#babycare #hindibabychakra
जल ही जीवन है, इसमें कोई शक नहीं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि पानी का सेवन छह माह तक के शिशु के लिए ठीक नहीं। क्योंकि एक नवजात शिशु कम से कम छह महीने तक अपने शरीर में पानी की कमी को मां के दूध के सेवन से ही पूरा कर लेता है। ऐसे में यह जानना बहुत ज़रूरी है कि शिशु को कब और कितना पानी पिलाना चाहिए।
क्यो नहीं पिलाना चाहिए पानी- 6 महीने से छोटे बच्चे को पानी देना उसे कई तरह से नुकसान पहुंचा सकता है। शिशु का पेट छोटा होता है जो पानी पीने से भर जाता है जिससे शिशु मां का दूध नहीं पीता है। ऐसा होने से उसे दूध का पोषण नहीं मिल पाता है। इसके अलावा ज़्यादा पानी पिलाने से ओरल वाटर इंटोक्सिकेशन हो सकता है और यह बच्चे के दिमाग और हार्ट को नुकसान पहुंचा सकता है।
स्तनपान से होगी पानी की पूर्ति- छह माह तक के बच्चों के लिए मां का दूध पर्याप्त है। बच्चे के जन्म के कुछ दिनों में मां के स्तन से कोलोस्ट्रम (गाढ़ा दूध) निकलता है, जो बच्चे को हायड्रेटिड रखने के लिए पर्याप्त है। इसके साथ ही मां के दूध में 88% पानी होता है, जो शिशु के शरीर में पानी की कमी को पूरा करता है। यानि शिशु जितना स्तनपान करेगा, शरीर में पानी का स्तर उतना ही बढ़ेगा।
कब शुरू करें पानी पिलाना- जब बच्चा मां के दूध के अलावा थोड़ा सॉलिड फूड लेने लग जाए यानि वो छह माह से ऊपर हो जाए, तब उसे पानी देना शुरू किया जा सकता है। 6 माह से ज़्यादा के बच्चे को दूध और पानी सॉलिड फूड के साथ थोड़ा दिया जा सकता है। लेकिन 6 महीने तक के बच्चे को केवल स्तनपान करवाना ही सही है।


Salinder Kumar

Very nice post ji

Roop Tara

Very nice

Isha Pal

Very helpful post

Recommended Articles

Get the BabyChakra app
Ask an expert or a peer mom and find nearby childcare services on the go!
Phone
Scan QR Code
to open in App
Image
http://app.babychakra.com/feedpost/99565