शरद पूर्णिमा त्यौहार की मान्यता और जानिए आज की खास रेसिपी

cover-image
शरद पूर्णिमा त्यौहार की मान्यता और जानिए आज की खास रेसिपी

शरद पूर्णिमा का त्यौहार बहुत ही खास होता है। क्योंकि आज के दिन चंद्रमा 16 कलाओं से परिपूर्ण होता है। शरद पूर्णिमा को कोजागरी पूर्णिमा, आश्विन पूर्णिमा, कौमुदी के नाम से जानते हैं। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार शरद पूर्णिमा की रात को अमृत काल भी कहा जाता है। कहा जाता है कि आज के दिन महालक्ष्मी का जन्म हुआ था और समुद्र मंथन के दौरान महालक्ष्मी प्रकट हुई थी। शरद पूर्णिमा के दिन महालक्ष्मी की विधिवत पूजा करके आशीर्वाद लिया जाता है। आज के दिन खीर का भोग लगाकर खीर उस जगह रखी जाती है जहां पर चंद्रमा की रोशनी पडती है और कहा जाता है कि आज की रात अमृत वर्षा होती है। इस खीर का स्वाद ही अलग होता है, कहा जाता है चंद्रमा की किरणों से अमृत बरसता है इसलिए खीर को खुले आसमान में रखने की परंपरा है।

शरद पूर्णिमा का शुभ मुहूर्त

पंचांग के अनुसार इस बार पूर्णिमा तिथि 19 अक्टूबर को शाम 07 बजे से शुरू होकर रात 08 बजकर 20 मिनट पर समाप्त होगी। पूजन का शुभ मुहूर्त शाम 05 बजकर 27 मिनट से चंद्रोदय के बाद रहेगा।

 

आइये जानते हैं आज के भोग की खीर की रेसिपी

खीर की रेसिपी

सामग्री

  • चावल आधा कटोरी
  • दूध फुल क्रीम 1 लीटर
  • ड्राई फ्रूट बारीक कटे हुए
  • मखाने बारीक कटे हुए
  • चीनी स्वादानुसार
  • इलायची पाउडर
  • देसी घी
  • केसर
  • गुलाब की सूखी पंखुड़ियों


खीर बनाने की विधि

चावल को आप 1 से 2 घंटे भिगो कर रख दे। उसके बाद चावल को अच्छी तरह से धुल ले। अब एक बड़े नॉन स्टिक कढ़ाई या फिर भगोने में हल्का देसी घी डाले। इसमें चावल को धीमी आंच पर 1 मिनट तक भूनते रहे। इसके बाद फुल क्रीम दूध मिक्स कर दे। अब धीरे-धीरे खीर को चलाते रहे। अब इसमें बारीक कटे हुए ड्राई फ्रूट मिक्स कर दे। साथ ही इलाइची पाउडर, केसर की कुछ बूंदे मिलाकर खीर को धीमी आंच पर तब तक पकाते रहे जब तक चावल अच्छी तरह से पक ना जाए। खीर को आंच से उतार कर ठंडा होने रख दे, अब इसमें गुलाब की कुछ पंखुड़ियां ऊपर से फैला दे। इस खीर को आप किसी मिट्टी के बर्तन में बंद चंद्रमा की किरणों के नीचे रख दे। सुबह इस खीर का स्वाद ही अलग होगा, खीर की यह रेसिपी अवश्य ट्राई करे।

logo

Select Language

down - arrow
Personalizing BabyChakra just for you!
This may take a moment!