• Home  /  
  • Learn  /  
  • शिशु के लिए कैलेंडुला ऑयल कैसे है फायदेमंद, यहां जानें
शिशु के लिए कैलेंडुला ऑयल कैसे है फायदेमंद, यहां जानें

शिशु के लिए कैलेंडुला ऑयल कैसे है फायदेमंद, यहां जानें

12 Aug 2022 | 1 min Read

Mona Narang

Author | 175 Articles

कई बेबी प्रोडक्ट्स में कैलेंडुला ऑयल का इस्तेमाल किया जाता है, लेकिन क्या यह शिशु के लिए सुरक्षित है, इसके बारे में लेख में जानेंगे। शिशु के लिए कैलेंडुला ऑयल के फायदे (Calendula Oil Benefits in Hindi) क्या हैं व इसका इस्तेमाल कैसे करना चाहिए, इससे जुड़ी हर जानकारी हासिल करने के लिए इस लेख में अंत तक बने रहें। तो बिना देर किए शुरू करते हैं लेख और जानते हैं बच्चों के लिए कैलेंडुला ऑयल से जुड़ी हर जरूरी जानकारी।

क्या बच्चों के लिए कैलेंडुला ऑयल का इस्तेमाल सुरक्षित होता है? | Is Calendula Oil is Safe for Babies in Hindi

हां, बच्चों के लिए कैलेंडुला ऑयल का इस्तेमाल सेफ होता है। इसकी पुष्टि कई अलग-अलग शोध में की गई है। रिसर्चगेट पर उपलब्ध एक शोध की मानें तो छोटे बच्चों में डायपर रैशेज के लिए कैलेंडुला ऑयल का इस्तेमाल प्रभावी होता है। वहीं, एक अन्य शोध में जिक्र मिलता है कि इसमें एंटी इंफ्लामेटरी प्रॉपर्टीज होती हैं। ये शिशु में सूजन और खुजली को कम करने में मदद करती हैं। इस आधार पर यह माना जा सकता है कि शिशु के लिए कैलेंडुला ऑयल का इस्तेमाल किया जा सकता है। लेख में आगे इसके फायदों (Calendula Oil Benefits in Hindi) के बारे में जानेंगे।

बच्चों के लिए कैलेंडुला ऑयल क्यों अच्छा है और इसका इस्तेमाल कैसे करें | Why Calendula Oil is Good for Babies in Hindi

बच्चों के लिए कैलेंडुला ऑयल के फायदों (Calendula Oil Benefits in Hindi) के बारे में लेख में आगे जानेंगे। साथ ही इसके इस्तेमाल का तरीका भी समझाएंगे।

1. डायपर रैशेज से बचाव

बच्चों के लिए कैलेंडुला ऑयल के फायदे
बच्चों के लिए कैलेंडुला ऑयल के फायदे/चित्र स्रोत: पिक्सल

कैलेंडुला ऑयल में उच्च मात्रा में विटामिन-ई के साथ शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं। ये रैशेज पर सूदिंग प्रभाव दर्शाने के साथ लाल चकत्तों को हल्का करने में सहायक होते हैं। इसके अलावा, कैलेंडुला ऑयल में घाव को भरने के लिए वुंड हीलिंग प्रभाव होते हैं। 

डायपर रैशेज से राहत पाने व इसके बचाव के लिए कैलेंडुला युक्त डायपर रैशेज क्रीम का इस्तेमाल किया जा सकता है। ध्यान रखें हमेशा डर्मेटोलॉजिस्ट व क्लिनकली टेस्टेड बेबी प्रोडक्ट्स का ही चयन करें।

2. मच्छरों के काटने पर दिलाए राहत

मच्छर के काटने पर शिशु की त्वचा पर लाल चकत्ते, दर्द, सूजन व खुजली की शिकायत होती है। कैलेंडुला ऑयल काफी हद तक इससे राहत प्रदान कर सकता है। इसके पीछे इसमें मौजूद एंटी इंफ्लामेटरी प्रॉपर्टीज को प्रभावी माना जाता है। यही वजह है मच्छर के काटने पर शिशु को नारियल तेल में कैलेंडुला ऑयल लगाने की सलाह दी जाती है। एक बात का ध्यान रखें कि शिशु के लिए जिस भी तरह का इस्तेमाल करें वह केमिकल फ्री हो, जैसे नारियल का तेल। नारियल का तेल भी त्वचा संबंधी बहुत सारे समस्याओं में काम आता है, आपको हमेशा ऑर्गेनिक कोकोनट ऑयल का इस्तेमाल करना चाहिए। 

हालांकि, शिशु की त्वचा पर डाइरेक्ट कैलेंडुला ऑयल का इस्तेमाल करने से अच्छा होगा कैलेंडुला ऑयल युक्त आफ्टर बाइट रोल ऑन का इस्तेमाल करना।

3. त्वचा को नरिश करता है

कैलेंडुला ऑयल शिशु की त्वचा को जरूरी पोषक तत्व प्रदान करने के साथ नरिश करता है। बेबी की ड्राई स्किन को मॉइश्चराइज करने के लिए इसे बेहतरीन माना जाता है। यही वजह है कई मसाज ऑयल की सामग्री में इसे भी शामिल किया जाता है। इस तरह शिशु की त्वचा के लिए कैलेंडुला ऑयल का एक फायदा त्वचा को नरिश करना होता है।

तो ये थे शिशु के लिए कैलेंडुला ऑयल के फायदे। लेख में आपने इसके इस्तेमाल से जुड़ी जानकारी भी हासिल की। कभी भी शिशु की त्वचा पर सीधे तौर पर कैलेंडुला ऑयल का इस्तेमाल न करें। हमेशा कैलेंडुला ऑयल युक्त बेबी सेफ प्रोडक्ट्स का चयन करें।

like

0

Like

bookmark

0

Saves

whatsapp-logo

0

Shares

A

gallery
send-btn
ovulation calculator
home iconHomecommunity iconCOMMUNITY
stories iconStoriesshop icon Shop