गर्भावस्था के बाद बालों का झड़ना - कारण और उपचार

cover-image
गर्भावस्था के बाद बालों का झड़ना - कारण और उपचार

बच्चे के जन्म के बाद अक्सर नयी माँयें बालों से जुडी समस्यायों का सामना करती हैं। गर्भावस्था के बाद बालों के झड़ने की स्थिति है, बच्चे के जन्म के बाद छह महीनों बाद कभी भी आ सकती है।आमतौर पर एक दिन में एक व्यक्ति के औसतन 100 बाल तक झड़ना सामान्य माना जाता है ,लेकिन ऐसा एक बार में नहीं होता ,इसलिए आप उन्हें नोटिस नहीं करते हैं। गर्भावस्था के हार्मोन उन बालों को गिरने से रोकते हैं और आपके बाल बहुत घने और मुलायम दिखाई देते हैं ।

गर्भावस्था के बाद बालों के झड़ने का क्या कारण है?

 

आमतौर पर एक दिन में एक व्यक्ति के लगभग 100 बाल तक  झड़ना सामान्य माना जाता है ,लेकिन ऐसा एक बार में नहीं होता ,इसलिए आप उन्हें नोटिस नहीं करते हैं। गर्भावस्था के हार्मोन उन बालों को गिरने से रोकते हैं और आपके बाल बहुत घने और मुलायम दिखाई देते हैं ।

 

गर्भावस्था में लिए जाने वाले विटामिन्स और अन्य पोषक तत्व बालों की सुंदरता और बढ़ा देते है। लेकिन ये दौर खत्म होता है बच्चे के जन्म होने के बाद । अनगिनत ज़िम्मेदारियों में घिरी हुई नयी माँयें , अपनी देखभाल करना भूल जाती हैं। नतीजन रूखे बाल और त्वचा से उन्हें दो चार होना पड़ता है। जब गर्भावस्था के दौरान बढ़ते और बदलते हुए हार्मोन वापस सामान्य हो जाते हैं, तो अतिरिक्त बाल भी गिरना शुरू हो जाते हैं।

 

जबकि स्तनपान को अक्सर बालों के झड़ने के लिए दोषी ठहराया जाता है, लेकिन इस बात के समर्थन में कोई सबूत नहीं है कि स्तनपान ,प्रसवोत्तर अवधि में बालों के झड़ने का कारण बनता है।

 

यह एक लक्षण है जो लगभग सभी माताओं को अनुभव होता है। हालांकि यह स्थिति गंभीर हो सकती है (जिसे पोस्टपार्टम अलोपेसिया कहा जाता है) कुछ बालों का झड़ना सामान्य और प्रसवोत्तर का एक स्वाभाविक हिस्सा है। अधिकांश माताओं को इस लक्षण का अनुभव लगभग तीन महीने के बाद होगा। यह कुछ हफ़्ते या कुछ महीनों तक रह सकता है।

 

एक कारण यह भी है कि जब आप गर्भवती होती हैं तो आपके बाल निष्क्रिय अवस्था में चले जाते हैं और आपके बाल कम होने लगतें हैं। इसे टेलोजेन चरण कहा जाता है। आखिरकार, आपके बाल अगले चरण (टेलोजेन एफ्लुवियम) में चले जाते हैं और गिरने लगते हैं । इसलिए, जब बच्चे का जन्म होता है तो आप उन सभी बालों को खोना शुरू कर देते हैं जो आपने गर्भवती होने पर नहीं खोए थे।


कई महिलाओं के गर्भावस्था के दौरान मोटे और स्वस्थ बाल होते हैं क्योंकि उनके एस्ट्रोजन का स्तर अधिक होता है। बढ़े हुए एस्ट्रोजन स्तर का मतलब है कि बाल अपने बढ़ते हुए चरण में लंबे समय तक बने रहते हैं, जिससे बालों को आराम करने वाले चरण में छोड़ दिया जाता है, यह वह चरण है जिसके दौरान बाल झड़ते जाते हैं।

 


हालांकि गर्भावस्था के बाद बालों के झड़ने को पूरी तरह से रोकने का कोई तरीका नहीं है, लेकिन कुछ उपाय करके इसे कम से कम किया जा सकता है।


अमेरिकन प्रेग्नेंसी एसोसिएशन (APA)

 

APA फलों और सब्जियों से भरपूर आहार की सलाह देती है। इनमें फ्लेवोनोइड और एंटीऑक्सिडेंट के उच्च स्तर होते हैं जो बालों के रोम की रक्षा करके बालों के विकास को प्रोत्साहित करते हैं। जो फल और सब्जियां एंटीऑक्सीडेंट पावर में सबसे ज्यादा होती हैं उनमें ब्लूबेरी, क्रैनबेरी, कीवी, पालक, आर्टिचोक और मिर्च शामिल हैं। एक अच्छी तरह से संतुलित आहार बनाए रखना गर्भावस्था के बाद बालों के झड़ने को कम करेगा।

 

एक महिला के लिए, गर्भधारण से पहले और बाद में स्वास्थ्य बनाए रखना उसके और उसके परिवार के जीवन के कई पहलुओं में दीर्घकालिक लाभ देता है। पोषण की खुराक ऐसा करने में सहायक होती है । APA के अनुसार, एक नई मां को विटामिन बी कॉम्प्लेक्स, सी और ई, बायोटिन और जस्ता के साथ अपने आहार का पूरक होना आवश्यक है। यह विशेष रूप से बालों के झड़ने को कम करने में मदद करेगा। हालांकि, किसी भी पूरक को डॉक्टर से परामर्श के बाद लिया जाना चाहिए, ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि खुराक बहुत अधिक नहीं है। क्योंकि बड़ी मात्रा में लेने पर कुछ पूरक सुरक्षित नहीं हैं।


कुछ ध्यान रखने योग्य बातें :

 

यदि आप बच्चे के जन्म देने के बाद से बाल खो रहे हैं, तो कुछ घरेलू नुस्खे हैं जो आप आज़मा सकतीं हैं :

१. अपने बालों को स्वस्थ रखने के लिए ,अच्छी तरह से संतुलित आहार का सेवन करें और विटामिन पूरक खाद्य पदार्थों का सेवन करते रहें अपने बालों को स्वस्थ रखें।

२. गर्भावस्था के बाद अतिरिक्त बालों के झड़ने को रोकने के लिए गर्भावस्था के दौरान बालों की विशेष देखभाल करें , खासकर की बाल झड़ने के मौसम के दौरान ।

३. आवश्यक होने पर ही शैंपू करें ,और बालों के उलझने को कम करने के लिए एक अच्छे कंडीशनर और चौड़े दांतों वाली कंघी का उपयोग करें।

४. रबर बैंड की बजाय बालों को ऊपर रखने के लिए स्क्रब या बैरेट का उपयोग करें - और बालों को सख्ती से पोनीटेल में न बांधें

५. बालों को ब्लो-ड्रायर्स और कर्लिंग और फ्लैट आइरन करना छोड़ दें, और किसी भी रासायनिक आधारित उपचार (हाइलाइट्स, परमिट, स्ट्रेटनिंग) न करवाएं।

६. यदि आपके बालों का झड़ना अत्यधिक है, तो अपने चिकित्सक से बात करें। जब यह अन्य लक्षणों के साथ होता है, तो गर्भावस्था के बाद बालों का झड़ना प्रसवोत्तर थायरॉयडिटिस का संकेत हो सकता है।


७. अपने बालों को धोने के लिए बहुत गर्म पानी का उपयोग न करें।


कुछ प्रभावी घरेलू उपचार :

 

1 . मेथी के बीज

 

मेथी के दानों को रात भर पानी में भिगो दें। अगली सुबह छलनी में तने हुए तरल से मालिश करें। अपने सिर के चारों ओर एक तौलिया लपेटें और 4 घंटे के लिए छोड़ दें। शैम्पू और कंडीशनर लागएं

 

2. नींबू का रस

 

जैतून का तेल, दौनी, अंडे की जर्दी और नींबू के रस का मिश्रण तैयार करें। बालों की जड़ों पर विशेष ध्यान देते हुए पूरे सिर पर लगाएँ। एक घंटे के लिए छोड़ दें और धो लें।

 

3 . रोज़मेरी या गुलमेहंदी की पत्तियां

 

लगभग 5 मिनट के लिए कुछ पत्तियों को पानी में उबालें। अपने बालों को धोने के लिए उस पानी को ठंडा करें , पत्तियां निकल दें और उस पानी का उपयोग बाल धोने के लिए करें।

 

4 .अंडे की जर्दी

 

सिर पर कच्चे अंडे की जर्दी की मालिश करें और 15 मिनट के लिए छोड़ दें। बालों को धोएं और एक बड़ी दांतेदार कंघी के साथ कंघी करें। प्राकृतिक रूप से सूखने के लिए छोड़ दें। बालों की जड़ों को मजबूत बनाने के लिए सप्ताह में एक बार ऐसा करें।

 

५. अरंडी का तेल

 

बराबर मात्रा में गर्म अरंडी का तेल और बादाम का तेल मिलाएं और हफ्ते में एक बार बालों की मालिश करें।

 

6. बादाम तेल

 

दिन में 2 -3 बार सिर्फ बादाम के तेल की मालिश करने से बालों के झड़ने को रोकने में मदद मिलेगी।

 

7. एलोवेरा

 

नारियल का दूध और एलोवेरा जेल भी बालों के विकास के लिए बहुत अच्छे होते हैं।बालों की मालिश करें और एक घंटे के लिए छोड़ दें और गर्म पानी से धोयें। आप इसे सप्ताह में तीन बार दोहरा सकते हैं।

 

यह भी पढ़ें: बढ़ती उम्र से बचाते हैं ये आसान प्राकृतिक उपाय

 

#babychakrahindi #babychakrahindi
logo

Select Language

down - arrow
Personalizing BabyChakra just for you!
This may take a moment!