baccho dwara likhe masoom notes jise padhkar aapko dil se hasi aayegi

baccho dwara likhe masoom notes jise padhkar aapko dil se hasi aayegi

22 Apr 2022 | 0 min Read

Tinystep

Author | 2578 Articles

हम सभी जानते हैं कि बच्चे कितने मासूम और प्यारे होते हैं | हमने उन्हें ऐसा प्यारा मुँह बनाते देखा है जिसे देख हमारे दिल से उनके लिए प्यार ही निकलता है| बरबस होठो पर मुस्कान आ जाती है और दिल करता है कि उन्हें एक प्यारी सी पप्पी दे दें |

आइये देखें बच्चो के बनाये हुए कुछ नोट्स जो आपको मुस्कुराने पर मज़बूर कर देंगें :

1. यह माफी नामा नहीं है !

एक बच्चे ने माँ की नाराजगी से परेशान होकर अपनी मम्मी को सॉरी का नोट लिखा पर साथ में यह भी लिख दिया कि उसे पता नहीं उसे सॉरी का नोट क्यों लिखना पड़ा जबकि वह तो बिलकुल निर्दोष है ! उसने सॉरी का नोट में लिखा “आय ऍम सॉरी फॉर नथिंग” ! ऐसा पढ़कर क्या आपको हंसी नहीं आई ?

2. मुझे तो कुछ और चाहिए था !

एक माँ ने अपने बच्चे को जब बताया कि वो उनके लिए एक प्यारा सा भाई लेकर आईं है जो जीवनभर उनके साथ रहेगा तब पूरी बात सुनकर वह कुछ घंटे दो घंटे बाद आकर अपनी माँ के हाथ में एक नोट पकड़ा दिया कि उसने तो उनसे डॉगी माँगा था | उसके मासूम नोट को देखकर आपके चेहरे पर हंसी तो आ ही गयी होगी |

3. मुझे रूम क्लीन नहीं करना !

आप बच्चे के बेतरतीबी से रखे सामानों से परेशान होकर एक माँ ने अपने बच्चे को अपना कमरा साफ करने की हिदायत दी और इसके बदले में उनको एक नोट मिला जिसपर बच्चे ने लिखा था कि कि अगर वो उनसे रूम क्लीन करवाएंगी तो वह उनको कभी भी प्यार नहीं करेंगे,हालांकि अभी वह उनसे बहुत प्यार करतें है !बच्चे का भोलापन इस नोट में दिखता है और आप इसे पढ़कर हँस पड़ती है |

4. एक ‘हार्दिक’ पत्र टूथ एंजेल के नाम !

एक बच्चे के तकिये के नीचे से उसकी माँ ने एक विशेष पत्र पाया जो टूथ एंजेल के नाम था| नोट में लिखा था कि” टूथ एंजेल मैंने अपना दांत दो दिन पहले रोटी खाते हुए तोड़ दिया और आज तक न तो मुझे दांत मिला न तुमने कोई हर्ज़ाना ही दिया | धीरे धीरे मेरा क़र्ज़ तुम पर बढ़ता ही जा रहा है |

ऐसे कितने नोट्स आपको बच्चे के मासूमियत से परिचित करातें है ,आप कभी कभी अपने बचपन के दिनों को याद करके खो से जातें है |

like

0

Like

bookmark

0

Saves

whatsapp-logo

0

Shares

A

gallery
send-btn
ovulation calculator
home iconHomecommunity iconCOMMUNITY
stories iconStoriesshop icon Shop