पेट पर समय(टम्मी टाइम) के लाभ

cover-image
पेट पर समय(टम्मी टाइम) के लाभ

 

पेट का समय, जैसा कि नाम से पता चलता है, इसका मतलब है कि अपने बच्चे को एक सपाट सतह पर पेट के बल १ से २ मिनट तक रखना जब वे जागते हैं और पर्यवेक्षण में होते हैं। एक अध्ययन के अनुसार, आप अपने बच्चे को जन्म के तुरंत बाद पेट पर समय देना शुरू कर सकते हैं। दिन में कम से कम २-३  बार ऐसा करना और धीरे-धीरे पेट के समय को १०-१५ मिनट तक बढ़ाना बचपन में मोटापे से बचने में मदद करता है।

 

लेकिन आपके बच्चे को पर्याप्त पेट पर समय मिलना क्यों महत्वपूर्ण है?

आइए पेट के समय के शीर्ष तीन लाभों पर चर्चा करें जो आपके बच्चे के विकास में मदद कर सकती हैं।

 

फ्लैट हेड की रोकथाम

२०१६ में अमेरिकन एकेडमी ऑफ पेडियाट्रिक्स (एएपी) द्वारा किए गए शोध के मुताबिक, जो बच्चे अपनी पीठ पर सोते हैं, उनके सद्देन इन्फेंट डेथ सिंड्रोम(एसआईडीएस) के शिकार होने की संभावना कम हैं। लेकिन लंबे समय तक अपने बच्चे को पीठ पर रखने से 'प्लेगियोसेफली' हो सकता है। प्लेगियोसेफली एक ऐसी स्थिति है जहां एक बच्चा लगातार पीछे की ओर सोने के कारण एक फ्लैट सिर विकसित करता है जो आपके बच्चे के सिर पर दबाव बनाता है और जिससे फ्लैट सिर होता है।

 

हालांकि, २०१७ के शोध के मुताबिक इसे टाला जा सकता है कि आपके बच्चे को नियमित रूप से पर्यवेक्षित पेट समय देकर प्लेगियोसेफली को रोका जा सकता है। जब भी आपका बच्चा जागता है, उन्हें  पालना से बाहर ले जाएं और उन्हें उनके पेट पर रखें। यह महत्वपूर्ण है कि आप अपने बच्चे को खिलाए जाने के तुरंत बाद ऐसा करने से बचें, क्योंकि इससे वो खाना बाहर निकाल सकते है।

 

सकल मोटर कौशल का विकास

खड़े होना, क्रॉलिंग, दौड़ना, चलना, सीधे बैठने जैसे नियमित कार्य, सकल मोटर कौशल का हिस्सा हैं। पेट पर समय आपके बच्चे के सकल मोटर कौशल के विकास को सुनिश्चित करता है।

जब आप अपने शिशु को पेट के समय के लिए एक सपाट सतह पर रखते हैं, तो आप देखेंगे कि वे लात मारेंगे और प्रतिरोध करेंगे, जिससे उन्हें सकल मोटर कौशल विकसित करने और उनके विभिन्न बड़े मांसपेशी समूहों को मजबूत करने में मदद मिलेगी। यह उन्हें अंततः अपने आसपास के खिलौनों को क्रॉल कर के  पकड़ने की अनुमति  देता है।

 

आपके बच्चे के संवेदना का उत्तेजना

पेट समय एक ऐसी गतिविधि है जो आपके बच्चे की इंद्रियों में से कम से कम को उत्तेजित कर सकती है। पेट के समय के दौरान, आपके बच्चे को पेट पर लेटे हुए अपने हथेलियों का उपयोग करके सतह का अनुभव करना होता है। इससे उन्हें स्पर्श की भावना विकसित करने में मदद मिलती है।

पेट के समय के दौरान अपने बच्चे के पसंदीदा खिलौनों को उनके आस पास रखने से संवेदी रिसेप्टर्स को विकसित करने में मदद मिलती है। यह उन्हें आसानी से उनके पसंदीदा खिलौनों की पहचान करने की अनुमति देता है, जो उनकी दृश्य इंद्रियों को बढ़ा सकता है।

इसके अलावा, अपने बच्चे के नाम को बुलाकर उन्हें आपकी आवाज़ को पहचानने में मदद मिलेगी। यह उन्हें उनकी सुनने की क्षमता विकसित करने और विभिन्न ध्वनियों के बीच अंतर करने की अनुमति देगा।

 

याद रखने योग्य बातें

पेट पर समय हमेशा आपके और आपके बच्चे दोनों के लिए एक मजेदार अनुभव होना चाहिए। सुनिश्चित करें कि आप पूरे दिन पेट समय सत्रों को समान रूप से विभाजित करते हैं, ताकि आपका बच्चा थके ना। याद रखें कि आपका छोटा बच्चा हर दिन पेट पर समय के दौरान नई चीजों का अनुभव कर रहा है, इसलिए सुनिश्चित करें कि आप उनके साथ इस अनुभव का आनंद लें।

 

#shishukidekhbhal
logo

Select Language

down - arrow
Personalizing BabyChakra just for you!
This may take a moment!