• Home  /  
  • Learn  /  
  • अगर बच्चा दूध पीना नहीं चाहता तो कैल्शियम की कमी को कैसे पूरा करेंगे?
अगर बच्चा दूध पीना नहीं चाहता तो कैल्शियम की कमी को कैसे पूरा करेंगे?

अगर बच्चा दूध पीना नहीं चाहता तो कैल्शियम की कमी को कैसे पूरा करेंगे?

16 Feb 2022 | 1 min Read

Mousumi Dutta

Author | 45 Articles

दूध को देखकर बच्चों के बहाना बनाने की आदत से हर माँ परेशान रहती है। लेकिन बच्चों में कैल्शियम की कमी को पूरा करने में दूध मदद करता है। मुश्किल की बात है कि अब बच्चों में कैल्शियम की कमी को कैसे पूरा किया जाय। चिंता न करें, आपके सारे टेंशन का जवाब हमारे पास है। हम कुछ ऐसे फूड्स के बारे में आपको बताने वाले हैं जो कैल्शियम की कमी को पूरा करने में मदद करते हैं।

कैल्शियम क्या है?

आप शायद सोच रहे होंगे कि आखिर कैल्शियम है क्या जिसकी कमी को पूरा करने की इतनी जरूरत है। कैल्शियम एक प्रकार का मिनरल यानि खनिज होता है, जो हड्डियों को बनाने में बहुत मदद करता है। शरीर के नसों और मांसपेशियों को सही तरह से काम करने में यह सहायता तो करता ही है साथ में हृदय को भी हेल्दी रखने में इसकी भूमिका अहम है।

जब बच्चों की हड्डियाँ मजबूत होगीं तभी तो वयस्क अवस्था में हड्डियों को नुकसान होने से बचा पाएंगे। इसके अलावा छोटे बच्चों और शिशुओं को रिकेट्स नामक बीमारी से बचाव के लिए कैल्शियम और विटामिन डी बहुत जरूरत होती है। वैसे रिकेट्स अभी लुप्तप्राय बीमारी है।

बच्चों को कितनी मात्रा में कैल्शियम देनी चाहिए?

वैसे तो 6 महीने के शिशुओं को ब्रेस्टमिल्क से उनके कैल्शियम की जरूरत पूरी हो जाती है। पर फिर भी जान लेते हैं कि 1 साल के उम्र से कितनी मात्रा में कैल्शियम की जरूरत होती है-

6 महीने से कम उम्र के बच्चों को – 200 मिलीग्राम कैल्शियम / दिन
6 से 11 महीने के बच्चों को – 260 मिलीग्राम कैल्शियम / दिन

बच्चे और किशोर

जैसे-जैसे बच्चे बड़े होने लगते हैं, हड्डियों को मजबूत करने के लिए कैल्शियम की मात्रा भी बढ़ने लगती है-

1 से 3 साल के बच्चों को- 700 मिलीग्राम कैल्शियम / दिन (2-3 सर्विंग्स)।
4 से 8 साल के बच्चों को- 1,000 मिलीग्राम कैल्शियम/ दिन (2–3 सर्विंग्स)।
9 से 18 वर्ष के बच्चों और किशोरों को- 1,300 मिलीग्राम कैल्शियम/ दिन (4 सर्विंग्स)।

दूध के अलावा बच्चों में कैल्शियम की कमी को कैसे दूर करेंगे

जैसे कुछ बच्चे दूध पीना बिल्कुल पंसद नहीं करते वैसे ही कुछ बच्चों को लैक्टोज इंटॉलरेंस की समस्या के कारण दूध हजम करने में समस्या होती है। कैल्शियम के स्रोतों के बारे में जानने से पहले जान लेते हैं कि कैल्शियम के साथ विटामिन डी का क्या संबंध है।

विटामिन डी और कैल्शियम के बीच रिश्ता

कभी-कभी बच्चे को कैल्शियम की कमी को पूरा करने के लिए आप कितना भी कैल्शियम युक्त चीजें खिला दें, लेकिन उसकी कमी पूरी नहीं हो पाती क्योंकि उसमें विटामिन डी की कमी है। विटामिन डी, कैल्शियम को अब्सॉर्ब करने में मदद करता है।

विटामिन डी के बिना कैल्शियम वहाँ जा नहीं पाता जहाँ हड्डियों को मजबूत करने के लिए इसकी जरूरत होती है। मुश्किल की बात यह है कि विटामिन डी उन फूड्स में ज्यादा नहीं मिलता जो वे अक्सर खाया करते हैं। इसलिए विटामिन डी की कमी को पूरा करने के लिए सप्लीमेंट देने की सलाह दी जाती है।

कैल्शियम के स्रोत

1. बच्चों में कैल्शियम की कमी:ओट्स- शरीर में कैल्शियम की कमी को पूरा करने के लिए दूध के जगह पर ओट्स का विकल्प बहुत अच्छा है। आप बच्चे को ब्रेकफास्ट में फलों के साथ या स्नैक्स टाइम में ओट्स दे सकते हैं।

2. बच्चों में कैल्शियम की कमी: बादाम- दादी-नानी के जमाने से रात को भिगोया हुआ बादाम सुबह खाने की सलाह सदियों से दी जाती रही है। बादाम कैल्शियम की कमी को पूरा करने महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

3. बच्चों में कैल्शियम की कमी:बीन्स- बीन्स न सिर्फ कैल्शियम की जरूरत को पूरा करती है बल्कि प्रोटीन की जरूरत को पूरा करने में मदद करती है। आप बच्चे को टिफिन में बीन्स का सलाद या बीन्स की सब्जी बनाकर भी दे सकते हैं।

4. बच्चों में कैल्शियम की कमी: संतरा- सर्दी के मौसम में संतरा खाना कौन नहीं पसंद करता है। आप बच्चे को संतरे का जूस या फ्रूट सलाद बनाकर खिला सकते हैं। संतरा न सिर्फ विटामिन सी का स्रोत होता है बल्कि कैल्शियम का भी अच्छा स्रोत होता है।

5. बच्चों में कैल्शियम की कमी:सफेद तिल- आश्चर्य होने की जरूरत नहीं गर्म तासीर वाला सफेद तिल दूध का अच्छा विकल्प बन सकता है। आप सफेद तिल का लड्डू बनाकर सर्दी के मौसम में बच्चों को खिला सकते हैं।

6. बच्चों में कैल्शियम की कमी: सोया मिल्क- जिन बच्चों को लैक्टोस इंटॉलरेंस की समस्या होती है उनके लिए कैल्शियम की जरूरत को पूरा करने के लिए सोया मिल्क से अच्छा विकल्प बन ही नहीं सकता।

7. बच्चों में कैल्शियम की कमी: चीज़ या दही- बच्चों को सैंडवीच में चीज़ डालकर खाना पसंद होता है। आपका बच्चा अगर दूध पीना पसंद नहीं करता है तो आप उसके जगह पर दही, चीज़, आइसक्रीम आदि खिला सकते हैं।

8. बच्चों में कैल्शियम की कमी: हरी पत्तेदार सब्जियाँ- यह तो पौष्टिकता से भरपूर होने के साथ-साथ कैल्शियम की कमी को पूरा करने में भी अहम भूमिका निभाते हैं।

9. बच्चों में कैल्शियम की कमी: टोफू- टोफू का सब्जी भला किस बच्चे को पसंद नहीं आएगा। यह कैल्शियम के साथ प्रोटीन की कमी को भी पूरा करने में बहुत मदद करता है।

अब चिंता किस बात की, बच्चा दूध पिएं और न पिएं आप उसकी कैल्शियम की जरूरत को हेल्दी और टेस्टी तरीके से पूरा कर सकती हैं।

#childnutrition

Home - daily HomeArtboard Community Articles Stories Shop Shop