचा जाना चाहिए जब तक मेडिकल सलाह न ले ली जाए:

 

  • यदि आपका मिसकैरिज हो चूका हो
  • यदि आपको मल्टिपल प्रेगनेंसी हो
  • यदि प्रेगनेंसी के दौरान या सेक्स के समय ब्लीडिंग हो जाए
  • सेक्स के दौरान दर्द हो तो अपने डॉक्टर से ज़रूर सलाह लें

अगर आपको ज़्यादा वजाइनल डिस्चार्ज का एहसास हो या फिर वहां से गंध आ रही हो, तो अपने डॉक्टर को फ़ौरन सूचित करें ताकि आपके साथी को एस.टी.डी के संक्रमण से बचाने के लिए उचित क़दम उठाये जा सकें.

 

अपनी प्रेगनेंसी की स्थिति को हमेशा ध्यान में रखें और सेक्स के दौरान बहुत आक्रामक न हो जायें. प्रेगनेंसी के दौरान सेक्स करते समय आप और आपके साथी को शरीर में होने वाले बदलाव का ख़याल रखना चाहिए. ऐसे में कुछ भी अलग या अजीब लगे तो डॉक्टर को बताएं और उनके मना करने पर बिलकुल भी सेक्स न करें.

 

दूसरे तिमाही के दौरान सेक्स - हनीमून वाला पीरियड

 

दूसरा तिमाही हनीमून पीरियड या बेबीमून पीरियड के नाम से जाना जाता है. ऐसा इसलिए है क्योंकि इस अवधि के दौरान मतली, थकान और उल्टी जैसे अधिकांश लक्षण कम हो जाते हैं. प्रेगनेंसी का दूसरा तिमाही आपके स्टैमिना और शक्ति को वापस लाता है. प्रेगनेंसी के पहले तिमाही में सेक्स की इच्छा नहीं रखने वाली महिलाएं दूसरे तिमाही में सेक्स का आनंद ले सकती हैं. इस दौरान आपके शरीर में काफ़ी बदलाव आते हैं जिनमें से कई आपकी सेक्स लाइफ़ में  सकारात्मक परिवर्तन भी करते हैं.

 

  • दुसरे तिमाही में महिलाओं के स्तन बड़े हो जाते हैं और ज़्यादातर महिलाएं इसे पसंद भी करती हैं. लेकिन अन्य महिलाओं को इससे परेशानी भी होती है. ज़्यादा संतुष्टि और ख़ुशी बनाये रखने के लिए आप अपने पार्टनर के साथ खुल कर बात चीत ज़रूर करें.
  • इस तिमाही में महिलाओं को यौन इच्छा में वृद्धि का अनुभव हो सकता है क्योंकि इस दौरान जेनिटल एरिया में रक्त का बहाव बढ़ जाता है.
  • इस दौरान क्लिटोरिस काफ़ी सेंसिटिव भी हो जाता है जिससे सेक्स में काफ़ी आनंद आता है.
  • दुसरे तिमाही में पेट भी बढ़ता है लेकिन इतना बड़ा भी नहीं के ये कोई बाधा बन जाए.  

 

हिप्स का आकर भी बदल जाता है  और वो और भी ज़्यादा गोल हो जाते हैं जिससे सेक्स में इंटिमेसी की बढ़ोतरी होती है. दूसरे तिमाही के दौरान सेक्स का आनंद लें!

#garbhavastha #hindi