शिशु की नाभि और नाखून को साफ़ करने के उपाय

शिशु की नाभि और नाखून को साफ़ करने के उपाय

13 Apr 2022 | 0 min Read

Tinystep

Author | 2578 Articles

  शिशु की देखभाल का महत्वपूर्ण पहलू है स्वच्छता। कई नई माताएं शिशु की नाभि(विशेषकर अगर गर्भनाल झडी नहीं है) और नाखून को साफ करने के दौरान डरी हुई होती है। जी हां, आपको अपने शिशु को साफ करने के दौरान थोड़ी देखभाल और सावधानी बरतने की जरूरत होती हैं लेकिन इसके लिए ज्यादा परेशान ना हों । यह है कुछ उपाय जो आपको अपने शिशु के नाखून और नाभि साफ करने में बहुत मदद करेंगे।

 नाखूनों को साफ रखना – शिशुओं को आदत होती है स्वयं को या अपने आसपास मौजूद चीजों को खरोंचने की। यह जाना माना तथ्य है की हाथ के नाखून पैरों के नाखून की तुलना में ज्यादा तेजी से बढ़ते हैं। आप अक्सर शिशुओं को अंगूठा या उंगलिया चूसते देखेंगे। इसलिए बेहतर होगा की आप उनके नाखून काटें और उन्हें साफ रखें।

जब शिशु का मूड ठीक ना हो,तो उनके नाखून बिल्कुल ना काटे। इससे उन्हें चोट लग सकती है।

शिशु के नाखून उन्हें नहलाने के बाद काटें क्योंकि नहाने के बाद नाखून मुलायम होते हैं।

कुछ लोग भटकाव से बचने के लिए शिशु के नाखून नींद में काटते हैं।

नाखून काटने के लिए ऐसे उपकरण का इस्तेमाल करें जिसमें आप सहज महसूस करें जैसे कैंची या नेल कटर। अगर आप कैंची का इस्तेमाल कर रही है तो ऐसी कैंची लें, जो अंत में मुडी हो।

 अपने शिशु को स्थिर रखने के लिए साथ में एक व्यक्ति को रखें,जो शिशु को संभाल सकें।

सही पकड़ के लिए त्वचा को नाखून के अंदर दबाएं।

नाखून काटने के दौरान शांत रहे।

सुरक्षा के साथ यह करने के लिए नाखून को उनके प्राकृतिक आकार में काटें। अपने शिशु के नाखूनों को विभिन्न आकार में काटना अच्छा विचार नहीं है।

पैरों के नाखूनों के लिए सबसे सुरक्षित होगा उन्हें सीधे काटना।

 

 

शिशु की नाभि (गर्भनाल जो अभी झड़ी ना हो) को साफ़ करना

नाभि को साफ करने से पहले इस बात का ध्यान रखें की आपके हाथ साफ हो, साथ ही शिशु की गर्भनाल भी साफ और सूखी होनी चाहिए।

एक रुई लें और उसे पानी में डुबोए, सफाई के लिए हमेशा गर्म पानी का इस्तेमाल करें। रुई को निचोड़कर अतिरिक्त पानी निकाल दें। अब इससे सौम्यता के साथ शिशु की गर्भनाल को साफ करें।

गर्भनाल को सूखाने के लिए आप आसानी से पानी सोखने वाले कपड़े का इस्तेमाल कर सकती है।

आपने अक्सर माताओं को गर्भनाल के आसपास लोशन वह माइशचुराइजर लगाते देखा होगा लेकिन यह अच्छा उपाय नहीं है बल्कि इससे संक्रमण हो सकता है। शिशु की त्वचा पर कुछ भी लगाने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें।

अगर आप डायपर का इस्तेमाल कर रहे हैं तो ऐसे डिजाइन का डायपर लें,जो गर्भनाल को नुक्सान ना पहुंचाएं।

 

 

नाभि की सफ़ाई(गर्भनाल झड़ जाने के बाद) –

गर्भनाल झड़ जाने के बाद आप शिशु की नाभि को गीले कपड़े से साफ कर सकतें हैं।

शिशु की त्वचा बहुत मुलायम और नाजुक होती है इसलिए सफाई के दौरान सौम्यता से आसपास के हिस्से को साफ करें।

अगर आप शिशु को नहला रही है तो निचले हिस्से को साफ करने से पहले ऊपरी हिस्से की सफाई करें।

हिस्से को साफ करने के बाद उसे सुखाएं।

शिशु की त्वचा को मुलायम तौलिए की मदद से सुखाएं।

इस बात को सुनिश्चित करें की नाभि का हिस्सा पूरी तरह से सूखा हो।

गर्भनाल झड़ जाने के बाद आप शिशु की त्वचा पर डाक्टर द्वारा सुझाया गया लोशन या माइश्चुराइजर इस्तेमाल कर सकती हैं| 

 

like

0

Like

bookmark

0

Saves

whatsapp-logo

0

Shares

A

gallery
send-btn
ovulation calculator
home iconHomecommunity iconCOMMUNITY
stories iconStoriesshop icon Shop