गर्भावस्था के दौरान सही मात्रा में प्रोटीन का सेवन आपके और होने वाले बच्चे के स्वास्थ्य के लिए है ज़रूरी!

cover-image
गर्भावस्था के दौरान सही मात्रा में प्रोटीन का सेवन आपके और होने वाले बच्चे के स्वास्थ्य के लिए है ज़रूरी!

हर गर्भवती महिला एक बढ़ता हुआ स्वस्थ भ्रूण और मातृ स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए पोषण के महत्व को समझती  है। यह भी जानना आवश्यक है कि सही पोषक तत्व सही मात्रा में प्राप्त करना आपके बच्चे के विकास के साथ-साथ आपके स्वयं के स्वास्थ्य को निर्धारित करने का सबसे महत्वपूर्ण कारक है।



गर्भावस्था के दौरान प्रोटीन का सेवन करना आपके पोषण के लिए एक महत्वपूर्ण पहलू है, क्योंकि यह मानव शरीर कोशिकाओं का मूल निर्माण खंड है। यहां बताएंगे कि गर्भावस्था के दौरान सही प्रोटीन का सेवन करना क्यों महत्वपूर्ण है और आप इसे कैसे प्राप्त कर सकती हैं:



अपने बच्चे के लिए सही प्रोटीन सेवन के लाभ

प्रोटीन का गठन करने वाले एमिनो एसिड शरीर कोशिकाओं के निर्माण खंड के रूप में कार्य करते हैं। स्वाभाविक रूप से, आपके बच्चे के शरीर को बढ़ने और फलने-फूलने के लिए बहुतायत में इन बिल्डिंग ब्लॉक की आवश्यकता होती है।

एमिनो एसिड न केवल बच्चे के शरीर के ऊतक, नाखून, हड्डियों, आंतरिक अंगों और बालों के विकास में मदद करते हैं बल्कि विभिन्न शरीर कार्यों को नियंत्रित करने वाले हार्मोन के निर्माण में भी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

गर्भावस्था के दौरान शुरुआत से ही आपको अपने प्रोटीन सेवन की मात्रा अच्छी रखनी होगी और जब दूसरे और तीसरे ट्रिमेस्टर में आपका बच्चा तेज गति से बढ़ता है तब प्रोटीन का पर्याप्‍त होना महत्वपूर्ण है।

शोध ने गर्भावस्था के दौरान अपर्याप्त प्रोटीन सेवन को शिशुओं में जन्म के कम वजन से जोड़ा है, जिससे पीलिया, संक्रमण के बढ़ते जोखिम और सांस लेने में परेशानी जैसी कई स्वास्थ्य संबद्धित समस्याएं पैदा हो सकती हैं।



गर्भवती माताओं के लिए सही प्रोटीन सेवन के लाभ
प्रोटीन बस आपके अजन्मे बच्चे के स्वास्थ्य के लिए ही आवश्यक नहीं है बल्कि आपके स्वयं के स्वास्थ्य के लिए भी आवश्यक है। शरीर कोशिकाओं के निर्माण खंड के रूप में, प्रोटीन प्लेसेंटा और लाल रक्त कोशिकाओं के विकास में मदद करता है जो आपके गर्भाशय सहित शरीर के विभिन्न हिस्सों में रक्त प्रवाह के माध्यम से ऑक्सीजन ले जाने के लिए आवश्यक होती है।

यह गर्भावस्था के दौरान, एनीमिया और उसके परिणामस्वरूप थकान और चक्कर आने के खतरे को कम करता है। गर्भावस्था के दौरान प्रोटीन रक्त शर्करा को स्थिर करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है और अच्छे प्रोटीन का सेवन गर्भावस्था-मधुमेह के जोखिम को कम करने में मदद करता है।

प्रोटीन के लिए आपके शरीर की आवश्यकता दूसरे और तीसरे त्रिमहि में बढ़ जाती है क्योंकि आपके स्तन और अन्य अंग बड़े हो जाते हैं। इसके अलावा, एक प्रोटीन समृद्ध आहार मांसपेशियों के निर्माण में मदद करता है, वसा के नहीं। जिसका मतलब है गर्भावस्था के दौरान स्वस्थ वजन बढ़ाना और मोटापे के जोखिम को कम करना।



गर्भावस्था के दौरान आपको कितनी प्रोटीन चाहिए?


गर्भावस्था के दौरान औसत दैनिक प्रोटीन का सेवन 60 से 75 ग्राम की सीमा में होना चाहिए, जो कि कम से कम तीन सर्विंग्स में विभाजित होना चाहिए। हालांकि, गर्भावस्था के दौरान प्रोटीन सेवन की सटीक मात्रा आपके वजन के अनुसार बदलती है और आप अपने शरीर की आवश्यकता के अनुसार सही मात्रा की सलाह के लिए अपने डॉक्टर या आहार विशेषज्ञ से पूछ सकती हैं।

 

 

प्रोटीन के सर्वश्रेष्ठ स्रोत

दुबला मांस, मछली, मुर्गी, दूध, पनीर, दही, टोफू, और अंडे प्रोटीन के समृद्ध स्रोत हैं। उदाहरण के लिए, हाफ चिकन ब्रेस्ट में लगभग 27 ग्राम प्रोटीन और एक कप दूध में 8 ग्राम होता है।

शाकाहारी महिलाएं नट, फलियां, मसूर, मूंगफली का मक्खन, और सोया उत्पादों जैसे टोफू और सोया दूध से अपने दैनिक प्रोटीन का सेवन प्राप्त कर सकती हैं। एक कप राज़मे में लगभग 13 ग्राम प्रोटीन होता है। इसी तरह, एक कप सोया दूध में 6 ग्राम प्रोटीन होता है।

पशु-आधारित प्रोटीन अमीनो एसिड में पूर्ण होते हैं, जबकि पौधे-आधारित प्रोटीन नहीं।  यदि आप मांस या डेयरी उत्पादों का उपभोग नहीं करते हैं, तो पोषक तत्वों की अपनी आवश्यक खुराक पाने के लिए प्रोटीन समृद्ध कई तरह के शाकाहारी खाद्य पदार्थों को शामिल करना आवश्यक है।

 

#garbhavastha #hindi
logo

Select Language

down - arrow
Personalizing BabyChakra just for you!
This may take a moment!