babychakra-rewards
Q:

मेरे पेट और सर में दर्द बहुत रहता है उल्टी तो बहुत ज्यादा हो रही ह



उल्टी होना नॉर्मल बात है लेकिन अधिक उल्टी होने से और पेट में दर्द रहने से आपको डॉक्टर की तुरंत सलाह लेना चाहिए।

सर का दर्द उसका कुछ बताओ

पूजा जी प्रेगनेंसी में शुरू के तीन महीने तक आपके शरीर में समस्याएं रहेंगी उन समस्याओं का इलाज है आप आराम करिए अधिक कार्य ना करें मेडिसिन का भी प्रयोग ना करें क्योंकि दवाइयां इस समय में हानिकारक होती है अगर ज्यादा ही समस्या होती है तो आप प्रसूति चिकित्सक से संपर्क कर ले।

गर्भवती होने पर सिरदर्द होना कोई असामान्य बात नहीं है, विशेषकर कि पहली तिमाही में।
गर्भावस्था में सिरदर्द शायद हॉर्मोनों की वजह से और रक्त संचरण के तरीके में बदलाव के कारण होता है।
आप नियमित अंतराल पर बाहर ताजा हवा में जाकर सांस लें।;
सिरदर्द एलर्जी का भी संकेत हो सकता है। यदि आपको लगे कि कोई विशिष्ट गंध या भोजन आपके शरीर में गड़बड़ी और सिरदर्द पैदा करता है, तो बेहतर है कि आप उनसे दूर रहें।
सिरदर्द के लिए हल्की गर्म पट्टी को अपनी आंखों और नाक पर लगाएं।;तनाव;से होने वाले सिरदर्द के लिए गर्दन के नीचे की तरफ ठंडी पट्टी लगाएं।
और खूब सारा;पानी;पीएंं।
तनाव व चिंता की वजह से होने वाले सिरदर्द में मालिश विशेषकर काम आती है, जिसमें गर्दन, कंधों और पीठ की मांसपेशियों को भी आराम मिलता है
विशेषज्ञ मानते हैं कि हरा रंग दिमाग को शांत करता है, और यह तनाव से होने वाले सिरदर्द में विशेषकर प्रभावी है। तनाव से मुक्ति के लिए आप;योग;और श्वसवन व्यायाम कर सकती हैं।
कई बार थकान की वजह से भी सिरदर्द हो जाता है। ऐसे में थोड़ी देर सो लेने से दर्द में राहत मिल सकती है।

1.ताजे अदरक को नमक के साथ या फिर इसके रस को नींबू के रस के साथ मिलाकर पीने से आपको फायदा जल्दी मिलेगा। इससे जी मिचली तो कम होगी ही साथ ही सिरदर्द से भी राहत मिलेगा।
2.जीरे में शहद और इमली को बराबर मात्रा में मिलाएं और फिर इसे रोजाना सुबह उठकर खाएं।;
3.शहद और नींबू के रस में पुदीने का जूस मिलाएं और पिएं, फायदा मिलेगा। ज्यादा परेशानी होने पर इसे दिन में तीन बार पिएं।
4.इसके अलावा सुबह-सुबह उठकर एक दो बिस्किट खा लेने से भी दिनभर आपको राहत रहेगी और आप एनर्जी सा भी महसूस करेंगे
5. सुबह आने वाली उल्टी को दूर करने के लिए वही खाएं जो अच्‍छा लगे। ज्‍यादा तीखा या चटपटा न खाएं पर मन को अच्‍छा लगने वाला खाएं। कोशिश करें कि आप सुबह - सुबह खाली पेट, चाय या कॉफी न पिएं, वरना इससे एसिड बनने के चांस ज्‍यादा रहते है।
6.सुबह के दौरान कम्‍प्‍यूटर और टीवी से दूर रह चाहिये, ताकि वह ज्‍यादा ध्‍यान न लगाएं।
7.कम से कम आठ घंटे की नींद लेना चाहिये ताकि महिला का शरीर थककर टूटने न लगे। सोने से पहले सिर्फ अच्‍छा ख्‍याल मन में लाने चाहिये और मुस्‍कराकर सोना चाहिये।
सुबह उठते समय झटके से ना उठे। सहारा लेकर धीरे से उठें। दो मिनट बैठे रहें फिर खड़े होना चाहिए।
— ;एक बार में अधिक भोजन ना लें। थोड़ा थोड़ा खाना चार पाँच में करके;खाएं ।
— ;जिस भोजन में;कार्बोहाइड्रेट अधिक हो ऐसा भोजन लें।
— ;खाली पेट बिल्कुल ना रहें। थोड़ा बहुत खाते रहने से इस परेशानी में कमी ही आती है।
थकान हो जाये इतना काम न करें। थकान होने पर उल्टी और जी घबराना बढ़ सकता है।
— ;पानी पर्याप्त मात्रा में पियें।
— ;कोल्ड ड्रिंक, शराब आदि नुकसान करने वाले ठन्डे पेय ना लें। धनिया ( धनिये की पत्ती ) का रस रस निकाल कर एक एक चम्मच लेते रहने से उल्टी होना बंद होता है।
— ;संतरा;और;अनार;खाने से उल्टी में आराम मिलता है।
— ;दो;चम्मच;भुने हुए चने का सत्तू पाउडर एक गिलास;पानी में घोलकर इसमें स्वाद के लिए;;चीनी;या;नमक;मिलाकर पीने से उल्टी और जी घबराना कम होता है।
— ;नारियल पानी पीने से फायदा मिलता है। इससे एसिडिटी भी कम होती है और भरपूर पोषक तत्व भी मिलते है

ap orenge juce lijiye jada se jada rest kijiye garam wali cheeje aviod kare