दर्द को कम करती है वॉटर बर्थ डिलीवरी
Personalizing BabyChakra just for you!
This may take a moment!

दर्द को कम करती है वॉटर बर्थ डिलीवरी

cover-image
दर्द को कम करती है वॉटर बर्थ डिलीवरी

नॉर्मल डिलीवरी का एक प्रकार है- वॉटर बर्थ डिलीवरी। इस आधुनिक डिलीवरी में सामान्य की अपेक्षा 40% कम दर्द होता है। इससे मां और बच्चे को होने वाले इंफेक्शन का खतरा भी कम होता है। वॉटर बर्थ के लिए मां का फिट होना पहली शर्त होती है। अगर डॉक्टर इसकी अनुमति देते हैं तो एक्सपर्ट की देखरेख में वॉटर बर्थ डिलीवरी कराई जाती है। आइए जानते हैं कि वॉटर बर्थ डिलीवरी कैसे होती है और इसके क्या फायदे हैं-


क्या है वॉटर बर्थ डिलीवरी-

• प्रसव के दौरान गर्भवती के कमर से निचले हिस्से को गर्म पानी के एक टब में रखा जाता है।  शिशु का जन्म इसी गर्म पानी में कराया जाता है।

• इसके लिए एक बर्थिंग पूल बनाया जाता है। पूल का आकार लगभग ढाई से तीन फ़ीट का हो सकता है।

• बर्थिंग पूल की क्षमता लगभग 400 लीटर होती है। इसे गर्भवती के शरीर के अनुसार एडजस्ट कर सकते हैं।

• इस बर्थिंग पूल में पानी के तापमान को एक जैसा रखने के लिए इसमें कई उपकरण लगे रहते हैं। इसमें पानी को गुनगुने तापमान पर रखा जाता है।

• प्रसव पीड़ा शुरू होने के 3-4 घंटे के बाद गर्भवती को बर्थिंग पूल में ले जाते हैं।

• शिशु का जन्म पानी के भीतर कराया जाता है।

वॉटर बर्थ डिलीवरी के फायदे-

• बर्थिंग पूल के गर्म पानी में डिलीवरी के समय गर्भवती के शरीर में अधिक मात्रा में एंड्रोफिन हॉर्मोन का स्राव होता है जो दर्द को कम करता है।

• इस कारण एनेस्थीसिया और अन्य पेन किलर देने की संभावना लगभग 50% कम हो जाती है।

• गर्म पानी के कारण एंग्जायटी भी नहीं होती और ब्लड प्रेशर भी कंट्रोल में रहता है।

• गरम पानी के संपर्क में आने से योनि के टिश्यू बहुत सॉफ्ट हो जाते हैं इससे योनि में खिंचाव या त्वचा के फटने की संभावना भी कम हो जाती है।

• गर्म पानी के कारण मां और शिशु दोनों को ही इन्फेक्शन होने का ख़तरा बहुत कम हो जाता है।

• वॉटर बर्थ डिलीवरी के समय गरम पानी में रहने के कारण गर्भवती को मानसिक तनाव भी कम होता है।

सूचना: लेख में दी गई जानकारी का उद्देश्य व्यावसायिक चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार का विकल्प नहीं है। हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लें।

 

#babychakrahindi