• Home  /  
  • Learn  /  
  • यह क्यों होता है – गर्भपात के लक्षणों और उदासीसे कैसे निपटे।
यह क्यों होता है – गर्भपात के लक्षणों और उदासीसे  कैसे  निपटे।

यह क्यों होता है – गर्भपात के लक्षणों और उदासीसे कैसे निपटे।

4 Jan 2019 | 1 min Read

Preeti Athri

Author | 117 Articles

अगर बिस (20) हफ्तों के अंदर अगर भ्रूण कोख में मर जाता है, उस अवस्था को गर्भपात या गर्भस्राव कहते है। ज्यादातर गर्भपात १२ हफ्तों में होता है और उनमे से कुछ तो १३ से १९ हफ़्तों के बिच में ही (तिमाही/तीसरे महीने) में होता है। सभी गर्भधारणा में १०-१५% गर्भस्राव में समाप्त हो जाते है।

 

ज्यादातर महिला अपने गर्भस्राव होने पर गर्भवस्था से परिचित होती है। इस  सलेख में, हम गर्भपात के लक्षणों, इसके पीछे के कारणों, गर्भपात के दौरान अवसाद और शुरुआती गर्भपात के संकेतों का सामना करने के तरीके के बारे में बात करेंगे।

 

गर्भपात का एक महत्वतपूर्ण कारण – गुणसूत्रों की समस्या

कोशिकाओं में गुणसूत्र जीन की पकड़ होती हैं, जो आनुवंशिकता की मूल इकाई हैं। प्रत्येक व्यक्ति में गुणसूत्रों के 23 जोड़े या 46 होते हैं। एक जोड़ी बनाने के लिए एक बच्चा अपनी माँ से एक गुणसूत्र प्राप्त करता है और एक अपने पिता से प्राप्त करता है।कभी-कभी, एक निषेचित अंडे (या भ्रूण) में गुणसूत्रों की गलत संख्या हो जाती है, जिससे गर्भपात हो जाता है।

 

भ्रूण की मृत्यु

इस मामले में, भ्रूण आगे विकसित करने में असफल रहता है और मर जाता है।

अभिशप्त डिंब

एक डिंबित डिंब के मामले में, भ्रूण अपने विकास के स्थान पर, अर्थात् गर्भाशय में प्रत्यारोपित हो जाता है, लेकिन एक बच्चे में विकसित नहीं होता है। योनि से गहरे भूरे रंग का रक्तस्राव और एक फूला हुआ डिंब यह गर्भपात के शुरुआती लक्षणों में से एक है। एक बार जब यह शुरू होता है, मतली की भावना, भारी स्तन और अन्य प्रारंभिक गर्भावस्था के संकेत गायब हो जाते हैं।

 

अनुवादन

एक गुणसूत्र का एक हिस्सा कभी-कभी दूसरे गुणसूत्र में चला जाता है। इससे भ्रूण के विकास में असामान्यताएं पैदा होती हैं।

 

गर्भाशय और गर्भाशय ग्रीवा के साथ समस्याएं

 

गर्भाशय और गर्भाशय ग्रीवा के साथ होनेवाली समस्याएं भी गर्भपात का कारण है।

 

फाइब्रॉएड

 

फाइब्रॉएड गर्भाशय पर वृद्धि है जो अंतरिक्ष को कम कर सकते हैं और बढ़ते बच्चे के लिए कम जगह छोड़ सकते हैं। गर्भवती होने से पहले अगर आपके अंतरिक्ष में फाइब्रॉएड हैं, तो आपका डॉक्टर सर्जरी के माध्यम से उन्हें हटाने का सुझाव दे सकते है।

 

एशरमन सिंड्रोम

 

एशरमैन सिंड्रोम में, गर्भाशय की आंतरिक परत में निशान या निशान ऊतक विकसित होते हैं। इससे शिशु की वृद्धि बाधित हो सकती है। इस मामले में भी, डॉक्टर से पहले पता लगाने पर सर्जरी के माध्यम से हटाने का सुझाव दे सकते हैं।

सेप्टेट गर्भाशय

 

कुछ महिलाओं में एक पेशी की दीवार हो सकती है जो गर्भाशय को अलग करती है। गर्भवती होने की कोशिश करने से पहले इसे हटाने की आवश्यकता हो सकती है।

 

जन्मजात गर्भाशय असामान्यता

 

इसका मतलब है कि आप एक ऐसे गर्भाशय के साथ पैदा हुए हैं जिसका आकार या संरचना असामान्य है। सेप्टेट गर्भाशय भी इसी श्रेणी में आता है। इस स्थिति के कारण बार-बार गर्भपात हो सकता है।

 

अक्षम गर्भाशय ग्रीवा

 

जब गर्भाशय ग्रीवा मार्ग या जन्म मार्ग समय से पहले खुलता है। यह सामान्यत: दूसरी तिमाही में हो सकता है क्योंकि एक खोला हुआ गर्भाशय ग्रीवा भ्रूण को बाहर धकेलता है, जिससे गर्भपात हो जाता है। उसे एक अक्षम गर्भाशय ग्रीवा कहते है।

 

संक्रमण

 

यौन संचारित रोग (एसटीडी) और गंभीर विषयुक्त भोजन भी गर्भावस्था के नुकसान का कारण बन सकती है। इस तरह के संक्रमण रक्त और गर्भाशय में फैल सकते हैं और गर्भपात का कारण बन सकते हैं। यदि आपको लगता है कि आप गर्भवती हैं और एसटीडी से पीड़ित हैं, तो आपके डॉक्टर को तुरंत सूचित करने की आवश्यकता है।

 

गर्भपात के लक्षण और उनसे कैसे संभले

 

गर्भावस्था के दौरान बच्चे को खोना एक बहुत ही बुरा अनुभव होता है, भले ही वह शुरुआती अवस्था में हो। प्रारंभिक गर्भपात के संकेतों को याद करना मुश्किल है क्योंकि उनमे शामिल है आगे दी गए कई लक्षण:

 

योनि से रक्तस्राव या रक्त का धब्बा

 

शुरवाती दिनों में किसी स्पॉट या भूरे या गहरे लाल रंग का निकलना सुरु हो जाता है। यह प्रवाह शुरवाती दिनों के तुलना में भारी हो सकता है, पर यह आपके गर्भवस्था चरण पर निर्भर करता है।

 

ऐंठन (क्रैम्प्स)

 

पेट में ऐंठन उन मिसकैरेज लक्षणों में से एक है जिनसे बचना मुश्किल है। आप अपनी अवधि के दौरान पेट में तीव्र ऐंठन का अनुभव कर सकते हैं।

 

गर्भपात के शुरुआती लक्षणों से कैसे निपटा चाहिए

ऊपर सूचित किये गए लक्षण सामान्यत: नॉर्मल प्रेगनेंसी के शुरवाती कालावधि में भी हो सकते है। अगर यदि आप रक्तस्राव या धब्बा देखते है तो आगे दिए गए सुझाव पर ध्यान दे:
१. ब्लीडिंग होने के बाद काम से काम एक बार डॉक्टर से मिले.
२. सैनिटरी नैपकिन का उपयोग करे जिससे डॉक्टर को जांच करने मई आसानी हो।
३. डॉक्टर के सलाह लिए बिना किसी दवाई का सेवन ना करे।

 

गर्भपात के बाद आनेवाली उदासी के लक्षण

प्रेग्नेंट होने के बाद का गर्भपात बहुत ही बड़े शॉक के स्वरुप में आता है। बच्चा खोने के बाद यह जरुरी है की आप इसके बारे में बात करे और मदत ले। मगर इन सबसे पहले गर्भपात के बाद आनेवाली उदासी के लक्षणों को जान लेना जरुरी है।

चिड़चडापन आना या निराश महसूस करना
उदास, खालीपन या निराश महसूस करना
अधिकतर सभी नियमित कामो में रूचि आना या आनंद ना आना
असामान्य रूप से थकान महसूस करना
बहुत कम या बहुत ज्यादा सोना
बहुत कम या बहुत ज्यादा खाना
बेचैनी महसूस होना,
बेकार या दोषी महसूस करना
चीजों को याद रखने में कठिनाई, और ध्यान केंद्रित ना करना
मृत्यु या आत्महत्या के विचार
आत्महत्या के प्रयास करना
यादृच्छिक दर्द और दर्द जो नहीं जाना

अगर ऊपर दिए गए ५ या अधिक लक्षण दो हफ्तों से ज्यादा अगर किसी महिला में पाए जाये तो उसे ठीक होने के लिए किसी मनोवैज्ञानिक या डॉक्टर की आवश्यता है।

गर्भपात से निपटना

मिसकैरेज में आने वाला गुस्सा, उदासी ये सामान्य अनुभव है। मगर ज्यादातर गर्भपात का अनुभव वाली महिलाये भविष्य में स्वस्थ गर्भवस्था का से गुजरती है। मित्रों और परिवार के साथ इससे बाहर आना, आशा को बनाए रखना, अप्रिय अनुभव और अपराध-बोध से निपटने में मदद कर सकता है। हालांकि, अगर डेप्रेशन गंभीर है, तो डॉक्टर की सिफारिश कर सकते हैं:

स्वस्थ भोजन करना और समय पर सोना, और शरीर को ठीक करने के लिए आराम की अवधि के बाद व्यायाम करना

एंटीडिप्रेसेंट का उपयोग अवसाद के लक्षणों को कम करने के लिए करना

स्वस्थ तरीके से दु: ख का सामना करने के लिए मनोचिकित्सक की मदद लेना

इलेक्ट्रोकोनवल्सी थेरेपी (ईसीटी), जिसका अर्थ है कि आपके मस्तिष्क में हल्के बिजली की धाराएं लगाना लेकिन इसका उपयोग अवसाद के गंभीर मामलों के इलाज के लिए किया जाता है

कई बार, दंपति को एक साथ परामर्श करने की आवश्यकता होती है, यहां तक ​​कि पुरुष गर्भ में बच्चे के खोने पर भी दुःख महसूस करता है। लेकिन ऐसे समय में एक-दूसरे का साथ देना इस कठिन समय से उभरने के लिए मदत करता है।

आप गर्भपात के तुरंत बाद दूसरे बच्चे के लिए प्रयास करने के लिए भावनात्मक रूप से तैयार नहीं हो सकती हैं, लेकिन पति और पत्नी में से किसी एक को यह याद रखना चाहिए कि, शरीर में एक और स्वस्थ गर्भावस्था के लिए जगह बनाना और खुद को तैयार करने के लिए अनोखे तरीके हैं। तो एक दंपति अपना समय ले सकता है, जिससे शारीरिक और मानसिक दोनों रूप से अपने स्वास्थ्य का ख्याल रख सकता है और गर्भावस्था  को एक और शॉट दे सकता है।

 

#babychakrahindi

like

48.2K

Like

bookmark

60

Saves

whatsapp-logo

6.0K

Shares

A

gallery
send-btn

Related Topics for you

ovulation calculator
home iconHomecommunity iconCOMMUNITY
stories iconStoriesshop icon Shop