Q:

6 month bad baby ko Jo Khana de vo bilkul patla hona cahiye kya



पूरक आहार (वीनिंग) शुरू करने के लिए चुनौतियां

६ से १२ महीने तक आप अपने बच्चे को जो भी खिलाते है , वो उनके भविष्य के लिए एक निश्चित ढाँचा तैयार करने में मदद करेगा। कई अनुसंधानों में ये निष्कर्ष निकला है की जो ;शिशु अधिक प्रकार के भोजन से परिचित हुए है वो बाद में भी विभिन्न प्रकार के खाद्य पदार्थो को अच्छी तरीके से स्वीकार करते है। जब आप अपने बच्चे के लिए पूरक आहार की शुरुआत करेंगी तो आप देखेंगी की घर के पके ;खाने के काफी सारे विकल्प हैं। भारत में, परंपरागत रूप से, माताओं ने ;पके हुए दाल, घी, आलू, पके ;हुए सफेद चावल बच्चे के पहले ;पूरक आहार में शामिल किया है। भोजन को नरम रखा जाता है जिससे पचने में आसानी हो। ;चूंकि लौह और खनिज, विकास के लिए आवश्यक पोषक तत्व हैं, पालक और गाजर जैसी सब्जियां, अंडे की जर्दी जैसे प्रोटीन को भी आहार में ;शामिल किया जा सकता है, जो ;आपके बच्चे के विकास की दिशा में काम करेंगे।