आपको अपने बच्चों का टीका करण क्यों करवाना चाहिए

cover-image
आपको अपने बच्चों का टीका करण क्यों करवाना चाहिए

टीकाकरण भारत में प्रति वर्ष लगभग 1.5 लाख बच्चों की जान बचा सकता है! निवारक स्वास्थ्य देखभाल पद्धति के रूप में, टीका संक्रामक बीमारियों से बच्चों की रक्षा में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसलिए, हमारे बच्चों को समय पर टीकाकरण देना और हमारे भविष्य की पीढ़ी के स्वास्थ्य को सुरक्षित करना महत्वपूर्ण है। विश्व भर में टीका लगने की वजह से मारे गए 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों में 21 प्रतिशत भारतीय बच्चे हैं | इससे पता चलता है कि हमारे यहाँ टीके के फायदों के बारे में ढंग से प्रचार प्रसार नहीं किया जा रहा है | हम निश्चित रूप से नहीं चाहते हैं कि हमारे बच्चों को एमएमआर, डिप्थीरिया, पोलियो इत्यादि जैसे राक्षसों का शिकार करना पड़े | है कि नहीं ?

 

टीके सूक्ष्म जीवों के एक निष्क्रिय रूप के अलावा कुछ भी नहीं हैं, जो उन छोटे बच्चों के शरीर में पेश डाले जाते हैं ताकि उनकी प्रतिरक्षा प्रणाली के साथ मिलकर उन्हें अधिक सक्षम बनाएं शरीर उन्हें पहचानने के बाद अपनी प्राकृतिक रक्षा प्रणाली उत्पन्न करता है जिन्हे एंटीबॉडी कहा जाता है।

 

यहां कुछ तथ्य दिए गए हैं जो हमें समस्या की गंभीरता को पहचानने में मदद करते हैं :

 

  • ग्रामीण भारत में, चार साल (2005 - 2009) की अवधि में मीसल्स टीकाकरण 61.8% से बढ़कर 72.4% हो गया है, जिससे शिशु मृत्यु दर में सुधार हुआ है
  • डीटीडब्ल्यूपी टीके बच्चों को 3 घातक बीमारियों से बचाते हैं जो हैं : डिप्थीरिया, टेटनस, और पेट्यूसिस (काली खांसी)
  • 1988 से पोलियो मामलों में 99% की कमी आई है और आज भारत पोलियो मुक्त देश घोषित हो चूका है |
  • यह जरूरी है कि आप अपने कैलेंडर की टीकाकरण तिथियों के लिए अपने कैलेंडर को अग्रिम रूप से अवरुद्ध करें। इतना तो आप अपने बच्चों के लिए कर ही सकते हैं | नीचे दी गई तस्वीर आपको बताएगी कब और कौन सा टीका करवाना होता है  - आपके बच्चे को कौन से 16  टीके निश्चित रूप से लगवाने हैं |

 

#kidshealth #hindi #shishukidekhbhal
logo

Select Language

down - arrow
Personalizing BabyChakra just for you!
This may take a moment!