गर्भावस्था के बाद अवसाद(डिप्रेशन) से लड़ना

cover-image
गर्भावस्था के बाद अवसाद(डिप्रेशन) से लड़ना

गर्भवती महिला से मां बनने का सफर बहुत ही सुंदर और संतुष्ट होता है लेकिन यह कई विरोधाभासी भावनाओं से भी जुड़ा हुआ है। आपके प्रसव के बाद भावनाओं का अतिप्रवाह बहुत ज्यादा  हो सकता है और ऐसी निश्चित भावनाएं नहीं हैं जिन्हे एक महिला निश्चित समय पर अनुभव कर सकती है।

 

एक नई माँ के रूप में, भावनाओं की बहुतायत संख्या है जिसे आप महसूस कर सकते हैं। खुशी से उदासी तक और कभी कभी भावानो की कमी तक, स्पेक्ट्रम चौड़ा है और यह संभावना है कि उदासी या जलन की भावना हावी हो सकती है। यदि यह आपके जीवन में हस्तक्षेप करने के लिए पर्याप्त गंभीर हो जाता है, तो यह प्रसवोत्तर अवसाद (पीपीडी) हो सकता है।

 

गर्भावस्था के बाद अवसाद से  बड़ी संख्या में महिलाएं संघर्ष करती हैं, फिर भी इस विषय के बारे में ज्यादा जागरूकता नहीं है।



अगर आपको गर्भावस्था के बाद का अवसाद हो तो कैसे पता चलेगा?

आप डिलीवरी के पहले कुछ दिनों के भीतर लक्षण देखना शुरू कर सकते हैं, हालांकि आप ६ महीने तक किसी भी समय इससे ग्रषित हो सकते हैं। इसके लक्षण हैं मूड स्विंग्स, बच्चे के साथ मेलभाव की कमी, चरम चिड़चिड़ाहट या उदासी, निर्णय लेने के कौशल का दमन आदि हो सकते हैं।

 

यदि आपको गर्भावस्था के बाद अवसाद पर संदेह है तो आपको क्या करना चाहिए?

यदि आप इनमें से कुछ लक्षणों में आते हैं, तो इस पर खुद को हारा हुआ मत मानो क्योंकि यह एक सामान्य स्थिति है और डब्ल्यूएचओ शोध से पता चलता है कि अकेले अमेरिका में लगभग १५-१८% महिलाएं पीपीडी से पीड़ित हैं।

 

यदि आपको इनमें से किसी भी लक्षण पर संदेह है, तो सबसे अच्छा डॉक्टर से परामर्श करना है जो आपके लक्षणों का आकलन करने के बाद इससे मुकाबला करने में आपकी मदद करेगा। वे आपको एक परामर्शदाता के पास मार्गदर्शन के लिए भेजेंगे जो बदले में तय करेगा कि आपको दवा पर रखा जाना चाहिए या केवल मनोचिकित्सा पर्याप्त होगा।

 

गर्भावस्ता के बाद अवसाद से कैसे लड़ें:

गर्भावस्ता के बाद अवसाद से निपटने के लिए यहां कुछ चीजें हैं जिन्हें आप अपने दैनिक जीवन में शामिल कर सकते हैं:

 

मदद के लिए पूछें और कुछ समय अपने लिए निकाले:

सामाजिक अपेक्षाएं आपको यह महसूस करने में दबाव डाल सकती हैं कि आपको अकेले सबकुछ संभालने की ज़रूरत है, ताकि आप अच्छी मां बन सके, ऐसा न करें। अपने पति / पत्नी से कुछ मदद मांगें या कुछ समय हर दिन अपने आप के लिए निकाले। पैदल चलें, अपने पसंदीदा पेय का एक कप लें, या बस एक लंबा स्नान करें; जो अच्छा लगे वो करें।

 

व्यायाम के लिए कुछ समय निकालें:

जब आप  एक हाथ को स्थानांतरित करने के लिए  भी बहुत थका हुआ महसूस करते हैं, कुछ अभ्यास आपको बेहद जीवंत कर सकते हैं। भले ही इसका मतलब  बच्चे को स्ट्रोलर में घुमाना हो।

 

अच्छी तरह से आराम करें:

यह सोचने का कोई समय नहीं है कि आपका घर गड़बड़ है या आपके अलमारी व्यवस्थित हैं या नहीं। जब भी आपका बच्चा सोता है तब बस सो जाओ। अन्यथा, आप कम सोने की वजह से और उदास महसूस करेंगी।

 

अच्छी तरह से खाएं और हाइड्रेटेड रहें:

यह आपको स्तनपान कराने में भी मदद करेगा और ताज़ा रहने का सबसे अच्छा तरीका है। अपने बिस्तर के पास  कुछ ताजे फल और मेवे (ड्राई फ्रूट्स) रखें और जब भी भूख लगे खा लें। पानी की एक बोतल आपके पानी के सेवन को ट्रैक पर लाने में मदद करेगी।

 

स्तनपान अवसाद के लक्षणों को कम करने में मदद करता है:

 अध्ययनों से पता चलता है कि स्तनपान कराने से पीपीडी की संभावना कम हो जाती है। स्तन पान पर ध्यान केंद्रित करना एक अच्छा विचार है। हालांकि, अगर आप इसे किसी कारण से नहीं कर सकते हैं तो खुद को दोष न दें। अंत में, एक फीडिंग विधि चुनें जो आपके लिए अच्छी तरह से काम करे।

 

आशा ना छोड़े

अंत में, याद रखें, पीपीडी इलाज योग्य है। तो, आशा न छोड़े और किसी  ऐसे व्यक्ति से बात करें जिस पर आप भरोसा करते हैं। यदि आपको पीपीडी के लक्षणों पर संदेह है तो डॉक्टर से मिलें। मां के लिए अच्छा मानसिक स्वास्थ्य हमेशा बच्चे के कल्याण को परिभाषित करने में एक लंबा रास्ता तय करता है।

 

#shishukidekhbhal #hindi
logo

Select Language

down - arrow
Rewards
0 shopping - cart
Personalizing BabyChakra just for you!
This may take a moment!