#विडंबना.. (नवरात्रि)

बधाई हो..अब उस देश में नौ दिन देवियाँ पूजी जाएँगी, जहाँ महिलाओं के साथ होने वाले अपराधों की दर सबसे ज़्यादा है..जहाँ घरेलू-हिंसा, मेराइटल-रेप, रेप, यौन-शौषण, मारपीट के जितने ज़्यादा केसेस रिपोर्ट किये जाते हैं, इससे कहीं ज़्यादा रिपोर्ट किये ही नहीं जाते..

जहाँ पहले पिता और भाई के अनुसार, फ़िर पति के अनुसार और फ़िर बेटे के अनुसार चलाया जाता है एक स्त्री को..जहाँ पढ़ाई से लेकर शादी तक के फ़ैसलों में उसकी कोई फ्री-विल या स्वतंत्र-इच्छा नहीं है (मुट्ठी भर शहरी इलाकों को छोड़कर)..जहाँ स्त्री की 'ना' को समझा ही नहीं जाता है, जहाँ वर्कप्लेस पर एक स्त्री को उसके पुरुष सहकर्मी एक ऑब्जेक्ट की तरह ही देखते हैं..

जहाँ 4 महीने की बच्ची से लेकर 60 साल तक की स्त्री सुरक्षित नहीं है..जहाँ गालियों में सिर्फ़ और सिर्फ़ स्त्रियों और उनके संवेदनशील अंगों का ही ज़िक्र हो और तब भी अधिकांशतः गालियाँ अपने घर में उन्हीं को सुनने मिलती हों..वहाँ आज से देवी की महिमा और शक्तियों का गान किया जायगा..

और भी बहुत कुछ लिखना है, लेकिन कोई फ़ायदा नहीं..बस हर स्त्री को अपनी शक्ति की पहचान हो, यही सबसे अहम है..बाकी तो बस नवरात्रि मनाइए, गरबा-डांडिया में लग जाइए..किसे क्या फ़र्क़ पड़ना है, जब विक्टिम को ही प्रॉब्लम नहीं. :'(

#नोट: ऐसा न कहें कि देश में अब ऐसा नहीं होता है, वगैरह-वगैरह..परिस्थितियों को एक स्त्री की नज़र से देख कर देखिए, महसूस भर कर के देखिए कि एक स्त्री घर में और बाहर भी किस तरह से फ़ील करती है..और प्रगतिशील होने का तमगा और आज़ादी चंद मुट्ठी भर महिलाओं को ही हासिल है. 👎 #parulsays

#parulspeaks

#bbcreatorsclub

CONTENT SOURCE:-BIKHRAV

IMAGE SOURCE:-INTERNET


सही कहा पारुल एक स्त्री की सबसे बड़ी दुश्मन खुद स्त्री है ओर तो ओर दो मर्दों या स्त्रियों की लड़ाई में गाली मा बहन को दी जाती है

Agree with you

Right..agree wid u

Bilkul sahi kha aapne

Agree dear..

You are right.
Pehle mere sath b sasural me voilence hua. Jb apne liye stand liya tb jakr sb thik hua.
Sikh gyi ab to rona rone se kuch nhi hota apne liye khda hona pdta hai. Koi kisi ki help nhi krta apni help khud krni hoti hai.
Pr kuch hd tk ab b sb muh bnate hai, pr muje farak nhi pdta, pehle hubby b sath nhi dete the mera, km se km ab wo to mere sath hai.

Swati Ji u r right dear. apne lie khud khada hona padta h. khud ko itna strog bnann caheye ki hame kisi ki need he n Padre ! kyuki hame haesa apni ladai kud ldni padegi

Heartbreaking to see this pic.

Very well written parul. But, we women are responsible for our own plight I believe that. We ourselves believe that gents can't do household work and take the entire load of house relatives and everything on us and try to be sanskari


Suggestions offered by doctors on BabyChakra are of advisory nature i.e., for educational and informational purposes only. Content posted on, created for, or compiled by BabyChakra is not intended or designed to replace your doctor's independent judgment about any symptom, condition, or the appropriateness or risks of a procedure or treatment for a given person.

Recommended Articles

Scan QR Code
to open in App
Image
http://app.babychakra.com/feedpost/132998