Q:

Bp low hai to

Kya karna

Chahiye



Hi sunil
Khane k upar dhyan rakhna hoga... Ek healthy balanced diet maintain kijiye...
Pregnant? Here is The Ultimate Diet Plan to Meet Your Nutritional Needs! Yeah article check kijiye

ब्लड प्रैशर का कम होना और हाई होना दोंनों ही सेहत के लिए बहुत खतरनाक होते हैं। ब्लड प्रैशर कम होने पर शरीर में खून की गति सामान्य से कम हो जाती है।;नार्मल ब्लड प्रैशर 120/80 को माना जाता है। यदि ब्‍लड प्रैशर 90 से कम हो जाए तो उसे लो ब्लड प्रैशर कहते हैं। बी.पी के कम होने पर शरीर के बाकी अंगों पर भी इसका बहुत बुरा असर पड़ता है।;

1. काॅफी
ब्लड प्रैशर कम होने पर स्ट्रांग कॉफी, हॉट चॉकलेट, कोला आदि का सेवन करना चाहिए। ज्यादातर ब्लड प्रैशर कम रहने पर एक कप कॉफी रोज पीएं लेकिन यह ध्यान रखें कि इसके साथ कुछ न कुछ जरूर खाएं।
2. नमक;

नमक वाला पानी लो ब्लड प्रैशर के लिए बड़ा फायदेमंद होता है। इससे ब्लड प्रैशर सामान्य हो जाता है। नमक में सोडियम होता है जो ब्लड प्रैशर को बढ़ाता है। लेकिन यह बात ध्यान में रखें कि नमक की मात्रा इतनी भी न बढ़ा दें कि सेहत पर बुरा असर पड़े। कम ब्लड प्रेशर में एक गिलास पानी में डेढ़ चम्मच नमक मिलाकर पी सकते हैं।

3. किशमिश

रात में 30 से 40 किशमिश भिगो दें और सुबह खाली पेट इसका सेवन करें। आप उस पानी को भी पी सकते हैं। आप महीने में एक बार ऐसा कर सकते हैं। इसके अलावा ;एक गिलास दूध में 4-5 बादाम और 10 से 15 किशमिश भी मिलाकर ले सकते हैं।

4. तुलसी
रोजाना 3 से 4 पत्तियां तुलसी की सेवन करने से लो ब्लड प्रैशर नार्मल हो जाता है। तुलसी में विटामिन सी, पोटैशियम, मैग्नीशियम जैसे कई तत्व पाए जाते हैं जो दिमाग को संतुलित करते हैं और तनाव को भी दूर करते हैं। जूस में 10 से 15 प‌त्तियां डाल दें। एक चम्मच शहद डाल दें और रोजाना खाली पेट इसका सेवन करें।
5. लेमन जूस;
लेमन जूस में हल्का सा नमक और चीनी डालकर पीने से लो बीपी में काफी फायदा होता है। इससे शरीर को एनर्जी तो मिलती ही है साथ ही लीवर भी सही काम करता है।


Suggestions offered by doctors on BabyChakra are of advisory nature i.e., for educational and informational purposes only. Content posted on, created for, or compiled by BabyChakra is not intended or designed to replace your doctor's independent judgment about any symptom, condition, or the appropriateness or risks of a procedure or treatment for a given person.

Recommended Articles