सर्वाइकल कैंसर और उसे रोकने वाले टीके के बारें में जाने

cover-image
सर्वाइकल कैंसर और उसे रोकने वाले टीके के बारें में जाने

सर्वाइकल कैंसर क्या होता है ?

सर्वाइकल कैंसर एक भयानक रोग है | अन्य कैंसर की बीमारियों की तरह ही शुरुआती चरणों में इसका कोई पता नहीं पाटा क्यूंकि इससे शरीर में ना कोई असहजता होती है और ना ही कोई दर्द | यह हमारे देश में विशेष रूप से सच है जहां महिलाओं को नियमित रूप से पीएपी स्मीयर द्वारा जांच नहीं की जाती है - 30 साल की उम्र के बाद सभी यौन सक्रिय महिलाओं को पूर्व कैंसर स्क्रीनिंग ज़रूर करनी चाहिए ।

 

सर्वाइकल कैंसर कैसे होता है

ह्यूमन पैपिलोमा वायरस (एचपीवी) - गर्भाशय ग्रीवा (सर्वाइकल कैंसर) के कैंसर के लगभग सभी मामलों का कारण है। यह एक डीएनए ट्यूमर वायरस है, और 100 से अधिक प्रकार के  एचपीवी पहचाने गए हैं।

इन प्रकार के लगभग 15 से 18 वायरस कैंसर से जुड़े पाए गए हैं। इन उच्च जोखिम वाले एचपीवी प्रकारों में, प्रकार 16 और 18 चिकित्सकीय रूप से सबसे महत्वपूर्ण हैं, क्योंकि वे सर्वाइकल कैंसर के लगभग 70% मामलों से जुड़े होते हैं। (एचपीवी 6 और 11 जैसे कम जोखिम वाले प्रकार जननांग मौसा (तिल) के लगभग 9 0% - 95% मामलों से जुड़े होते हैं)।

 

वायरस यौन संपर्क के माध्यम से फैलता है। इस तथ्य को ध्यान में रखते हुए कि यह शरीर के तरल पदार्थ वायरस की बजाय त्वचा से त्वचा वायरस है, इस वायरस के संचरण को पूरी तरह से सुरक्षित रखना मुश्किल है। वर्तमान अनुमानों का कहना है कि 80% यौन सक्रिय वयस्कों ने अपने जीवन में कुछ समय के लिए एचपीवी संक्रमण हासिल कर लिया होगा जब तक वे 50 हो जाएंगे।

 

सबसे अच्छी बात यह हैं की HPV के कई संक्रमण अपने आप ही ठीक हो जाते हैं, इस प्रक्रिया को एचपीवी क्लीयरेंस कहते हैं | 2 वर्ष के भीतर 80% से 90% संक्रमण पूरी तरह से ठीक हो जाता है | परन्तु जो संक्रमण नहीं ठीक होते वो कैंसर को बढ़ावा देने का बड़ा खतरा रखते हैं |

 

सर्वाइकल कैंसर को कैसे रोका जाए ?

जब तक एचपीवी के विरुद्ध टीका नहीं बना था तब तक सेकेंडरी प्रिवेंशन ही एक मात्र तरीका था हमारे पास | इस तरह से जल्दी पता लगने पर और पता लगने पर कैंसर के पहले के घावों की देखभाल के लिए PAP ही एकलौता इलाज था |

 

प्राथमिक रोकथाम टीकाकरण के माध्यम से होती है

 

टीका: टीका में एचपीवी वायरन होते हैं - (एचपीवी कणों की तरह वायरस)। अन्य टीकों की तरह यह वायरस से अवगत होने पर संक्रमण से रोकने के लिए शरीर में एंटीबॉडी प्रतिक्रिया उत्पन्न करते हैं। चूंकि एचपीवी प्रकार 16 और 18 सर्वाइकल के कैंसर के मामलों की अधिकतम संख्या का कारण बनता है, इसलिए उनके खिलाफ एक टीका 70% से 80% सर्वाइकल कैंसर के मामलों में गिरावट ला सकता है |

 

खुराक: इंट्रामस्क्यूलर इंजेक्शन की 0.5 एमएल की 3 खुराक |

 

पहली खुराक 0 महीने

1 महीने पर ((बाईवैलेंट) दूसरी खुराक / 2 महीने (क़्वाड्रीवॉलेंट)

6 महीने पर तीसरी खुराक

 

अनुशंसित आयु - आदर्श रूप से 9 से 26 साल, 45 वर्षों तक विस्तारित उपयोग कर सकते हैं ।

यौन गतिविधि की शुरुआत से पहले टीकाकरण ज़रूरी है।

 

वृद्ध और विवाहित महिलाओं को शामिल करने का कारण यह है कि - सभी आयु वर्ग की महिलाएं संभावित रूप से जोखिम में हैं और वार्षिक अध्ययन बताते हैं कि, 25 वर्ष से अधिक महिलाओं की 5-10% एचपीवी 16 या 18 के साथ एक नया संक्रमण हो सकता है। दोनों टीके रोकथाम टीके हैं और यदि व्यक्ति संक्रमित हो जाता है तो वे कैंसर का इलाज नहीं करते हैं।

 

टीकाकरण का मतलब यह नहीं है कि भविष्य की स्क्रीनिंग को छोड़ दिया जा सकता है - क्योंकि यह वायरस के अन्य उपभेदों या एचआईवी जैसी यौन संक्रमित बीमारियों से रक्षा नहीं करता है। तो यहां तक ​​कि जिन लोगों को टीका लगाया गया है उन्हें अभी भी वार्षिक पीएपी स्मीयर प्राप्त करना चाहिए और सुरक्षित सेक्स की आदत डालनी चाहिए ।

 

टीका कितना सुरक्षित है ?

टीकाकरण बहुत सुरक्षित साबित हुआ है। साइड इफेक्ट्स के रूप में मामूली चकत्ते या दर्द हो सकता है। कई देशों में अब टीकाकरण अब उनके स्वास्थ्य कार्यक्रम में शामिल है।

टीओजीएसआई (ओबस्टेट्रिकियन और स्त्री रोग विशेषज्ञ संघ) और आईपीए (इंडियन पेडियाट्रिक एसोसिएशन) जैसे भारतीय संगठनों द्वारा टीके को मंजूरी दे दी गई है और कहा गया है कि जो भी इसका आर्थिक सामर्थ्य रखते हैं वो इसे अवश्य लगवाएं |

टीके की लागत: कुल लागत (3 खुराक) 6000 से 7000 रूपए तक आ सकती है।

 

गर्भावस्था और टीकाकरण - गर्भावस्था में टीका का उपयोग करने की सिफारिश नहीं की जाती है

टीकाकरण पूरा होने से पहले गर्भवती होने वाली महिलाओं को गर्भावस्था के बाद तक शेष खुराक स्थगित करने की सलाह दी जाती हैं। स्तनपान कराने वाली महिलाओं को एचपीवी टीका लगाया जा सकता है और वो स्तनपान जारी रखती है क्योंकि यह टीका बिना लाइव वायरल डीएनए का है।

 

यह टीका अवश्य लगवाएं और सर्वाइकल कैंसर को रोकें ! दुर्भाग्यवश, आज भारत में महिलाओं के बीच यह सबसे आम कैंसर है, इसलिए इस लेख को हर महिला के साथ साझा करना न भूलें। :-)

 

डॉक्टर उदय थानावाला से व्यक्तिगत सलाह के लिए यहाँ क्लिक करें

#hindi #swasthajeevan
logo

Select Language

down - arrow
Personalizing BabyChakra just for you!
This may take a moment!