• Home  /  
  • Learn  /  
  • प्रेगनेंसी की पहली तिमाही में कैसे करे देखभाल
प्रेगनेंसी की पहली तिमाही में कैसे करे देखभाल

प्रेगनेंसी की पहली तिमाही में कैसे करे देखभाल

3 Sep 2021 | 1 min Read

यदि आप भी पहली बार मां बनने वाली है तो आपके लिए मातृत्व का यह सफर काफी रोमांचक होने वाला है। प्रेगनेंसी की पहली तिमाही यानी कि कंसीव करने से लेकर 12 महीने सबसे ज्यादा अहम् होता है । क्योंकि इस समय एक छोटी से कोशिका यानी कि भ्रूण से एक शिशु बनने की प्रक्रिया शुरु होती है।

  • प्रेगनेंसी के शुरुआती हफ्ते में आपको पता ही नहीं चलता कि आप प्रेगनेंट है। जब भी आपके पीरियड मिस हो तो एक बार प्रेगनेंसी टेस्ट अवश्य करे।
  • अगर आपका टेस्ट पॅजिटिव है तो फौरन अपनी डाक्टर से सलाह ले। सबसे पहले डॅाक्टर अल्ट्रासाउंड और कुछ टेस्ट करने की सलाह देते है।
  • अल्ट्रासाउंड से ही भ्रूण की दिल की धड़कन और स्थिति का पता लगाया जाता है। इसलिए अल्ट्रासाउंड और टेस्ट कराने में लापरवाही ना बरतें।
  • इस दौरान घबराए नहीं बल्कि खुश रहें क्योंकि कि अब आप एक नई शुरुआत करने जा रही है। सबसे पहले आप अपने डॅाक्टर द्वारा बताई गई दवाओं को नियम से लेना शुरु करे। जिसमें कि फॅालिक एसिड और मल्टी विटामिन की दवाइयां महत्वपूर्ण होती है।
  • प्रेगनेंसी के दौरान अपनी डाइट का पूरा ध्यान रखे। जिसमें विटामिन सी से भरपूर फल जैसे कि संतरा, आवंला, अगूंर, कीवी आदि को शामिल करे। सुबह के नाश्ते से लेकर रात के डिनर तक हेल्दी डाइट को ही अपनाएं।

 

  • मर्निंग सिकनेस यानी कि जी मचलाना, घबराहट होना यह प्रेगनेंसी के शुरुआती हफ्ते में आम समस्या होती है। इस समस्या को कम करने के लिए रात में डिनर हल्का करे, वॅाक करे, सोने से पहले मेडिटेशन करे, म्यूजिक सुने।
  • सुबह खाली पेट बिल्कुल भी नहीं रहे हल्का फुल्का ब्रेकफास्ट अवश्य करे जैसे कि दलिया, ओट्स, पोहा इस तरह की डाइट को नाश्ते में शामिल करे। डॅाक्टर की बताई गई डाइट को भी फॅालो करे।
  • गर्भावस्था के 4 से 8 वें सप्ताह तक आपको ब्रेस्ट में बदलाव महसूस होगें। जैसे कि हल्का दर्द होना, खिंचाव महसूस होना जिसकी वजह है हार्मोंस में परिवर्तन। इसलिए इससे घबराएं नहीं बल्कि डॅाक्टर की बताई गई बातों को ध्यान में रखें।
  • प्रेगनेंसी की पहली तिमाही से लेकर तीसरी तिमाही तक आपको कई शारीरिक और मानसिक परिवर्तन महसूस होगें। इसलिए घबराएं नहीं बल्कि एक नए सफर की तैयारी करे इस दौरान परिवार का सहयोग सबसे जरुरी होता है।

जितनी जिम्मेदारी एक मां की होती है उससे ज्यादा एक पिता की भी होती है। इस बात को परिवार के हर सदस्य को समझना चाहिए और सपोर्ट करना चाहिए। शुरुआत के यह हफ्ते बहुत नाजुक होते है इसलिए डॅाक्टर की बताई गई दवाओं और डाइट को नियमानुसार फॅालो करे।

#pregnancymilestones #garbhavastha

like

2

Like

bookmark

1

Saves

whatsapp-logo

0

Shares

A

gallery
send-btn

Related Topics for you

ovulation calculator
home iconHomecommunity iconCOMMUNITY
stories iconStoriesshop icon Shop