बच्चे को कप से पिलाना कब शुरू करें ?

cover-image
बच्चे को कप से पिलाना कब शुरू करें ?

 

अक्सर ये सवाल माता पिताओं को परेशान करता है ,जब बच्चा धीरे धीरे बड़ा होने लगता है। बच्चे को पानी या दूध पिलाने के लिए कप का इस्तमाल कब कर सकतें , बच्चे को कप से क्या क्या सकते हैं , या बच्चे को कप से पीने की आदत कैसे दाल सकतें हैं? इन सभी सवालों के जवाब इस लेख में छुपे हैं। आइये जानते हैं :

 

6 से 12 महीनों के बीच एक खुले कप के साथ अभ्यास शुरू करने का प्रयास करें - कई बच्चे लगभग 6 से 9 महीनों में एक सिप्पी कप से पीने में सक्षम होते हैं, और जब तक आपका बच्चा 12 महीने का हो जाता है, तब तक वह संभवतः बोतल और स्तन दूध को छोड़ देता है।

 

बच्चा बड़ा होते होते नए नए कौशल और गतिविधियों को सीखता है। साथ ही एक और गतिविधि का वह अभ्यास करना शुरू करता है : बिना ढक्कन वाले कप से पीना । बोतल से कप पर स्विच करने में समय लगता है और इसमें निरंतर अभ्यास लगता है।

 

बच्चा कप के लिए कब तैयार होता है ?

 

पहले जन्मदिन के आसपास बच्चे को खुले कप से पीना सीख जाना चाहिए । यह सीखने में बच्चा काफी समय ले सकता है , धैर्य रखे और निरंतर प्रयास करते रहे।

 

अगर बच्चा ठोस खाद्य पदार्थ खाना सीख रहा है, तब एक कप से पीने का अभ्यास करना ठीक है। उसे एक कप से घूंट लेने के लिए सिखाना ,स्तन या बोतल को छोड़ना आसान बनाता है, साथ ही इससे उसे महत्वपूर्ण मोटर कौशल और समन्वय विकसित करने में मदद मिलती है।

 

बच्चा कप से क्या पी सकता है?

 

चाहे एक कप हो या बोतल, आपके बच्चे को पीने के लिए स्तनपान या फार्मूला दूध की जरूरत होती है। बच्चे को कुछ घूंट पानी पिलाना भी ठीक है, लेकिन यह स्तनपान और फॉर्मूला फीड की जगह नहीं ले सकता।

 

आपका बच्चा जूस कब पी सकता है ?

 

दरअसल, आपके बच्चे को जूस या अन्य शक्कर वाले पेय की आवश्यकता नहीं होती है। वास्तव में, अमेरिकन एकेडमी ऑफ पीडियाट्रिक्स के अनुसार “ बच्चे के पहले जन्मदिन से पहले जूस न देने की सलाह दी गयी है क्योंकि शिशुओं द्वारा जूस का सेवन निम्न प्रकार से हानिकारक हो सकता है:

 

खराब पोषण
दाँत खराब होने का खतरा बढ़ जाता है
दस्त, गैस और अफरा का खतरा बढ़ जाता है
पैक्ड जूस के सेवन से बैक्टीरिया के संपर्क में आने का खतरा बढ़ जाता है

बच्चे को असली फलों का रस देना ज्यादा बेहतर है, जिसमें अधिक पोषक तत्व (जैसे फाइबर) और कम चीनी होती है।

 

सिप्पी (सिपर ) कप क्यों न करें इस्तमाल ?

 

कई माता-पिता बच्चों को बोतल के संक्रमण से बचाने के लिए एक सिप्पी(सिपर ) कप का उपयोग करना पसंद करते हैं। लेकिन टोंटीदार सिप्पियों को चूसने की गति, स्तन या बोतल के चूसने की गति के समान होती है ,इसलिए ये बच्चे को नयी तरीके से पीने और नए मोटर कौशल सीखने में मदद नहीं करती।

यदि आप एक सिप्पी का उपयोग करने की योजना बनाते हैं, तो बच्चे के पहले जन्मदिन के आस-पास एक खुले कप तक जाने का लक्ष्य रखें, और एक टोंटी रहित सिप्पी या कप चुनें ।

 

कुछ बातें बच्चे को कप देने से पहले ध्यान रखें

 

अपने बच्चे को एक कप देने से पहले कुछ बातों का ध्यान रखें । बच्चे को रोमांचक तरीके से ये बताने की कोशिश करें की वह अब आपकी तरह कप से पानी या दूध पी सकता है।

१. दूध या पानी फ़ैल सकता है : कोशिश करे शुरुआत में बस कुछ घूंट पानी ही कप में भरकर बच्चे को दे। याद रखे स्तनपान या फॉर्मूला फीड की जगह पानी नहीं ले सकता है ,लेकिन भोजन में कुछ घूंट पानी अभ्यास के लिए अच्छा है।

२. जब वह तैयार हो , तो उसके साथ कप को पकड़ें और उसे धीरे से उसके मुंह तक ले जाएं ताकि वह भोजन के दौरान कुछ घूंटों की कोशिश कर सके।

३. यदि वह कप को दूर धकेलता है, तो चिंता न करें। वह आपको बता रहा है कि वह अब थक गया है ,  इसलिए बाद में फिर से प्रयास करें।

 

#babychakrahindi
logo

Select Language

down - arrow
Personalizing BabyChakra just for you!
This may take a moment!