बच्चों को सप्लीमेंट देना कितना आवश्यक है

cover-image
बच्चों को सप्लीमेंट देना कितना आवश्यक है

बच्चों की अच्छी ग्रोथ के लिए विटामिन की बहुत आवश्यकता होती है। इन विटामिन की कमी को पूरा करने के लिए कई तरह के सप्लीमेंट होते है। बच्चों को सप्लीमेंट देना भी चाहिए लेकिन कितना और कब इसको जानना जरूरी है। बच्चों को सप्लीमेंट देने के फायदे और नुकसान दोनों है।

 

आइये जानते हैं बच्चों को सप्लीमेंट देने के फायदे और नुकसान के बारे में

 

  • बच्चों को किसी भी तरह की सप्लीमेंट्री की कमी पूरा करना उनकी डाइट पर निर्भर करता है। लेकिन बच्चों के स्वास्थ्य संबधी परेशानी को देखते हुए सप्लीमेंट दिये जाते है। जैसे बच्चों के जब दांत निकलना शुरू होते हैं तो कैल्शियम बच्चों को दी जाती है। क्योंकि दांत निकलने के दौरान बच्चों को कई तरह की परेशानी होती है। इसलिए कैल्शियम डॉक्टर की सलाह पर अवश्य दे।
  • आयरन की कमी अक्सर बच्चों में होती है, इसलिए आयरन की कमी को पूरा करने के लिए यह सप्लीमेंट लेना जरूरी होता है।
  • विटामिन डी बच्चों के लिए बेहद आवश्यक होता है। लेकिन बहुत ज्यादा विटामिन डी का सेवन करना ठीक नहीं है।
  • डॅाक्टर भी सप्लीमेंट की सलाह तब देती हैं जब बच्चों को वायरल फीवर या फिर ऐसी कोई सीजनल बीमारी हुआ जिससे बच्चा जल्दी ठीक नहीं हो पा रहा है। लेकिन यह सप्लीमेंट बहुत कम समय के लिए ही देने की सलाह दी जाती है।
  • बच्चों को किसी सप्लीमेंट की आदत नहीं डाले। ऐसा नहीं कि सप्लीमेंट के नुकसान है, कुछ हद तक सप्लीमेंट किसी भी रिकवरी के लिए फायदेमंद होता है।
  • अगर बच्चे की भूख कम है तो ऐसे में भूख की दवा देने से भूख खुलती है। लेकिन बच्चों की इसकी आदत लग जाती है। इसलिए आप को घरेलु नुस्खों को अपनाया भूख खोलने के लिए भुना हुआ जीरा दही के साथ दे सकती है।
  • खाली पेट अनार खाने से बच्चों की भूख बढ़ती है। हां अगर बच्चों को किसी तरह का इंफेक्शन हुआ है तो डॉक्टर की सलाह के अनुसार मल्टी विटामिन दीजिए। लेकिन सिर्फ जब तक इंफेक्शन है, बुखार के बाद बच्चों को अच्छी डाइट देना ही बेहतर विकल्प है।
  • सप्लीमेंट की जरूरत तब पड़ती है जब बच्चा को किसी तरह की कमी हो। लेकिन इन कमियों को आप हेल्दी डाइट देकर पूरा कर सकती है। इसलिए बच्चों का खाने का पूरा ध्यान रखे। बच्चों को जंक फूड से एकदम दूर रखे। बच्चों को फल खाने की आदत डाले, दूध के साथ बादाम साथ ही होममेड प्रोटीन पाउडर को अवश्य दूध के साथ दे।

 

बच्चों की अच्छी सेहत के लिए विटामिन और मिनरल को डाइट में शामिल करना चाहिए। लेकिन सप्लीमेंट का अभी तक कम समय के लिए ही करे। बच्चों को रोजाना योग करने की आदत डाले। कोविड के बाद बच्चों की इम्युनिटी स्ट्रांग करने के लिए हल्दी वाला दूध रोजाना सोने से पहले दे। हल्दी दूध एक नेचुरल सप्लीमेंट है। किसी भी चीज का अत्यधिक सेवन हानिकारक होता है ऐसा ही सप्लीमेंट का बहुत ज्यादा सेवन नुकसानदायक हो सकता है। इसलिए आप अगर किसी भी तरह की मल्टीविटामिन अपने बच्चे को देते हैं तो डॉक्टर की सलाह अवश्य ले।

#shishukidekhbhal #babynutrition
logo

Select Language

down - arrow
Personalizing BabyChakra just for you!
This may take a moment!