बच्चो के लिये महत्वपूर्ण दंत स्वच्छता युक्तिया

cover-image
बच्चो के लिये महत्वपूर्ण दंत स्वच्छता युक्तिया

अपने बच्चे के नये दांतो मे केवीटीस देख कर आप जरूर भयभीत हो जाते होंगे, इस बारेमे सोचकर कि नन्हे नन्हे दांतो के लिये यह कितना दर्द्नाक है.बचपन, केंडी, टोफी ,और आईसक्रीम से भरा होता है.अपने छोटे बच्चे को मीठे खाने से दूर रखना बहुत ही मुश्किल काम है.जाने माने मुहावरे ‘रोकथाम इलाज से बेहतर है’ हमारे बच्चो मे दांतो की सडन होने से से अच्छा हम उसकी देखभाल करले ये बेहतर है.बच्चो के लिये दंत स्वच्छता बनाये रखने के लिये निम्नलिखित उपाये दिये गये है:


बच्चो के लिये दंत स्वच्छता का पहला नियम: रोजाना ब्रश करना और दांत साफ करना बहुत जरुरी है


कम उम्र मे ही शिशु की दंत चिकित्सा शुरू कर देनी चाहिये. बच्चे के पहले दांत के आते ही ब्रश करना चाहिये और केवीटी को पनपने नही देना चाहिये. मसूडो को भी नियमित रूप से साफ करना चाहिये. ध्यान रखे कि बच्चा हर बार खाने के बाद दांत साफ करे. मसूडो को पोछने के लिये एक गिले साफ कपडे का प्रयोग करे.


अपने बच्चे को फ्लोस (दांत साफ) करना सिखाये


फ्लोस(दांत साफ) करना एक छोटे बच्चे के लिये मुश्किल हो सकता है. इसलिये बच्चे को 5 साल का होने के बाद सिखाये. तब तक अपने बच्चे को आप फ्लोस कराये, और उसे देखने दे और सीखने दे. फ्लोसिंग दांतो को धुंधला होने से बचाता है. इनामेल जो कि एक सफेद परत होती है जो दांतो के ऊपर पायी जाती है ,फ्लोसिंग इनामेल को खराब होने से बचाता है और मुह की दुर्गंध को भी रोकता है.दांत की वक्रता के पास फ्लोस का सी आकार बनाये. पट्टिका को हटाने के  लिये इसको ऊपर नीचे ले जाये. हर दांत के लिये अलग फ्लोस का इस्तेमाल करे ताकी पट्टिका को जमने से रोका जा सके.


इसे विचित्र और मजेदार होने दे


अपने बच्चे को ब्रश कराने के लिये आप खेल खेलते हुए और रंगीन टूथपेस्ट और ब्रश का उपयोग करके बच्चे के लिये ब्रशिंग को मजेदार बना सकते है. ब्रशिंग को स्वैचछिक गतिविधि बनाये और इसका आनंद लेने दे.

 

दिन मे एक से अधिक बार ब्रश करे


अपने बच्चे को दिन मे कमसे कम दो बार ब्रश करने की आदत डाले, खासकर सोने से पहले. ध्यान रहे रात को ब्रश करने के बाद बच्चा खाना ना खाता हो. ब्रश करने के बाद बच्चे को अच्छे से कुल्ला कराये.


फ्लोराईड युक्त टूथपेस्ट का इस्तेमाल करे


फ्लोराईड दांतो के इनामेल को मजबूत करने मे मदद करता है, और आपके बच्चे मे केवीटीस और दांतो की सडन और समस्याओ को रोकता है.दंत चिकित्सको की राय यही है कि ये सुरक्षित है.


सामान्य सुझाव:


एक नरम ब्रिस्टल (नरम बालो वाला) टूथब्रश का उपयोग करे, जो बच्चे के लिए आकर्षक हो. पहले पानी से ब्रश करना शुरू करे और बाद मे टूथपेस्ट लगाकर. अगर आपके बच्चो के दांतो मे कोई भी समस्या है तो आप दंत से सलाह लेकर फ्लोराईड युक्त टूथपेस्ट का उपयोग करे.


2 वर्ष से कम उम्र के बच्चो के लिए ,टूथपेस्ट की मात्रा मटर के दाने से छोटी होनी चाहिये .2 से 5 वर्ष के बच्चो के लिए आप मटर के दाने के बराबर टूथपेस्ट उपयोग करे.


टूथब्रश को मसूडो से 45 डिग्री पर पकडे और लगभग 3 मिनिट तक धीरे धीरे आगे पीछे करे. दांतो की अंदर और बाहरी सतह को ब्रश करे. विशेष रूप से सामने वाले दांतो को. बेक्टीरिया को साफ करने के लिये जीभ को अलग से ब्रश करे. बच्चे को पानी से कुल्ला करना सिखाये और टूथपेस्ट को बाहर थूकना सिखाये. बच्चे को देखने दे और सीखने मे आप उसकी मदद करे.

 

#babychakrahindi
logo

Select Language

down - arrow
Personalizing BabyChakra just for you!
This may take a moment!