babychakra logo India’s most trusted Babychakra
बच्चे का वज़न बढ़ाने में मदद कैसे करें

बच्चे का वज़न बढ़ाने में मदद कैसे करें

30 Apr 2018 | 1 min Read

एक बच्चे का वजन बढ़ाना ज्यादातर मांओं के लिए काफी चुनौतीपूर्ण काम होता है

हर माँ जानती है कि बच्चे की सेहत का ख़याल रखना और उसका वज़न बराबर रखना कितना मुश्किल होता है, खासकर जब बच्चे के पास दिन भर इधर उधर भागने और दुनिया भर की चीज़ों को जानने पहचानने के अलावा और कोई काम नहीं हो | हालांकि यह एक चुनौती पूर्ण कार्य है पर बच्चे का वज़न बढ़ाने नामुमकिन नहीं है | आइये जानते हैं कैसे :

 

बच्चे के वज़न बढ़ाने का चार्ट

अपने बाल रोग विशेषज्ञ द्वारा दिए गए ऊंचाई और वजन वृद्धि चार्ट को बनाए रखें। अपने बच्चे की जानकारी को हर 3 महीने में सावधानी से चिन्हित करें। ध्यान दें कि क्या वह चार्ट पर चिह्नित रंगीन परसेंटाइल बैंड से गिर रहा है। यदि वह बैंड से गिर रहा है, चाहे अतिरिक्त वजन या कमजोर पड़ने के कारण, उसे तुरंत डॉक्टर के पास ले जानें और उचित इलाज करवाने की आवश्यकता है |

 

यदि बच्चा अपनी उम्र और ऊंचाई के हिसाब से कम वजन वाला है, तो यहाँ पर खाना ठीक से नहीं खाने की आदतें या अंतर्निहित दोष हो सकता है। अपने बाल रोग विशेषज्ञ से मिलकर जानने का प्रयास करें कि कहीं कोई ऐसी परिस्तिथि तो नहीं है जिससे वज़न ठीक से नहीं बढ़ रहा है आपका डॉक्टर पूरी तरह से शारीरिक परिक्षण करेगा और इसकी पुष्टि करने के लिए रक्त परीक्षण का आदेश भी दे सकता है।

 

यदि सभी परीक्षाएं और जांच स्पष्ट हैं और कोई समस्या नहीं है, तो यह केवल आपके बच्चे की पोषण संबंधी आदतें हैं जिन्हें बदलने की जरूरत है।

 

आप आईएपी विकास चार्ट यहां डाउनलोड कर सकते हैं

 

बच्चे का वज़न बढ़ने वाले खाद्य पदार्थ

प्रत्येक बच्चे को भोजन के माध्यम से खपत की हुई  कैलोरी से अपनी ऊर्जा प्राप्त करने की आवश्यकता होती है। एक संतुलित भोजन जिसमे प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, डेयरी, वसा इत्यादि जैसे विभिन्न खाद्य समूह होते हैं उनको दैनिक भोजन में शामिल किया जाना चाहिए। यहां कुछ महत्वपूर्ण चेकपोस्ट हैं जो आपके बच्चे को स्वस्थ वजन प्राप्त करने के लिए सदैव ध्यान में रखने चाहिए |

  • प्रत्येक दिन तीन छोटे भोजन के साथ एक अंतराल पर तीन स्नैकस ज़रूर खिलाएं
  • रोजाना विभिन्न फल और सब्जियों के कम से कम 5 आहार अवश्य खाएं।
  • ऊर्जा के लिए आलू, रोटी, चावल, पास्ता या अन्य स्टार्च कार्बोहाइड्रेट युक्त भोजन।
  • कुछ डेयरी या डेयरी विकल्प (जैसे सोया पेय और दही) कम वसा और चीनी वाले विकल्प चुनें।
  • कुछ सेम और दालें, मछली, अंडे, मांस और अन्य प्रोटीन। प्रति सप्ताह मछली दो बार देने का प्रयास करेंजिनमें से एक सल्मॉन या मैकेरल जैसी मछली होनी चाहिए।
  • असंतृप्त तेलछोटी मात्रा में खाएं।
  • तरल पदार्थ खूब लें  – कम से कम 6-8 कप / गिलास प्रतिदिन।

 

दो वर्ष से कम आयु के बच्चों को वसा द्वारा प्रदान की गई ऊर्जा की आवश्यकता होती है। विटामिन डी जैसे कुछ विटामिन भी हैं जो केवल वसा में पाए जाते हैं। इसलिए  फुल क्रीम दूध, दही, पनीर और तेल की मछली जैसे ऊर्जा से भरपूर खाद्य पदार्थ बहुत महत्वपूर्ण हैं।

 

बच्चे के वज़न बढ़ने के लिए द्रव्य

 

 

सादा पानी और गाय का दूध एक बढ़ते बच्चे के लिए सबसे अच्छा पेय हैं। 2 साल की उम्र तक, बच्चे को पूर्ण वसा वाला दूध दें। 2 वर्षों के बाद, अगर बच्चे को विकास ठीक से हुआ है और वजन पर्याप्त बढ़ा है, तो उसे स्किम्ड दूध और दही दिया जा सकता है। यदि बच्चा कम वजन वाला है, तो बाल रोग विशेषज्ञ आपको सलाह दे सकता है कि आप 2 साल के बाद भी वसा वाले दूध को जारी रखें।

 

कोला, मीठे रस और शेक, आईस्ड टी, आदि जैसे पेय पदार्थों से बचें जो खाली कैलोरी से भरे हुए हैं और शरीर में फैट अथवा वासा अधिक मात्रा में बढ़ा सकते हैं |

 

अपने बच्चे पर नज़र रखें ताकि वह अधिक जूस और शेक का सेवन ना करे |

 

कुल मिलाकर यदि बच्चे को प्रत्येक दिन मध्यम मात्रा में विभिन्न खाद्य समूहों से परिपूर्ण भोजन मिलता है,  तब तक उसका पर्याप्त वजन बढ़ना चाहिए।

 

अस्वीकरण: लेख में दी गई जानकारी पेशेवर चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार के लिए एक विकल्प के रूप में लक्षित या अंतर्निहित नहीं है। हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह लें।

 

like

69.7K

Like

bookmark

239

Saves

whatsapp-logo

8.7K

Shares

A

gallery
send-btn
home iconHomecommunity iconCOMMUNITY
stories iconStoriesshop icon Shop