क्या आप गर्भावस्था अनिद्रा के कारण व उपाय जानते हैं?

cover-image
क्या आप गर्भावस्था अनिद्रा के कारण व उपाय जानते हैं?

अनिद्रा एक ऐसी स्थिति है जब आपको जागते हुए , सोते हुए, या दोनों में कठिनाई होती है। आपको ज्यादा चिंता नहीं करनी चाहिए क्योंकि इस प्रकार की अनिद्रा शिशु के लिए हानिकारक नहीं है, लेकिन यह आपको दुखी कर सकती है। इस समय के दौरान बार-बार वॉशरूम का जाना , सीने की जलन , और दबाव के कारण आपको अनिद्रा का शिकार बनाना पड़ता है।

 

गर्भावस्था अनिद्रा के कारण:

 

• तनाव से संबंधित कारण जैसे कि प्रसव और प्रसव के बारे में चिंता से नींद न आना।
• पेट के निचले हिस्से पर दबाव पड़ने के कारण पीठ में दर्द होता है, जो रात में आपको जगाए रख सकता है।
• गर्भावस्था आपके मूत्राशय को कमजोर करती है और बार बार लू जाने के कारण नींद की हानि होती है।
• इस अवधि के दौरान मतली या उल्टी भी गर्भावस्था अनिद्रा के लिए एक प्रमुख कारण है।


यहाँ गर्भावस्था अनिद्रा के इलाज के कुछ तरीके दिए गए हैं जिन्हें प्रभावी माना जाता है:

 

 

अपने आप को आराम दें


ध्यान और योग का अभ्यास करें जैसे कि गहरी साँस लेना जो आपको आराम करने में मदद करेगा। आप ध्यान में मंत्रोच्चारण भी कर सकते हैं और अपने मन को शांत कर सकते हैं। यह आपकी चिंता को नियंत्रण में रखने में आपकी मदद करेगा। किसी भी गतिविधि के माध्यम से आराम प्राप्त किया जा सकता है जो आपकी नसों को आराम दे जैसे पढ़ना या टहलना।

 

 

सोने का समय बनाएं


अच्छी नींद की आदतों की स्थापना गर्भावस्था अनिद्रा को कम करने के सबसे प्रभावी तरीकों में से एक है। हर रात एक ही समय पर बिस्तर पर जाने की कोशिश करके शुरुआत करें। कुछ आराम के साथ अपनी दिनचर्या शुरू करें (जैसा कि ऊपर बताया गया है)। सुखदायक स्नान करने से भी मदद मिलती है। बस इतना ध्यान रखें कि तापमान बहुत गर्म न हो क्योंकि यह शिशु के लिए हानिकारक हो सकता है।

 

 

स्क्रीन समय से बचें

 

टीवी, आपके मोबाइल फोन, या टैबलेट से नीली रोशनी आपके शरीर की सर्कैडियन लय पर प्रभाव डाल सकती है। इसलिए बिस्तर पर जाने से पहले इलेक्ट्रॉनिक चीजों से बचना बेहतर है। मोबाइल फोन के विकल्प के रूप में सुखदायक संगीत और पुस्तकों का उपयोग करें। यह आपके दिमाग को शांत करने और नींद को रोकने में आपकी मदद करेगा। दिन के दौरान सक्रिय रहें ताकि आप रात में आराम कर सकें।

 

आहार में परिवर्तन

 

खासकर शाम के बाद कैफीन युक्त पेय लेने से बचें। दिन में खूब पानी पिएं। एक स्वस्थ रात्रि भोज लें, लेकिन सीने की जलन से बचने क लिए इसे धीरे-धीरे खाएं । रात का खाना जल्दी खाने से भी मदद मिल सकती है, लेकिन सुनिश्चित करें कि आप भूखे पेट सोने न जाएँ। अगर आपको शाम को देर तक कुछ काम करने की ज़रूरत है, तो एक स्वस्थ और हल्का नाश्ता खाएं। एक गिलास गर्म दूध आपको अच्छी नींद लेने में मदद कर सकता है।

 

चिंताएं दूर रखो!

 

इस समय के दौरान चिंता करना सामान्य है लेकिन यह आवश्यक है कि आप अपनी चिंताओं को स्वस्थ तरीके से संबोधित करें। अपनी चिंताओं की एक सूची बनाने की कोशिश करें और संभावित समाधानों के बारे में सोचें। यदि यह किसी ऐसी चीज के बारे में चिंता है जिसे आप टाल नहीं सकते हैं, तो इसे स्वीकार  करके खुद को शांत करें। इसमें समय लग सकता है लेकिन यह आपके सोने के तरीके पर नियंत्रण पाने में आपकी मदद करेगा।

 

यह भी पढ़ें: प्रेगनेंसी में इन वजहों से होता है कमर दर्द और इसे ऐसे कम किया जा सकता है

 

#babychakrahindi
logo

Select Language

down - arrow
Personalizing BabyChakra just for you!
This may take a moment!