बच्चों को स्ट्रॉबेरी खिलाने के क्या फायदे है जानिए स्ट्रॉबेरी के यह हेल्दी रेसिपी

cover-image
बच्चों को स्ट्रॉबेरी खिलाने के क्या फायदे है जानिए स्ट्रॉबेरी के यह हेल्दी रेसिपी

स्ट्रॉबेरी फल नाम में जितना स्वीट खाने में उतना ज्यादा मीठा और हेल्दी। बच्चों से लेकर बड़े तक स्ट्रॉबेरी को बहुत पसंद करते है। अगर शिशुओं की बात की जाए तो स्ट्रॉबेरी दुनिया के सबसे हेल्दी फलों में से एक है। लेकिन शिशुओं को कब और कैसे खिलाना है इसकी जानकारी अवश्य रखे। क्योंकि स्ट्रॉबेरी फल से एलर्जी भी हो सकती है। इसलिए डॉक्टर की सलाह लेना पहले आवश्यक है।


स्ट्रॉबेरी शिशुओं को कब खिलाएं

शिशुओं को ठोस आहार देने की शुरुआत 6 महीने बाद की जाती है। लेकिन अगर कुछ फलों की बात करे तो उन्हें 1 साल बाद दिया जाना चाहिए। इसलिए बच्चों को 1 साल या 2 साल बाद ही स्ट्रॉबेरी देना शुरू करें। अगर बच्चों को खांसी, जुकाम या फिर किसी तरह की एलर्जी है तो बिना डॉक्टर की जानकारी के नहीं खिलाए।

 

स्ट्रॉबेरी के पोषक तत्व

स्ट्रॉबेरी में पानी, विटामिन, फाइबर, कार्बोहाइड्रेट, चीनी, विटामिन बी 6, विटामिन सी फास्फोरस आदि महत्वपूर्ण पोषक तत्व पाये जाते है। इसलिए शिशुओं के अच्छे पोषण के लिए स्ट्रॉबेरी काफी लाभदायक है। लेकिन स्ट्रॉबेरी खिलाते समय सावधानी रखें। क्योंकि कोई भी फल शिशु सीधे नहीं खा सकते है।

 

स्ट्रॉबेरी कैसे खिलाएं

स्ट्रॉबेरी को खिलाने के लिए आप स्ट्रॉबेरी को बहुत अच्छी तरह से धुलें। उसके बाद स्ट्रॉबेरी के ऊपरी परत हटा ले। फिर अच्छी तरह से स्ट्रॉबेरी का छिलका उतार ले। उसके बाद बीच से काटकर देख ले कि अंदर से स्ट्रॉबेरी साफ है या नहीं। अब स्ट्रॉबेरी को आप मैश करके खिलाएं पहले छोटे चम्मच से खिलाना शुरू करे। अगर बच्चे को स्ट्रॉबेरी पसंद नहीं आयेगी तो बच्चा मुंह से निकाल देगा। इसलिए जबरदस्ती नहीं करें क्योंकि स्ट्रॉबेरी खाने के बाद लूज मोशन की भी समस्या हो सकती है।

 

स्ट्रॉबेरी खाने के फायदे

बच्चों को स्ट्रॉबेरी खाने के फायदे भी बहुत है। स्ट्रॉबेरी में विटामिन सी पाया जाता है जो कि बच्चों की प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है। विटामिन सी आंखों के स्वास्थ्य के लिए भी लाभदायक है। स्ट्रॉबेरी में एंटॉक्सिड भी पाया जाता है और ऑक्सीडेटिव लीवर को होने वाले नुकसान को रोकने में मदद करता है। इसलिए स्ट्रॉबेरी को धीरे-धीरे देना शुरु करें आप चाहे तो स्ट्रॉबेरी की प्यूरी भी बना कर दे सकती है। स्ट्रॉबेरी फोलिक एसिड का अच्छा स्त्रोत है। शिशुओं के दिमागी विकास के लिए फोलिक एसिड अति आवश्यक है। लेकिन स्ट्रॉबेरी को खिलाते समय आप सावधानी रखे।

 

स्ट्रॉबेरी प्यूरी रेसिपी

स्ट्रॉबेरी प्यूरी बनाने के लिए सबसे पहले स्ट्रॉबेरी की अच्छी तरह से साफ कर ले। उसके बाद स्ट्रॉबेरी को अच्छी तरह से मिक्सर में पीस ले। फिर आप इसमें चीनी मिला ले उसके बाद स्ट्रॉबेरी को आप किसी जार में बंद करके रख दे। लेकिन इस प्यूरी का इस्तेमाल 2 से 4 दिन में अवश्य कर ले। इस प्यूरी को आप पराठे के साथ, ब्रेड के साथ बच्चों को दे सकते है। लेकिन ध्यान रहे स्ट्रॉबेरी ताजी हो साथ ही इस प्यूरी को आप कम मात्रा में शिशु को खिलाएं। यह रेसिपी कई तरह से फायदेमंद है क्योंकि पूरी तरह से नैचुरल है। लेकिन ध्यान रहे अगर आपका शिशु 1 साल का हो गया है तो ही यह प्यूरी डाइट में शामिल करे। लेकिन डॉक्टर की सलाह अवश्य ले।

#swasthajeevan
logo

Select Language

down - arrow
Personalizing BabyChakra just for you!
This may take a moment!