• Home  /  
  • Learn  /  
  • आज ही प्लान बनाएं और शुरू करें बच्चों के लिए बचत योजनाएं
आज ही प्लान बनाएं और शुरू करें बच्चों के लिए बचत योजनाएं

आज ही प्लान बनाएं और शुरू करें बच्चों के लिए बचत योजनाएं

21 Feb 2022 | 1 min Read

Ankita Mishra

Author | 279 Articles

आने वाले वर्षों में बच्चों का भविष्य आर्थिक रूप से सुरक्षित बना रहे, इसके लिए पेरेंट्स बच्चों के लिए बचत योजनाएं शुरू कर सकते हैं। ऐसे कई बच्चों के लिए स्कीम भारत सरकार की तरफ से शुरू किए गए हैं, जो सुरक्षा के साथ ही उच्च ब्याज दर देने का भी वादा करते हैं। यहां पर आप बच्चों के लिए पोस्ट ऑफिस योजना से लेकर उनके लिए फंड और अन्य सेविंग्स प्लान के बारे में पढ़ेंगे।

पोस्ट ऑफिस में छोटे बच्चों के लिए क्या स्कीम है?

बच्चों के लिए बचत योजनाएं में कई तरह की योजनाएं शामिल हैं, जिनमें सबसे पहले हम बच्चों के लिए पोस्ट ऑफिस योजना के बारे में बता रहे हैं। बच्चों के लिए पोस्ट ऑफिस स्कीम कई हैं, जिन्हें पेरेंट्स अपनी इच्छानुसार से चुन सकते हैं।

1. पोस्ट ऑफिस की मंथली इनकम स्कीम (Post Office Monthly Income Scheme)

अगर बच्चों के लिए स्कीम को पूरी तरह से सुरक्षित योजना चुनना चाहते हैं, तो पोस्ट ऑफिस की मंथली इनकम स्कीम को शुरू कर सकते हैं। यह बच्चों के लिए बचत योजना है, जिसमें एक बार में पैसा इंवेस्ट करना होता है, हर महीने उसके ब्याज का लाभ लिया जा सकता है।

  • इस योजना को अपने क्षेत्र के किसी भी पोस्ट ऑफिस में जाकर खुलवा सकते हैं। 
  • इसे खुलवाने के लिए कम से कम 1,000 रुपये व ज्यादा से ज्यादा 4,50,000 (साढ़े चार लाख) रुपए जमा कर सकते हैं। 
  • इस स्कीम पर 6.6% की दर से ब्याज दिया जाता है।
  • बच्चों के लिए पोस्ट ऑफिस की इस बचत योजना का लाभ 10 साल की उम्र का होने पर लिया जा सकता है। अगर बच्चा 10 वर्ष से छोटा है, तो पैरेंट्स के नाम पर यह अकाउंट खुलवाया जा सकता है। 
  • यह स्कीम 5 सालों की मैच्योरिटी के साथ होती है। यानी 5 साल होने के बाद इस योजना को बंद किया जा सकता है।

2. पोस्ट ऑफिस रेकरिंग डिपॉजिट स्कीम (Post Office Recurring Deposit Scheme)

पोस्ट ऑफिस रेकरिंग डिपॉजिट स्कीम भी बच्चों के लिए एक अच्छी योजना है। इसकी क्या खासियत है, इसे कैसे खुलवा सकते हैं, इनके बारे में नीचे पढ़ें।

  • 10 वर्ष व उससे अधिक उम्र के बच्चों के लिए बचत योजनाएं में इसका नाम शामिल है। 
  • अगर बच्चा 10 वर्ष से छोटी आयु का है, तो बच्चे की तरफ से पेरेंट्स के नाम पर इस स्कीन को शुरु किया जा सकता है।
  • इसमें कम से कम 100 रुपये की जमा राशि के साथ खुलवा सकते हैं।
  • इसकी खासियत है कि इस स्कीन में अधिकतम राशि जमा करने की कोई सीमा नहीं है।
  • इसमें 5.8% की दर से गारंटीड रिटर्न ब्याज मिलता है।
  • यह स्कीम 5 सालों में पूरी हो जाती है। अगर इससे आगे भी इसे बढ़ाना है, तो इसके लिए पोस्ट ऑफिस में निवेदन करना होगा।

3. सुकन्या समृद्धि योजना (Sukanya Samriddhi Yojana)

सुकन्या समृद्धि योजना (SSY) लाभ सिर्फ लड़कियों के लिए ही जारी किया गया है। इसके लिए लड़की का भारतीय होना जरूरी है। इससे जुड़ी और खास बातें क्या हैं, जानने के लिए स्क्रॉल करें।

  • 10 वर्ष या उससे अधिक अधिक आयु की लड़कियों के नाम पर इस योजना का लाभ लिया जा सकता है। 
  • अगर लड़की की उम्र 10 वर्ष से छोटी है, तो उसकी जगह पर पेरेंट्स के नाम पर यह योजना खुल सकती है। 
  • सुकन्या समृद्धि योजना को किसी भी सरकारी बैंक या पोस्ट ऑफिस में खुलवाया जा सकता है। 
  • इस योजना में 7.6​​% की दर से ब्याज मिलता है।
  • इस योजना में सालाना तौर पर कम से कम 250 रुपये की राशि जमा करनी होती। 
  • अधिकतम राशि की सीमा 1,50,000 रुपये हैं।
  • इतना ही नहीं, इस योजना के जरिए निवेश इनकम टैक्स एक्ट की धारा 80C के तहत टैक्स छूट भी लिया जा सकता है। 
  • इस स्कीम को शुरू करने के बाद लड़की के 15 वर्ष होने तक एक तय राशि को जमा करना होता। 
  • लड़के के 21 वर्ष के पूरे होने पर यह योजना मैच्योर होती है।
  • इसके अलावा, अगर लड़की की शादी 21 वर्ष से पहले होती है, तो भी इस योजना को मैच्योर किया जा सकता है। 

4. पब्लिक प्रोविडेंट फंड (Public Provident Fund)

पब्लिक प्रोविडेंट फंड को पीपीएफ (PPF) भी कहा जाता है। यह एक लंबे समय तक चलने वाली बचत योजना है, जिसे बच्चों के लिए बचत योजना में शामिल किया जा सकता है। 

  • इस योजना में 7.1% की दर से हर साल ब्याज मिलता है।
  • इस योजना को न्यूनतम 500 रुपये और अधिकतम 1,50,000 रुपये से खोला जा सकता है। 
  • यह राशि एक बार में या अलग-अलग किस्तों के जरिए जमा कर सकते हैं।
  • नाबालिग बच्चे इस स्कीम का सीधे तौर पर लाभ नहीं पा सकते हैं। अगर कोई बच्चा बालिग नहीं है, तो उसकी जगह पर पेरेंट्स इस स्कीम को शुरू कर सकते हैं।
  • इसे किसी भी बैंक या पोस्ट ऑफिस के जरिए ओपन किया जा सकता है।
  • अगर किसी वित्तीय वर्ष इस स्कीम में कम से कम 250 की राशि जमाा न की जाए, तो स्कमी को रद्द भी किया जा सकता है।
  • यह अकाउंट धारा 80C के तहत टैक्स में राहत दिला सकती है।
  • यह अकाउंट खुलाने के अगले दो सालों में जमा राशि के अनुसार 25% तक लोन मिल सकता है।
  • यह योजना खुलवाने के अगले 15 सालों में मैच्योर होती है।
  • कुछ आपात स्थितियों में इस योजना को 5 सालों में भी बंद करवाया जा सकता है, जैसे – बच्चे की महंगी पढ़ाई होने पर या उसका विदेशी बनने पर। ऐसी स्थिति में सिर्फ 6.1% का ब्याज दर ही दिया जा सकता है।

5. इक्विटी म्यूचुअल फंड (Equity Mutual Fund)

इक्विटी म्यूचुअल फंड (ETF) बच्चों के लिए पोस्ट ऑफिस योजना या बच्चों के लिए किसी भी अन्य बचत योजना के मुकाबले अधिक रिटर्न देता है। अगर चाहते हैं कि भविष्य में बच्चे की पढ़ाई पर अच्छा निवेश करें, तो बच्चों के लिए स्कीम का लाभ लिया जा सकता है। 

  • यह एक प्रकार का सिस्टेमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान (SIP) यानी म्यूचुअल फंड है। 
  • जो लॉन्ग व शॉर्ट दोनों की अवधि के लिए किया जा सकता है। 
  • हालांकि, लंबी अवधि में इसका रिटर्न रेट भी अधिक मिल सकता है। यह पूरी तरह से फंड के आधार पर हो सकता है। यानी अगर यह फंड अधिर रिस्की है, तो रिटर्न ब्याज दर भी अधिक मिल सकता है। 
  • इसके लिए बच्चे बालिक होना चाहिए। अगर वह 21 वर्ष से छोटा है, उसकी जगह पर पेरेंट्स इस फंड को शुरू कर सकते हैं। 
  • इसके लिए आप ऑनलाइन या ऑफलाइन दोनों ही तरह से बात की जा सकती है। इसके लिए जरूरी है ऑनलाइन अपने सभी दस्तावेजों को सबमिट करना भी।

बच्चों के लिए बचत योजनाएं कई हैं। जिनमें बच्चों के लिए पोस्ट ऑफिस योजना से लेकर म्यूचुअल फंड के भी विकल्प मौजूद हैं। उम्मीद है कि बच्चों के लिए स्कीम से जुड़ी हमारी दी गई जानकारी आपको पसंद आई होगी। आप यहां बताए गए बच्चों के लिए बचत योजना में से किसी एक या एक साथ अन्य योजनाओं को शुरू कर सकते हैं और उसका लाभ ले सकते हैं।

#savingplanning #savingforthefuture

Home - daily HomeArtboard Community Articles Stories Shop Shop