एमआर वैक्सीन के बारे में जो कुछ आपको पता होना चाहिए

cover-image
एमआर वैक्सीन के बारे में जो कुछ आपको पता होना चाहिए

स्कूलों में एमआर वैक्सीन अभियान

 

एमआर वैक्सीन क्या है?

यह मीज़ल और रूबेला का टीका है

 

कब दिया जा रहा है?

स्कूल के बच्चों को २७ नवंबर और अगले ५ सप्ताह के बीच किसी भी समय दिया जाएगा। प्रत्येक स्कूल का एक अलग दिन होगा। स्कूल जाने के लिए बहुत छोटे बच्चो को निकटतम आंगनवाड़ी और नगरपालिका या सरकारी औषधालयों से ये टीका प्राप्त होगा।

 

मीसल्स का महत्व क्या है?

मीज़ल बचपन की संक्रामक बीमारी है जो उच्च बुखार, खांसी और गंभीर चकत्ते का कारण बनती है। इस बीमारी के बाद जटिलताओं में उच्च दर की वृद्धि होती है। इनमे निमोनिया, गैस्ट्रोएंटेरिटिस, कुपोषण शामिल हैं।

 

रुबेला का महत्व क्या है?

रूबेला को जर्मन मीसल्स भी कहा जाता है। यह बुखार और दाने के साथ बचपन की बीमारी भी है। यह एक गर्भवती महिला के बच्चे के लिए हानिकारक है। वह बच्चा मोतियाबिंद, अंधापन, बहरापन, मानसिक मंदता, हृदय रोग से ग्रषित हो सकता है। इसे जन्मजात रूबेला सिंड्रोम कहा जाता है।

 

यह टीका कितनी बार दी जाएगी?

इस राष्ट्रीय कार्यक्रम में सिर्फ एक बार दी जाएगी

 

उन लोगों के बारे में क्या जिन्होंने पहले एमएमआर टीका प्राप्त की है?

९ महीने से १५ साल के बच्चो को अभी भी दिया जाएगा

 

क्या होगा अगर उस दिन कोई बच्चा बीमार हो और स्कूल में नहीं जा सके।

बच्चे के ठीक होने के बाद यह स्थानीय नगर डिस्पेंसरी या आंगनवाड़ी केंद्र में बाद की तारीख में दिया जा सकता है।

 

इसका मूल्य कितना होगा?

यह पूरी तरह से मुफ़्त होगा।

 

क्या हम इसे अपने स्थानीय परिवार चिकित्सक या बाल रोग विशेषज्ञ द्वारा दे सकते हैं?

नहीं, इसे केवल निर्दिष्ट केंद्रों में ही देना होगा।

 

हम इस टीका की सुरक्षा के बारे में चिंतित हैं।

यह एक बहुत ही सुरक्षित और प्रभावी टीका है।

 

  • यह पिछले ४० वर्षों से सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा निर्मित है और सभी डॉक्टरों ने इन टीकों का उपयोग पहले किया है।
  • प्रशिक्षित नर्स इसे प्रशासित करेंगे
  • प्रत्येक केंद्र में प्रशिक्षित नर्स, डॉक्टर, सरकारी अधिकारी और स्कूल शिक्षक और प्रिंसिपल भी उपस्थित होंगे।
  • सिरिंज एकल उपयोग होगा, वे एक ही उपयोग के बाद स्वचालित रूप से नष्ट हो जाते हैं।
  • किसी भी दुर्घटना के लिए सभी आपातकालीन तैयारी की जाती है।
  • सभी बाल चिकित्सक और अन्य अस्पताल आपात स्थिति को संभालने के लिए तैयार होंगे।

 

इसके क्या दुष्प्रभाव हैं?

आम तौर पर दुष्प्रभाव बहुत हल्के होते हैं और वे स्थानीय दर्द, सूजन और लाली और बुखार होते हैं। इसका पेरासिटामोल और स्थानीय बर्फ फॉमेन्टेशन के साथ इलाज किया जा सकता है। ये दुष्प्रभाव सभी टीकाकरणों के लिए आम हैं।

 

तो आप टीका लेने की सलाह देते हैं?

हाँ, कृपया आगे बढ़ें और ये वैक्सीन लें। यह सुरक्षित और प्रभावशाली है।

 

#vaccination #mrvaccine
logo

Select Language

down - arrow
Personalizing BabyChakra just for you!
This may take a moment!