डिलीवरी के बाद पोषक आहार में इन खाद्य पदार्थो को शामिल जरूर करें

cover-image
डिलीवरी के बाद पोषक आहार में इन खाद्य पदार्थो को शामिल जरूर करें

 

डिलीवरी के बाद आपके जीवन में एक रोमांचक समय की शुरुआत हो जाती है। एक नई माँ के रूप में, आप अपने बच्चे से संबंधित कई काम करते है। शिशु की देखभाल करना, बेशक, आपका मुख्य काम है, लेकिन यह आवश्यक है कि इस प्रक्रिया में खुद की ना भूले। डिलीवरी के बाद एक पौष्टिक आहार का पालन करके जिससे आप अपने बच्चे का और अपनी देखभाल अच्छे से कर सकते है।

 

यदि आप स्तनपान करा रहे हैं, तो आपको एक दिन में लगभग 300 अतिरिक्त कैलोरी की आवश्यकता होगी। संतुलित आहार खाने और मसालेदार, तैलीय खाद्य पदार्थों से परहेज करना चाहिए। इसके अलावा, विटामिन और खनिज, प्रोटीन, लोहा, कैल्शियम और ओमेगा -3 फैटी एसिड से भरपूर खाद्य पदार्थ खाएं। यह सब आपको बच्चे के जन्म से उबरने में मदद करेगा और आपके बच्चे को पालने के लिए जरूरी पोषण देगा।

 

हमने आपकी डिलीवरी के बाद की अवधि के लिए 15 सुपरफूड्स यानि की पोषक से भरपूर एक सूची बनाई है। सुनिश्चित करें कि आप उन्हें प्रसव के बाद कम से कम तीन महीने अपने दैनिक आहार में शामिल करें।

 

दुग्ध उत्पाद

 

अपने आहार में दूध और दही जैसे कम फैक्ट्स वाले दूध उत्पादों के काम से काम तीन कप शामिल करें। ये प्रोटीन, कैल्शियम और विटामिन बी से भरपूर होते हैं।

 

पीली मूंग की दाल

 

दालों के बीच, डिलीवरी के बाद आहार के हिस्से के रूप में डॉक्टरों द्वारा पीली मूंग की दाल की ज्यादा सिफारिश की जाती है क्योंकि यह पचाने में आसान होती है। दाल शरीर में फैक्ट्स के संचय को भी रोकती हैं।

 

रागी

 

बाजरा या रागी (नाचनी) बहुत फायदेमंद है क्योंकि यह आपको नए सिरे से डिलीवरी के बाद ताकत देगा।

 

जई

 

जई आयरन और कैल्शियम से भरपूर होता है, ओट्स में फाइबर की भी अच्छी मात्रा होती है जो कब्ज से दूर रखता है।

 

हरे पत्ते वाली सब्जियां

 

हरी पत्तेदार सब्जियां जैसे कि पालक और ब्रोकोली बहुत जरूरी हैं क्योंकि वे विटामिन ए और सी, फोलिक एसिड, आयरन, कैल्शियम और फाइबर से भरपूर होती हैं।

 

लौकी

 

लौकी में 90% से अधिक पानी होता है और यह जलयोजन के लिए उत्कृष्ट है, दूध की आपूर्ति बढ़ाने के लिए और साथ ही वजन कम करने के लिए।

 

सहजन (ड्रमस्टिक) के फायदे

 

सहजन का उपयोग करके सूप और करी बनाएं क्योंकि प्रसव के तुरंत बाद इनका सेवन फायदेमंद होता है। वे विटामिन ए, बी और सी, कैल्शियम, आयरन और प्रोटीन से भरपूर होते हैं।

 

खट्टे फल

 

संतरे और अन्य खट्टे फल अपने उच्च विटामिन सी सामग्री की वजह से नर्सिंग माताओं के लिए विशेष रूप से अच्छे हैं।

 

मेंथी

 

मेथी के बीज (मेथी) का एक चम्मच सेवन जो रात भर पानी में भिगोया गया है, न केवल स्तनपान को बढ़ाता है, बल्कि वजन घटाने को भी बढ़ावा देता है।

 

अजवाइन

 

कैरम के बीज (अज्वैन) एक और विशेष पदार्थ हैं। यह दूध उत्पादन को प्रोत्साहित करते हैं और गर्भाशय अनुबंध की मदद करते हैं। इसके अलावा, कैरम बीज के साथ उबला हुआ पानी पीने से अपच और गैस के कारण होने वाले दर्द से राहत मिलती है। यह उन्हें प्रसव के बाद आहार का एक आवश्यक घटक है।

 

सूखी अदरक

 

सूखी अदरक (सौंठ) एक और आम प्रसवोत्तर आहार सामग्री है। आप करी में एक चुटकी जोड़ सकते हैं क्योंकि यह विटामिन और खनिजों से भरपूर है और इससे शरीर पर सूजन नहीं आती हैं।

 

लहसुन

 

लहसुन स्तन के दूध के उत्तेजित करता है। यह उन बीमारियों के प्रति प्रतिरोधक क्षमता बनाने में भी मदद करता है जो नई माताओं के लिए अतिसंवेदनशील होती हैं।

 

हल्दी

 

हल्दी में जखम को भरने के गुण होते हैं। यह वजन घटाने में यकृत विषाक्तता और एड्स को भी कम करता है।

 

बादाम

 

जब भी आपको भूख लगे एक मुट्ठी बादाम खाएं। एक अच्छी मात्रा में ऊर्जा बढ़ने के लिए और पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं।

 

गोंड

 

प्रसव के बाद खाद्य गोंद (गोंड) को अपने आहार में शामिल करना चाहिए क्योंकि यह स्तनपान को बढ़ावा देता है। यह सर्दियों के दौरान शरीर को गर्म रखने में भी मदद करता है।

 

महत्वपूर्ण टिप

 

पानी, दूध और फलों के रस जैसे तरल पदार्थों का अधिक सेवन करें, लेकिन कैफीनयुक्त पेय  से बचें। जलयोजन के लिए तरल पदार्थ महत्वपूर्ण हैं जो दूध के उत्पादन को बनाए रखने और आपकी ऊर्जा के स्तर को बढ़ाने में मदद करेंगे।

 

स्वस्थ रहें और अपने जीवन के इस विशेष अवधि का आनंद लें।

 

#babychakrahindi
logo

Select Language

down - arrow
Rewards
0 shopping - cart
Personalizing BabyChakra just for you!
This may take a moment!