• Home  /  
  • Learn  /  
  • नॉर्मल डिलीवरी के लिए इन 13 नॉर्मल डिलीवरी टिप्स को फॉलो करना न भूलें
नॉर्मल डिलीवरी के लिए इन 13 नॉर्मल डिलीवरी टिप्स को फॉलो करना न भूलें

नॉर्मल डिलीवरी के लिए इन 13 नॉर्मल डिलीवरी टिप्स को फॉलो करना न भूलें

12 Feb 2022 | 1 min Read

Mousumi Dutta

Author | 45 Articles

आजकल तो नॉर्मल डिलीवरी होने की बात सुनने में कम आती है। गर्भवती महिलाएं प्रसव पीड़ा से बचने के लिए
नॉर्मल डिलीवरी करवाना ज्यादा पसंद करने लगी है। असल में लोग इस बात से अनजान है कि नॉर्मल डिलीवरी माँ और शिशु दोनों के लिए फायदेमंद और सुरक्षित होता है। फिर देर किस बात की, चलिए नॉर्मल डिलीवरी टिप्स या नेचुरल डिलीवरी करवाने के टिप्स और ट्रिक्स के बारे में आगे विस्तार से जानते हैं।

वैसे तो डॉक्टर कभी भी सिजेरियन डिलीवरी की सलाह देते ही नहीं है, क्योंकि नॉर्मल डिलीवरी के बाद माँ जल्दी ठीक होकर अपने बच्चे की पूरी तरह से देखभाल कर पाती हैं। जबकि सिजेरियन डिलीवरी के बाद माँ को ठीक होने में महीने लग जाते हैं।

नॉर्मल डिलीवरी, सिजेरियन डिलीवरी से बेहतर हैं। इस बात को करवाने के कुछ सिंपल और फंक्शनल टिप्स एंड ट्रिक्स के बारे में जानने के पहले यह जान लेते हैं कि-

नॉर्मल डिलीवरी क्या होता है?

जब शिशु माँ के वजाइना यानि योनि मार्ग से नेचुरल तरीके से निकलता है तो इस तरह से जन्म लेने की प्रक्रिया को नॉर्मल डिलीवरी या वजायनल डिलीवरी कहते हैं। अगर प्रेग्नेंट महिला को किसी भी प्रकार की शारीरिक कोई जटिलता और समस्या नहीं है तो उसके लिए नॉर्मल डिलीवरी अच्छा ऑप्शन होता है।

उन प्रेग्नेंट वुमन की डिली‍वरी नॉर्मल या नेचुरल हो सकती हैं, जिनको-

  • हाई ब्लड शुगर और हाई ब्लड प्रेशर की समस्या न हो।
  • उनके शरीर में हिमोग्लोबिन की मात्रा नॉर्मल हो।
  • प्रेग्नेंट महिला नौ महीने तक एक्टिव रहती हो।
  • प्रेग्नेंट माँ और शिशु का वजन नॉर्मल हो।

इन 13 नॉर्मल डिलीवरी टिप्स को फॉलो करें, जो नॉर्मल डिलीवरी के लिए घरेलू उपाय से कम नहीं

सिजेरियन डिलीवरी करके महीनों बिस्तर पर पड़े न रहकर नॉर्मल डिलीवरी का चयन करके इसको संभव बनाने के लिए आपको अपने जीवनशैली, आहार और आदतों में कुछ बदलाव लाना होगा। इन टिप्स को फॉलो करने पर डिलीवरी को नॉर्मल किया जा सकता है-

 

1. सही डॉक्टर का चुनाव करें- डिलीवरी को नॉर्मल करने के लिए सबसे पहले जिसकी जरूरत है, वह है एक अच्छे डॉक्टर का चुनाव।

2. मदद करने के लिए किसी अपने को साथ रखें- प्रेग्नेंसी के एडवांस स्टेज पर मदद करने के लिए घर पर किसी वयस्क अनुभवी महिला का साथ होना सबसे ज्यादा जरूरी होता है।

3. प्रेग्नेंसी के समय अपने परिवार के साथ रहें- प्रेग्नेंसी के समय माँ भावनात्मक रूप से कमजोर होती हैं, इसलिए इस समय पति और परिवार के लोगों का साथ होना बहुत जरूरी होता है।

4. तनाव को जिंदगी से दूर रखें- प्रेग्नेंसी के दौरान स्ट्रेस को लाइफ से दूर रखना बहुत जरूरी होता है। इसके लिए हर दिन मेडिटेशन को लाइफ में शामिल करें।

5. नकारात्मकता को लाइफ से करें दूर- प्रेग्नेंसी में महिला को हमेशा सकारात्मक रहना चाहिए। नकारात्मक मनोभाव माँ और शिशु दोनों के लिए समस्या पैदा करता है।

6. वजन को बहुत ज्यादा बढ़ने न दें- गर्भावस्था के दौरान मॉं और शिशु दोनों का वजन बढ़ना स्वाभाविक होता है, लेकिन 10-12 किलो से ज्यादा नहीं। माँ-शिशु का वजन असामान्य रूप से बढ़ जाने पर डिलीवरी में कॉम्प्लिकेशन होने की संभावना रहती है।

7. पर्याप्त मात्रा में पानी पिएं- गर्भवती महिला को हमेशा पर्याप्त मात्रा में पानी पीते रहना चाहिए। नहीं तो नॉर्मल डिलीवरी के दौरान डिहाइड्रेशन की समस्या हो सकती है।

8. एक्सरसाइज को लाइफ में करें शामिल- गर्भवती हूँ, ऐसा सोचकर सिर्फ आराम नहीं करना चाहिए, बल्कि खुद को हमेशा एक्टिव रखना चाहिए। इसलिए काम-काज के बीच में एक्सरसाइज और योगासन को अहमियत जरूर दें। ब्रीदिंग और बटरफ्लाई जैसे एक्सरसाइज को शामिल करने से डिलीवरी नॉर्मल होने की संभावना बढ़ती है।

9. ‘मी टाइम’ होने वाली माँ के लिए हैं जरूरी- स्ट्रेस और डिप्रेशन को खुद से दूर रखने के लिए प्रेग्नेंट वुमन को अपने ‘मी टाइम’ के लिए समय निकालने की जरूरत है। होने वाली माँ जो भी करना पसंद करती हैं, वह दिन में एक बार जरूर करें, मसलन- गाना सुनें, गिटार बजाएं, किताब पढ़े, बागवानी करें आदि।

10. आहार में बदलाव लाएं- गर्भवती माँ अगर नॉर्मल डिलीवरी चाहती हैं तो उनको हेल्दी डायट को फॉलो करना होगा। डायट में साग-सब्जी से लेकर मौसमी फल, दूध, दही, पनीर, मांस और मछली को शामिल करें।

11. निप्पल स्टिम्युलेशन करना है जरूरी- शायद आपको पता नहीं कि डिलीवरी का समय पास आने पर निप्पल स्टिम्युलेशन नॉर्मल डिलीवरी और ब्रेस्टफीडिंग दोनों के लिए जरूरी होता है।

12. पेरिनियल मसाज जरूर करें- इसके बारे में शायद आपने सुना नहीं होगा कि जैसे-जैसे डिलीवरी का समय पास आता है, इस मसाज को करने से डिलीवरी की प्रक्रिया आसान हो जाती है।

13. खुद को मानसिक रूप से तैयार करें- आखिरी और सबसे जरूरी टिप्स यह है कि लेबर पेन के लिए खुद को तैयार करना।

अब तक के दिए जानकारियों से आप समझ ही गई होंगी कि नॉर्मल डिलीवरी करवाने के लिए आपको बहुत मशक्कत करने की जरूरत नहीं है। बस हेल्दी लाइफस्टाइल और हेल्दी डायट आपके नॉर्मल डिलीवरी करने के प्रोसेस को कर देगा आसान।

#normaldelivery #garbhavastha

Home - daily HomeArtboard Community Articles Stories Shop Shop