स्तनपान के लिए आयुर्वेद का महत्व

cover-image
स्तनपान के लिए आयुर्वेद का महत्व

मानसिक तनाव , नींद पूरी न होना और खाने में पोषक तत्वों की कमी स्तन दूध की कमी का कारण बन सकती है। दुनिया की समय की सबसे पुरानी चिकित्सा प्रथा आयुर्वेद ने हमेशा से नई माओं को स्तनपान का महत्व समझाने का प्रयास करना है क्यूंकि माँ का दूध बच्चे की रोगप्रतिरोधक शक्ति को मजबूत बनाता है और रोगों से लड़ने के लिए तैयार करता है। जैसे हमारा शरीर तीन दोषों (वात , कफ ,पित्त ) से प्रभावित होता है , वैसे ही स्तन दूध भी इससे प्रभावित होता है। इसलिए जो भी एक माँ खाती है उसका असर स्तन दूध पर पड़ता है।



झंडू हमेशा से आयुर्वेद को जीवन के लिए उपयोगी मानता आया है और मानव शरीर पर होने वाले इसके प्रभाव को जानता रहा है। आज बहुत से विशेषज्ञ लम्बे समय तक स्तनपान करने का सुझाव देते हैं और इसी के साथ आयुर्वेदिक दवाओं के सेवन की राय भी साझा करते हैं। आयुर्वेदिक जड़ी बूटी  और दवाइयां अगर एक सकुशल आयुर्वेदिक चित्सिक की सलाह और सतुंलित खान पान के साथ ली जाएँ तो एक गर्भवती महिला और उसके होने वाले बच्चे , प्रसवोत्तर जुडी तकलीफों और स्तन दूध को बढ़ाने में काफी लाभकारी साबित हो सकता है।

 

आयुर्वेद के ज़रिये अच्छे स्वास्थ्य और स्तनपान के लिए झंडू ने प्राचीन आयुर्वेदिक जड़ी बूटी  ' सतावरी ' के जादुई तत्वों को स्तनपान कराने वाली और भावी माओं के लिए मिलाया है।

 

क्या है झंडू स्त्रीवेदा सतावरी लैक्टेशन परिशिष्ट

 

झंडू स्त्रीवेदा सतावरी लैक्टेशन परिशिष्ट में है सतावरी का चूर्ण। एक पुरानी भारतीय जड़ी बूटी जो बहुत ही अमूल्य है।  यह दूध बनने की प्रकिया को तेज करता है , साथ ही एंटीऑक्सीडेंटस होता है और साथ दूध के प्राकृतिक तरीके से बनने में मदद करता है।

 

चिकित्सा प्रतिशोधों में देखा गया है जो महिलाएं सतावरी का सेवन करती हैं उनमें प्रोलैक्टिन हॉर्मोन की मात्रा ज़्यादा होती है जो की दूध की मात्रा बढ़ाने में सहायक होता है। ये निष्कर्ष दो अलग समूहों पर किये गए टेस्ट की तुलना के बाद निकला। एक समूह को सतावरी दिया गया और दूसरे समूह को चावल का चूर्ण जो की स्तनपान में मदद करता है। परिणाम स्वरुप तुलनात्मक विश्लेषण से पता चला की सततवारी का सेवन करने वाली माओं के स्तन दूध में ३२ प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हुई ,जबकि दूसरे समूह में ये बढ़ोत्तरी बस ९ प्रतिशत हुई।



कौन सेवन कर सकता झंडू स्त्रीवेदा सतावरी लैक्टेशन परिशिष्ट का ?

 

सतावरी चूर्ण का सेवन कोई भी कर सकता है , झंडू स्त्रीवेदा सतावरी लैक्टेशन परिशिष्ट बहुत सुरक्षित है और इसका सेवन :

 

गर्भवती महिलाएं

 

अगर आप माँ बनने वाली है तो झंडू स्त्रीवेदा सतावरी लैक्टेशन परिशिष्ट का सेवन आपके लिए और भ्रूण के लिए बहुत लाभकारी होता है। यह एक एंटी-ऑक्सीडेंट के रूप में कार्य करता है और ऑक्सीडेटिव क्षति का प्रतिकार करता है जो शरीर के अंदर मुक्त कणों के कारण हो सकता है। यह भ्रूण के डीएनए पर होने वाले हमलों को नियंत्रित करने में मदद करता है और नुकसान जो जन्म दोष के रूप में प्रकट हो सकता है। यह शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में भी मदद करता है। इस प्रकार यह माँ और भ्रूण दोनों का पोषण करता है।

 

स्तनपान करने वाली मायें

 

स्तन का दूध निर्विवाद रूप से एक बच्चे का सबसे अच्छा रूप या पोषण है। इसके महत्व पर पर्याप्त जोर नहीं दिया जा सकता है। सुरक्षित रूप से एकमात्र भोजन माना जाता है जब तक कि बच्चा 6 महीने का नहीं होता है, यह अक्सर होता है कि कई महिलाएं अपने नवजात शिशु को खिलाने में सक्षम होने की खुशी से इनकार करती हैं। वास्तव में, डब्ल्यूएचओ का सुझाव है कि इष्टतम विकास, विकास और स्वास्थ्य प्राप्त करने के लिए शिशुओं को जीवन के पहले छह महीनों के लिए विशेष रूप से स्तनपान कराया जाना चाहिए। (स्रोत: who.int)

 

एक नई माँ के रूप में, दूध की आपूर्ति को तनाव, नींद की कमी, आहार पोषक तत्वों की कमी या चिकित्सा कारणों से खतरे में डाला जा सकता है। इसके अलावा , सामाजिक दवाब जो स्तनपान करने के लिए डाला जाता है, संभवतः माँ के लिए दूध की आपूर्ति करने के लिए हमारे पास एक निश्चित नुस्खा है।

 

एक माँ जो कम स्तनपान और अपने बच्चे की भूख को शांत करने में असमर्थता से जूझ रही है, के लिए  झंडू स्त्रीवेदा सतावरी लैक्टेशन परिशिष्ट सुरक्षित और स्वस्थ है। यह एक औषधीय जड़ी बूटी है और गैर-हार्मोनल है।  झंडू स्त्रीवेदा सतावरी लैक्टेशन परिशिष्ट में प्रभावी गैलेक्टागॉग लैक्टेशन की प्राकृतिक प्रक्रिया को प्रोत्साहित करने में मदद करता है और बच्चे और माँ दोनों के लिए स्तनपान को एक सुंदर यात्रा बनाते हुए दूध के सहज प्रवाह को बढ़ावा देता है।

झंडू स्त्रीवेदा सतावरी लैक्टेशन परिशिष्ट का सेवन कैसा किया जाता है ?

 

झंडू स्त्रीवेदा सतावरी लैक्टेशन परिशिष्ट का सेवन करने का सबसे सामान्य तरीका पाउडर के रूप में है। एक डॉक्टर के मार्गदर्शन में, एक चम्मच झंडू स्ट्राइवेडा सतवारी लैक्टेशन सप्लिमेंट दिन में दो बार इष्टतम लाभ के लिए दूध या पानी के साथ सेवन किया जा सकता है।






#babychakrahindi
logo

Select Language

down - arrow
Personalizing BabyChakra just for you!
This may take a moment!