गर्भावस्था के तीसवें सप्ताह के बारे में आपकी पत्नी को क्या क्या पता होना चाहिए?

जैसे ही वह तीसवें सप्ताह में कदम रखती हैं, सप्ताह दर सप्ताह के विकास में आपका बच्चा लगभग 16 इंच लंबा होता है और लगभग 1 किलो वजन होता है! अम्नीओटिक तरल स्तर अभी तक पर्याप्त हैं लेकिन यह गर्भावस्था के अंत में कम होता जाएगा। यह द्रव महत्वपूर्ण है क्योंकि यह आपके बच्चे को झटके और अन्य चोटों के अप्रिय प्रभाव से बचाता है।



चिन्ह और लक्षण


इस सप्ताह से आपकी पत्नी को देर रात में पैर की ऐंठन का सामना करना पड़ सकता है, यह काफी आम है। यह रक्त परिसंचरण की कमी का परिणाम है जो बढ़ता पेट और रक्त के गाढ़ेपन के कारण है।

इसका ख्याल रखने के लिए वह तरल पदार्थ और पेय का पर्याप्त सेवन कर सकती हैं।
सांस फूलना, भूख की कमी और पसलियों में असहज महसूस करना भी बहुत आम है क्योंकि उनका गर्भाशय पेट को दबाता है।

जैसे ही गर्भावस्था सप्ताह दर सप्ताह प्रगति करती है, यह समय है कि आपकी पत्नी अपने केगेल्स व्यायाम पर ध्यान केंद्रित करें। यह व्यायाम उन्हें मूत्र असंयमिता को रोकने में मदद करेंगे, खासकर जब गर्भाशय आगे बढ़ता है और मूत्राशय पर अतिरिक्त दबाव डालता है।

केगल्स उन्हें योनि की मांसपेशियों को मजबूत करने और प्रसव-वेदनाओं के दूसरे चरण में आसानी के लिए भी मदद करता है, जो धक्का देने वाला चरण है। ये व्यायाम उनकी योनि की मांसपेशियों को बच्चे के जन्म के बाद आसानी से ठीक होने में भी मदद करेंगे।



शारीरिक विकास


अब आपकी पत्नी का पेट ऊपर और बाहर बढ़ने के साथ साथ बहुत बड़ा महसूस होगा। गर्भावस्था के सप्ताह दर सप्ताह विकास में आपको यह भी लगेगा कि उनका पेट लगभग पसलियों के पिंजरे पर है, जो उन्हें गहरी सांस लेने में मुश्किल कर सकता है।

आपकी पत्नी अपने भारी पेट के साथ कुछ असुविधा का सामना कर सकती हैं; उदाहरण के लिए एक साधारण करवट लेने के लिए काफी प्रयास की आवश्यकता हो सकती है!
लेकिन फिर भी, वह आप के बच्चे के लिए यह सब कर रही है, तो इस मुश्किल समय मे उनका साथ दीजिये!



भावनात्मक विकास


प्रसव-वेदना को ले कर आपकी पत्नी की प्रसवपूर्व चिंता अब बढ़ेगी, क्योंकि अब प्रसव की तिथि करीब आ रही है। ज्यादातर महिलाओं के लिए, यह वास्तव में अज्ञात का डर है जो उन्हें डराता है।

भरोसेमंद वेबसाइटों और पुस्तकों पर प्रसव-वेदना और जन्म देने के बारे में पढ़ना मदद कर सकता है। हम बेबी चक्रा में ऐसा ही काम करते हैं।

आपकी पत्नी साथी गर्भवती महिलाओं या अनुभवी माताओं के साथ इन चीजों पर चर्चा कर सकती हैं लेकिन फिर सुनिश्चित करें कि वह अपने मामले की तुलना उनके साथ नहीं करें क्योंकि कोई भी दो महिलाएं समान नहीं हैं, इसलिए कोई भी दो जन्म समान नहीं हो सकते है।

चिंता आपकी पत्नी को चिड़चिड़ा कर सकती है। कभी-कभी, ये मूड स्विंग हार्मोनल परिवर्तनों के कारण हो सकते है, क्योंकि उनका शरीर जन्म के लिए तैयारी कर रहा है।



खतरे की घंटी


उन्हें चलते समय सावधान रहने को कहे क्योंकि आपकी पत्नी का गुरुत्वाकर्षण केंद्र अब स्थानांतरित हो रहा है और उनके पैरों में थोड़ी सी लड़खड़ाहट आ सकती हैं। गिरावट की संभावनाओं को कम करने के लिए उनका फर्म स्ट्राप के साथ आरामदायक जूते पहनना बेहतर होगा।



बड़ी बूढ़ी औरतों की कहानियाँ


कई लोग अब आप दोनों को एक मिथक के बारे में चेतावनी दे सकते हैं कि गर्भावस्था के आठवें महीने में पैदा हुए बच्चे जीवित नहीं रहते हैं। बहुत ज्यादा तनाव न लें, सातवें महीने के बाद पैदा होने वाले बच्चे आमतौर पर अच्छा करते हैं। हालांकि, देय तिथि के करीब जन्मे गए बच्चे को कम जटिलताएं होती हैं, इसलिए इस अवधि को पूरा करना आदर्श है।

 

#garbhavastha

Pregnancy

आपकी पत्नी की गर्भावस्था

Leave a Comment

Comments (37)



ANKIT Parmar

बहुत खूब लिखा गया है

राहूल अवधिया

मेरी पत्नी पैरो मे होने वाले दर्द से और पसलियो मे द्रद से बेहद परेसान हैसलाह दे

Mohan Diwan

क्या BabyChakra मेरी मदद कर सकता है?

Shishti Katariya

बहुत अचछा लिखा है

Ashish Gond

My wife ka kamr pen hota hai

Danesh lodhi

बहुत खूब लिखा गया है

khemra jajgalle

इससे मुझे बहुत मदद मिली!

Arjuna Jaga

Good suggestion

Lordsun Dusuja

बहुत खूब लिखा गया है

ravi shankar

पैरों में बहुत दर्द होता है

Jyoti Manoj Fulpagare

मुझे इस लेख की ही तलाश थी!

OM, AYUSH BAGDI

Very nice SAJITION

Jai Shree Krishna

It is very important ...

Santosh Bakure

Mujhe behat Khushi he ke me meri waif ko uske shuru hone wale week ke bare me apke teeps pad kar batata hu or wo Sahi tarike se follow Karti h 🙏🙏🙏🙏

Ashish Soni

इससे मुझे बहुत मदद मिली!

असीम कुमार नाग

मुझे इस लेख की ही तलाश थी!

Vishal ohal

इससे मुझे बहुत मदद मिली!

Mrityunjay Mandal

बिलकुल सही समय पर आया यह लेख!

priya

Thanku,good suggestions

Kuldeep Kashyap

बहुत खूब लिखा गया है

Ismail Khan

Thanks sir

Ram Prakash

मेरी पत्नी के पेट पर लाल निशान जो की काफी लाल हे बिल्कुल खून की तरह कोई दिक्कत वाली बात तो नहीं

MAKWANA Bharatbhai dhirajlal

बहुत खूब लिखा गया है

Rathore Dabri

पढ़ने में बड़ा मज़ेदार है!

TH. REENU CHAUHAN

बहुत ही बढ़िया आर्टिकल है।

Tarika

बहुत खूब लिखा गया है

Rahul Gupta

इससे मुझे बहुत मदद मिली!

jay Yadav

Kegeelass yoga poj kya hai

कमलेश कुमार रेणु कुमारी

बढिया जानकारी पुर्ण आर्टिकल

कमलेश कुमार रेणु कुमारी

केगेल्स व्यायाम के बारे में विस्तार से बतायें

Recommended Articles