Rewards
रोग और योग : मोटापा, दमा, बवासीर, मधुमेह और...

योग में सेहत का मतलब न तो तन से होता है और न मन से, इसमें सेहत का मतलब सिर्फ ऊर्जा के काम करने के तरीके से होता है। अगर आपका ऊर्जा-शरीर उचित संतुलन और पूर्ण प्रवाह में है, तो आपका स्थूल शरीर और मानसिक शरीर पूरी तरह से स्वस्थ होंगे। इसमें कोई शक नहीं है। ऊर्जा-शरीर को पूर्ण प्रवाह में रखने के लिए किसी तरह की हीलिंग की जरूरत नहीं होती। यह तो अपने मौलिक ऊर्जा-तंत्र में जाकर उसे उचित तरीके से सक्रिय करना है।

1. मोटापा

अगर आप नियमित तौर पर योग करते हैं तो आपका अधिक वजन जरूर कम हो जाएगा। योग सिर्फ; एक व्यायाम के तौर पर ही काम नहीं करता, बल्कि आपकी पूरी शारीरिक प्रणाली को फिर से जवान बनाता है, साथ ही आपके भीतर ऐसी जागरूकता भी पैदा करता है कि आप खुद ही ज्यादा खाने से बचने लगते हैं। एक बार आपके शरीर में एक खास स्तर की जागरूकता आ जाती है तो उसके बाद आपका शरीर ऐसा बन जाता है कि यह सिर्फ; उतना ही भोजन ग्रहण करता है, जितना इसके लिए जरूरी होता है। जरूरत से ज्यादा भोजन यह कभी नहीं लेगा। ऐसा इसलिए नहीं होता कि आपके शरीर को एक खास तरह से कोई नियमित या नियंत्रित कर रहा है या फिर आपसे कोई डाइटिंग करने के लिए कह रहा है। आपको तो बस योगाभ्यास करना होता है। बाकी काम यह खुद करता है।;यह">=http://isha.sadhguru.org/blog/hi/jeene-ke-rang-dhang/sampoorna-sehat/motapa-kaise-kam-karta-hai-yog/&hl=en-IN&tg=129&pt=1">यह आपकी प्रणाली को इस तरह से तैयार करता है;कि वह आपको जरूरत से ज्यादा खाने ही नहीं देती। अगर आप किसी और तरह के व्यायाम या डायटिंग आदि का सहारा लेते हैं तो उसमें आपको खाने को लेकर लगातार अपने आप पर नियंत्रण की कोशिश करनी पड़ती है। योग की मदद से वजन कम करने में सबसे बड़ा फर्क इसी चीज का है।

2. मधुमेह

अगर आपका ऊर्जा शरीर पूर्ण रूप से कंपायमान है और उसका संतुलन सही है तो शरीर में कोई रोग होगा ही नहीं।;योग">=http://isha.sadhguru.org/blog/hi/jeene-ke-rang-dhang/raktchaap-madhumeh-karein-yog-se-upchaar/&hl=en-IN&tg=139&pt=2">योग में मधुमेह को एक गड़बड़ी के तौर;पर देखा जाता है। इस रोग को हल्के में नहीं लिया जा सकता। दरअसल, जब हमारे शरीर की मूल संरचना में ही कुछ गड़बड़ होनी आरंभ हो जाती है तो मधुमेह होता है।

योग का काम आमतौर पर प्राणमय कोष के स्तर पर होता है। आप प्राणमय कोष से शुरुआत करते हैं। प्राणायाम के माध्यम से आप जो भी करते हैं, वह प्राणमय कोष का व्यायाम ही है। यह व्यायाम इस तरीके से किया जाता है कि प्राणमय कोष पूरी तरह दुरुस्त हो जाए। अगर आपका प्राणमय कोष सही तरीके से संतुलित है और ठीक काम कर रहा है तो आपके शरीर में कोई रोग नहीं होगा। अगर आपके ऊर्जा शरीर में संतुलन है, तो दिमाग और शरीर दोनों में रोगों का होना नामुमकिन है। अलग-अलग रोगों से पीडि़त लोग यहां आते हैं। दिल का रोग है तो इलाज वही है। अस्थमा है तो भी इलाज वही है। मधुमेह है तो भी वही इलाज है। वैसे पहले ये जान लीजिए कि यह इलाज है ही नहीं। हम तो बस स्वास्थ को ठीक करने की चेष्टा करते हैं। हम तो बस आपके तंत्र को बेहतर बनाते हैं।

उच्च रक्त चाप और मधुमेह के लिए प्राकृतिक भोजन -

भरपूर मात्रा में अंकुरित अनाज और हरी पत्तेदार सब्जियां खाइए। कुछ मात्रा में फलों का सेवन भी कर सकते हैं। ये चीजें निश्चित तौर पर आपके तंत्र को शांत और दुरुस्त करेंगी।

3. दमा

दमा">=http://isha.sadhguru.org/blog/hi/jeene-ke-rang-dhang/sampoorna-sehat/dama-kay-rogi-kya-kare-kya-na-kare/&hl=en-IN&tg=162&pt=3">दमा के मरीजों के लिए;सबसे पहली और जरूरी चीज यह है कि बलगम को हटाकर उन्हें तुरंत आराम दिया जाए। इस मामले में खानपान का ध्यान रखना बेहद जरूरी है।

खाने पीने की इन चीजों से बचना चाहिए

दूध और उससे बने पदार्थ इसके अलावा केला, कटहल, पकाई हुई चुकंदर न लें। कच्ची चुकंदर ले सकते हैं। मौसमी सेम या फलियां, लोबिया आदि भी नुकसानदायक हैं।

ये चीजें हैं फायदेमंद

शहद, भीगी हुई मूंगफली, तुलसी, नीम |

4. दमा के साथ बवासीर

कुछ लोग ऐसे भी होते हैं, जिन्हें दमा भी होता है और बवासीर भी। इन दोनों रोगों का एक साथ होना बड़ा नुकसानदायक है। दमा शीतल रोग है और बवासीर ऊष्ण। ऐसे लोग अगर कोई गर्म चीज खा लेते हैं तो बवासीर की समस्या बढ़ जाती है और अगर वे कोई शीतल चीज खा लेते हैं तो उनके दमा के लक्षणों में दिक्कत हो जाती है। यह स्थिति बहुत खतरनाक होती है।

योगिक अभ्यास

सूर्य नमस्कार और आसन: इनसे मरीज के शरीर में संतुलन आता है। जिन लोगों को साइनिसाइटिस यानी नजला और दमा का रोग है, उनमें नासिका छिद्र बंद होने की समस्या को यह दूर करता है। इनसे शरीर के लिए आवश्यक व्यायाम हो जाता है। शरीर के लिए आवश्यक ऊष्मा भी इनसे पैदा होती है। सूर्य नमस्कार से शरीर के भीतर इतनी ऊर्जा पैदा होती है कि इसका निरंतर अभ्यास करने वालों को बाहर की सर्दी प्रभावित नहीं कर पाती।

प्राणायाम:

दमा कई तरह के होते हैं। कुछ एलर्जिक होते हैं, कुछ ब्रोंकाइल होते हैं और कुछ साइकोसोमैटिक; या मन:कायिक होते हैं। अगर मामला मन:कायिक है तो ईशा योग करने से यह ठीक हो सकता है। ईशा योग करने से इंसान मानसिक तौर से शांत और सतर्क हो जाता है और उसका दमा ठीक हो जाता है। अगर यह एलर्जी की वजह से है तो प्राणायाम करने से यह निश्चित तौर पर ठीक हो सकता है। ईशा योग में जो प्राणायाम सिखाया जाता है, उससे ब्रोंकाइल संबंधी दिक्कत कम हो जाती हैं। अगर एक से दो हफ्तों तक प्राणायाम का रोजाना सही तरीके से अभ्यास कर लिया जाए तो दमा के मरीजों को पचहत्तर फीसदी तक का फायदा महसूस होगा। #healthtips



very helpful!


Suggestions offered by doctors on BabyChakra are of advisory nature i.e., for educational and informational purposes only. Content posted on, created for, or compiled by BabyChakra is not intended or designed to replace your doctor's independent judgment about any symptom, condition, or the appropriateness or risks of a procedure or treatment for a given person.

Recommended Articles

Scan QR Code
to open in App
Image
http://app.babychakra.com/feedpost/48994