छुट्टियों में बच्चे को कैसे रखें व्यस्त ?

cover-image
छुट्टियों में बच्चे को कैसे रखें व्यस्त ?

बच्चों को किसी न किसी तरह से छुट्टियों के दौरान व्यस्त रखना बहुत आवश्यक मुश्किल भी है। बच्चों को हॉबी की कक्षाओं या अतिरिक्त गतिविधियों में व्यस्त रखने से छुट्टियों के दौरान समय की बर्बादी से बचाने में मदद मिल सकती है। ये गतिविधियां बच्चों को नई चीजें सीखने और उनकी उन्नत्ति में सुधार करने में मदद करेगी।



छुट्टी का मतलब ये नहीं है कि कोई पढ़ाई या होमवर्क और बच्चों के लिए कोई खास टाइम टेबल नहीं होना चाहिए। चूंकि वे विशेष रूप से स्कूल के दिनों के दौरान हर रोज एक निश्चित दिनचर्या का पालन करते हैं, इसलिए छुट्टियों में वे बस खाली समय बिताना पसंद करते हैं और उन्हें जो पसंद है वही करते हैं। लेकिन, कुछ दिनों के बाद वे ऊब जाते है और शायद अधिक उदंड हो जाते हैं या खेलने के लिए धूप में भी बाहर जाने की कोशिश करेंगे।


गर्मियों में मुख्य समस्या अपने बच्चों को घर के अंदर रखने की है। इसके लिए आपको उन्हें अपने नियंत्रण में रखने की आवश्यकता है और यह तभी सफल होगा जब वे घर में व्यस्त रह सकें और घर का माहौल सकारात्मक हो। यहां

 

नीचे कुछ कुछ आसान तरीके दिए गए हैं जो आपको छुट्टियों में अपने बच्चों को व्यस्त रखने में मदद कर सकते हैं।

 

अपने घर के काम में अपने बच्चे की मदद करने के लिए कहें। बच्चों को ज़िम्मेदारियाँ लेना बहुत पसंद होता है, खासकर तब जब उन्हें ऐसा करने के लिए आवंटित किया जाता है, जो उनसे कम माना जाता है। वे कपड़े को मोड़ सकते हैं; पुस्तकों और खिलौनों, सूखे बर्तनों और प्लेटों और अन्य कई घरेलू कार्यों की व्यवस्था करें। यह न केवल उन्हें व्यस्त रहने में मदद करेगा, वे स्वच्छता भी सीखेंगे और अनुशासन में रहेंगे।



अपने बच्चे को पूरे दिन टीवी देखने या वीडियो गेम खेलने न दें। यह उसके लिए अच्छा नहीं होगा, क्योंकि यह उसकी दृष्टि को नुकसान पहुंचा सकता है या छुट्टी के दौरान वजन को बढ़ा सकता है । उनके पसंदीदा खाद्य पदार्थों को तैयार करने के साथ-साथ, आपको अपने बच्चे के पोषण पर भी ध्यान देना चाहिए। सुनिश्चित करें कि आप उसे ताजे फल और सब्जियां खिलाएं ।



यदि आप कुछ बातों को ध्यान में रखते हैं और अपने बच्चों को छुट्टियों के दौरान व्यस्त रखने में मदद करते हैं, तो आप उनके व्यवहार में बहुत अंतर देखेंगे। हमेशा उनके हितों पर ध्यान दें और उनकी रूचि अनुसार उन्हें विभिन्न कक्षाओं में शामिल करें या उन गतिविधियों का विकल्प चुनें। नीचे 7 ऐसे आसान विकल्प हैं जिनसे में से आप चुनाव कर सकतें है और छुट्टियों में बच्चे को व्यस्त रख सकतें हैं , जिससे माता पिता अपने लिए भी समय निकाल पाएंगे :



१. मार्बल पेंटिंग :

 



यह ८ वर्ष तक के बच्चों के लिए है। कम से कम 6-7 रंगों में कुछ टेम्परा पेंट, पोस्टर पेंट लाकर रखें ; पत्थर का एक छोटा सा पैक; एक धातु बॉक्स / कनस्तर (जिस तरह से चॉकलेट आती है) ,बॉक्स के नीचे फिट करने के लिए पोस्टर पेपर की मोटी चादरें रखीं जाती हैं । अब बच्चों को विभिन्न रंगों में मार्बल को रंग करें और उन्हें बॉक्स में छोड़ दें। वे अपनी पेंटिंग में जितने रंग चाहते हैं, उसके आधार पर वे जितने चाहें उतने मार्बल्स का उपयोग कर सकते हैं। अब ढक्कन को बंद करें और बॉक्स को कुछ बार हिलाएं। इसे खोलें और, पेंटिंग तैयार है! अब मार्बल्स धो लें और विभिन्न रंगों के साथ प्रयास करें। बड़े बच्चे ढक्कन को बंद करने और बॉक्स को हिलाने के बजाय खुले बॉक्स या ट्रे में चारों ओर सावधानीपूर्वक रोलिंग कर सकते हैं।



२. यात्रा वर्णमाला :

 

 

सभी उम्र के बच्चों के साथ कार, विशेष रूप से लंबी यात्रा करते समय इस गेम को खेलें। सड़क पर यात्रा करने वाली अन्य कारों की संख्या प्लेटों पर, वर्णों को अनुक्रम में, उन्हें पूछकर ए से ज़ैड तक वर्णमाला के माध्यम से चलाएं। आप संख्याओं को स्विच कर सकते हैं। अगला, वस्तुओं या कारों या इमारतों को अलग-अलग रंगों में पहचानने करने का प्रयास करें।



३. कार रेसिंग ट्रैक :

 

 

अपने बच्चों की कारों के लिए सड़क बनाने के लिए कालीन या फर्श पर रंगीन टेप लगाएं। आप गतिविधि को और अधिक रचनात्मक बनाने के लिए संकेत भी जोड़ सकते हैं । पार्किंग के लिए एक विशेष ज़ोन बनाएं जहां कारों को खेलने के बाद एक ठहराव पर आना पड़ता है। यह आपको कमरे के चारों ओर फैलने वाले खिलौनों पर ट्रिपिंग से बचाएगा। आपके द्वारा किए जाने पर टेप आसानी से बंद हो जाएगा।



४. गुब्बारे से वॉलीबॉल :

 

 

जब आपको बच्चों को सक्रिय रखने की आवश्यकता होती है, लेकिन बाहर खेलने के लिए बहुत गर्म होता है, तो अपने दालान में एक रस्सी या दो दुपट्टे को एक साथ बांधे। फिर बच्चों को एक-एक गुब्बारा सौंपें और उन्हें गुब्बारा वॉलीबॉल खेलने दें। रैकेट या पैडल बोर्ड को जोड़ें और यह बैलून बैडमिंटन बन जाता है!



५. घर के अंदर बॉलिंग ट्रैक :

 

आप एक सपाट सतह पर बिछाए गए लकड़ी के बोर्ड या चपटे कार्डबोर्ड बॉक्स का उपयोग करके एक बहुत ही अच्छे गेंद खेलने की जगह बना सकतें हैं । बॉलिंग पिन के लिए पेंसिल इरेज़र या मोटे क्रेयॉन स्टब्स का इस्तेमाल करें। बॉलिंग बॉल के रूप में मार्बल या पिंग पोंग बॉल। स्कोर तय करें और खेल का आनंद उठाएं !



६. कमरे को साफ़ करने की रेस :

 

एक टाइमर लगाएं ,बच्चों के पास बैठें और बच्चों को सभी काम करने दें। क्या वे 30 सेकंड में सभी तकिये वापस सोफे पर रख सकते हैं? क्या फर्श पर फैले सभी खिलौने एक मिनट में वापस अपनी जगह रख सकते हैं? क्या घर के आस-पास पड़े सभी जूते 2 मिनट में जूते के रैक पर वापस आ सकते हैं? क्या बिस्तर पर रखे सभी कपड़ों को 10 मिनट में मोड़ा जा सकता है? टाइमर के बंद होने की आवाज आपके बच्चो को उत्साहित करेगी । याद रखें कि सभी कामों को करने के लिए एक इनाम तैयार रखें ।



७. भारतीय राज्यों के बारे में प्रश्न :

 

प्रश्न उत्तर वाला यह खेल बच्चों के लिए बहुत मनोरंजक और ज्ञानवर्धक साबित हो सकता है। इसमें पूछे जाने वाले सवालों के जवाब हाँ या ना में देने हो। इसमें ,आप भारतीय राज्यों के नामों के साथ भी ऐसा कर सकते हैं। जैसे कौन सा राज्य भारत के उत्तर में है? क्या वहां चाय की खेती की जाती है? सभी उम्र के स्कूली बच्चों के साथ यात्रा करते समय इस गेम को खेल सकतें हैं ।



८. खाना बनाना :

 

 

बच्चों के साथ भोजन पकाने के लिए आपको अपनी रेसिपी की किताबों को बाहर निकालने की ज़रूरत नहीं है। बच्चे के साथ खाना पकाने के कई प्रकार के विकल्प हैं - बड़े बच्चों के साथ खाना पकाने में (एक मफिन पैन, अंडे, आटा, चीनी और बुनियादी व्यंजनों की एक जोड़ी जो आपको ऑनलाइन मिलने के लिए मिलती है) युवा या टीनएजर बच्चे को सिखाने के लिए कि कैसे ब्रेड का एक टुकड़ा, चपातियों को कैसे रोल करें , भौंतरे चाकू से केले जैसा मुलायम फल कैसे काटें , रायता बनाने के लिए कुछ दही को कैसे फेंटे । इन कामों को करते हुए , बच्चे रसोई में काफी कुछ सामान फैला सकतें है , इसलिए धैर्य रखें।



९. मेरी बारी ,मेरा काम :

 

जब घर में किसी समायोजन के चलते जैसे जन्मदिन ,पार्टी के चलते जब ज़्यादा बच्चे घर में एकत्रित हो तब ये खेल खेला जा सकता है। बच्चो को दो समूह में विभाजित कर दें । एक टेबल पर कुछ चीजें एक पंक्ति में रखें, जैसे दूध, कुछ सब्ज़ियां / बिस्कुट , उबला हुआ अंडा, आदि (आप अपनी पसंद का कोई भी सामान ले सकते हैं)। टीम के बच्चों को एक कतार में खड़ा करें । प्रत्येक टीम का पहला व्यक्ति बारी बारी जाकर  लाइन में रखी चीज़ का कुछ इस्तमाल कर वापस आएगा । फिर दूसरा बच्चा उसी कार्य को आगे तक पूरा करेगा। इससे बच्चों में सामूहिक खेलों और भाव का विकास होगा। जैसे एक बच्चा सब्ज़ी का कुछ हिस्सा छीलेगा , दूसरा फिर बचा हिस्सा। ऐसे करके वे मिलजुल कर बारी बारी अपना काम निपटाएंगे।


साथ ही एक दिनचर्या निर्धारित करें और उसका पालन करें। जिससे आपको समय प्रबंधन में मदद मिलेगी। जैसे: 

 

सुबह 8 बजे

जागना

सुबह 8 :30 -9:30 बजे

नाश्ता खाना

सुबह 9:30-11 बजे

एक गतिविधि / काम के लिए घर से बाहर निकलें

दोपहर 12 बजे

दोपहर का भोजन

12:30- 2:30 बजे  

किताब पढ़ें, पेंटिंग करना , और खेल का समय

2: 30-4: 30 बजे

पार्क, पूल, खेलने का समय - फिजिकल एक्टिविटी

4: 30-6: 30 बजे

घर के कामों में मदद

06:30 :7 :30 बजे  

रात का भोजन करना या टीवी देखना

7:30 -9:30 बजे

कहानी सुनना , किताब पढ़ना

रात्रि के 9:30 बजे

सोने का समय

 

यह भी पढ़ें: डिलीवरी के बाद पोषक आहार में इन खाद्य पदार्थो को शामिल जरूर करें

 

#babychakrahindi
logo

Select Language

down - arrow
Rewards
0 shopping - cart
Personalizing BabyChakra just for you!
This may take a moment!