शिशु के दाॅंत निकलने के दौरान अपनाए ये टीथिंग टिप्स

cover-image
शिशु के दाॅंत निकलने के दौरान अपनाए ये टीथिंग टिप्स

शिशु के जन्म के बाद हर महीने शिशओं में बहुत तेजी से बदलाव होते है। शुरुआत के 2 महीनों में शिशु सीखना शुरु करते है। जैसे कि सिर घुमाना, पलटना, हाथ पैर चलाना। इसी क्रम में शिशुओं के दाॅंत निकलने की शुरुआत होती है। दाॅंत निकलने के दौरान शिशु चिड़चिड़े हो जाते है। इस समस्या से बचने के लिए आप कुछ घरेलु उपाय भी कर सकते है। आइये जानते है ऐसी ही कुछ टीथिंग टिप्स जो शिशुओं के लिए लाभदायक है।

दाॅंत निकलने की शुरुआत

 

दाॅंत निकलने के दौरान लक्षण

  • शिशु बहुत ज्यादा रोते है।
  • लूज मोशन होना।
  • बुखार का आना।
  • उल्टी होना।
  • लार टपकाना।
  • मसूड़ो में सूजन।
  • खांसी होना।

टीथिंग टिप्स

नवजात शिशुओं में दाॅंत निकलना पैरेंटस के लिए सबसे बड़ी समस्या होती है। क्योंकि इस दौरान शिशु सबसे ज्यादा रोते है। ऐसे में यह समझना मुश्किल होता है कि बच्चे को कैसे आराम दिलाए। आइये जानिए ऐसी ही कुछ टीथिंग टिप्स-

शिशुओं के दाॅंत निकलते समय आपको कुछ बातों का ध्यान अवश्य रखना।

  • शिशु के मसूड़ों को अपनी साफ उंगली से सहलाए।
  • 6 महीने के अंदर शिशु टिथर का इस्तेमाल करने लगते है। लेकिन प्लास्टिक के टीथर के बजाए आप गाजर को यूज कर सकते है। ध्यान रहे गाजर को वेजी वॅाश से अवश्य धुले। इसके लिए एक मध्यम आकार की गाजर ले शिशु को कुतरने दे। ऐसा करने पर शिशु को काफी आराम मिलता है।
  • डॅाक्टर की सलाह के अनुसार शिशुओं को मल्टी विटामिन अवश्य दे।
  • शिशु की साफ-सफाई का पूरा ध्यान रखे। खासतौर से शिशुओं के मसूड़ों का काफी ध्यान रखे। आप चाहे तो किसी सूती कपड़े को ठंडे पानी में भिगों कर शिशु के मसूड़ों को साफ रखे।
  • 6 महीने बाद शिशु ठोस आहार लेने की शुरुआत करते है। इसलिए शिशओं की डाइट में फल, दलिया, मूंग की खिचड़ी अवश्य शामिल करे।

शिशुओं के दाॅंत निकलना पैरेट्स के लिए बहुत ही चुनौती भरा समय रहता है। अगर आपके शिशु को ज्यादा परेशानी है तो बाल चिकित्सक से सलाह जरुर ले।

#shishukidekhbhal #teething #babygrowthanddevelopment
logo

Select Language

down - arrow
Personalizing BabyChakra just for you!
This may take a moment!