डायपर रैश क्रीम का चुनाव कैसे करें?

डायपर रैश क्रीम का चुनाव कैसे करें?

6 May 2022 | 1 min Read

Vinita Pangeni

Author | 421 Articles

न्यू पेरेट्स पहली बार बच्चे की जांघ और कुल्हों की त्वचा पर पीड़ादायक लाल और पपड़ीदार दाने देखकर घबरा जाते हैं। ये कुछ और नहीं असुविधाजनक डायपर रैश हैं, जो शिशुओं को अक्सर हो जाते हैं। डायपर रैश का इलाज घर में ही करने के लिए माता-पिता डायपर रैश क्रीम खरीद लेते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि बेस्ट डायपर रैश क्रीम को कैसे चुनना चाहिए? 

दरअसल, डायपर रैश क्रीम को उसमें मौजूद सामग्रियों के आधार पर चुना जाना चाहिए। आगे विस्तार से जानिए कि डायपर रैश क्रीम में कौन-सी सामग्रियां होनी चाहिए और कौन-सी नहीं? इससे आपको प्रभावी और अच्छी डायपर रैश क्रीम का चुनाव करने में मदद मिलेगी। 

सही डायपर रैश क्रीम का चुनाव 

बच्चे के डायपर रैश को ठीक करने के लिए सही क्रीम का चुनाव करने की जरूरत होती है। डायपर रैश क्रीम का सिर्फ ब्रांड और एक्सपायरी डेट देखना ही काफी नहीं होता है। कई नामी कंपनियों के प्रोडक्ट में हानिकारक सामग्रियां होती हैं। इसलिए आपको जागरूक करने के उद्देश्य से हम आगे डायपर रैश क्रीम का चुनाव करते समय देखे जाने वाली सामग्रियों की लिस्ट लेकर आए हैं।

जिंक ऑक्साइड

डायपर रैश क्रीम में जिंक ऑक्साइड का होना जरूरी है। जिंक ऑक्साइड डायपर रैश से होने वाली हल्की से मध्यम जलन का इलाज कर सकता है। मगर गंभीर मामलों में सिर्फ जिंक ऑक्साइड युक्त प्रोडक्ट प्रभावकारी नहीं होगा।

आपको जिंक ऑक्साइड के साथ ही विभिन्न सामग्रियों वाले डायपर रैश क्रीम को चुनना होगा। आप यह डायपर रैश क्रीम खरीद सकते हैं। इसमें कैमोमाइल ऑयल, कैन्डुला ऑयल और नीम ऑयल जैसी अनेक सामग्रियां मौजूद हैं।

यह डायपर रैश क्रीम पूरी तरह सेफ और हानिकारक पैराबेन व मिनरल ऑयल फ्री है। इस डायपर रैश क्रीम को खास बच्चों के लिए बाल रोग विशेषज्ञ के साथ मिलकर बनाया गया है।

लैनोलिन या कैमोमाइल ऑयल

लैनोलिन प्राकृतिक मलहम (ointment) कहलाता है। इसे भेड़ के बालों द्वारा उत्पादित किया जाता है, वो भी भेड़ को बिना किसी तरह का नुकसान पहुंचाए। इसके अलावा, आप बच्चे के लिए डायपर रैश क्रीम खरीदते समय सामग्री की लिस्ट में मॉरिंगा ऑयल और कैमोमाइल ऑयल को जरूर देखें। ये त्वचा को शांत करने और उसे हील करने में मदद करते हैं। इसके साथ ही नारियल तेल होना भी अच्छा रहेगा।

शिया बटर

शिया बटर भी डायपर रैश के लिए अच्छी सामग्री है। यह सामग्री त्वचा को शांत करने और नमी से बचाने में मदद करती है। हर बार डायपर बदलते समय शिया बटर युक्त प्रोडक्ट की परत बच्चे के डायपर रैश से प्रभावित हिस्से पर लगा दें। दरअसल. शिया बटर बच्चे की स्किन में पतली बैरियर बनाकर त्वचा में पेशाब और अन्य तरह के मॉइस्चर को अवशोषत नहीं देता।

हाइड्रोकार्टिसोन 1%

ओवर-द-काउंटर हाइड्रोकार्टिसोन 1% क्रीम डायपर रैश की सूजन को कम कर सकती हैं। इसकी पतली-सी परत दिन में दो बार ही लगाना काफी है। इसे सिर्फ कुछ दिनों तक ही इस्तेमाल करें। अन्यथा बच्चे की संवेदनशील त्वचा को नुकसान पहुंच सकता है। इसी वजह से हाइड्रोकार्टिसोन 1% क्रीम को डॉक्टर की सलाह और परामर्श पर ही खरीदें 

एंटीफंगल

यदि पता चलता है कि शिशु को फंगल इंफेक्शन के कारण डायपर रैश हुआ, तो जलन से छुटकारा पाने के लिए एंटीफंगल ऑइंटमेंट मदद करेंगे। मगर संक्रमण का ठीक से इलाज करने के लिए बाल रोग विशेषज्ञ से प्रिस्क्रिप्शन लेना जरूरी है। बिना उनकी सलाह के कोई भी एंटीफंगल क्रीम न खरीदें। 

हां, आप प्राकृतिक रूप से एंटीफंगल और एंटी-बैक्टीरियल गुण को समेटे हुए नीम ऑयल या नीम की पत्तियों से युक्त डायपर रैश क्रीम खरीद सकते हैं। हमारा द्वारा ऊपर सुझाई गई क्रीम में भी नीम की खूबियां मौजूद हैं।

डायपर क्रीम कैसे लगाएं?

आप बच्चे का डायपर बदलते समय सबसे पहले उसकी स्किन को वेट वाइप्स से अच्छे से साफ करें।

फिर बच्चे की स्किन पर थोड़ा बेबी पाउडर लगाएं। इससे बच्चे की स्किन अच्छे से सूख जाएगी। इसके बाद डायपर रैश क्रीम लगाएं।

डायपर रैश क्रीम में कौन-सी सामग्रियां नहीं होनी चाहिए?

ऊपर बताई गई सामग्रियों को देखकर डायपर रैश खरीदते समय इन सामग्रियों पर भी गौर करें। इनका डायपर रैश क्रीम में होना बच्चे के लिए सुरक्षित नहीं है।

  • डाय (Dyes)
  • प्रिजर्वेटिव (Presevatives)
  • पैराबेन (Paraben)
  • टेल्क (Talc)
  • कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स (Corticosteroids)
  • बोरिक एसिड या बोरेक्स

डायपर रैश के लिए नियोमाइसिन (Neomycin), पॉलीमीक्सिन (Polymyxin) या बैकीट्रैसिन (Bacitracin) जैसे अवयवों वाले एंटीबायोटिक मलहम का उपयोग नहीं किया जाना चाहिए। 

हाइड्रोकार्टिसोन (Hydrocortisone) युक्त उत्पादों का उपयोग चिकित्सक की सिफारिश के बिना नहीं किया जाना चाहिए। डायपर रैश पर किसी भी एंटीफंगल या एंटीकैन्डाइडल (anticandidal) उत्पादों का उपयोग बिना डॉक्टर की सलाह के न करें।

डायपर रैश अक्सर गीले या समय पर ना बदले गए डायपर, त्वचा की संवेदनशीलता और डायपर से होने वाले रगड़ के कारण होता है। इन्हें ठीक करने के लिए सही क्रीम का चुनाव जरूरी है।  शिशु की नाजुक त्वचा में मौजूद पीड़ादायक डायपर रैश लंबे समय तक रहें, तो डॉक्टर से संपर्क जरूर करें।

like

10

Like

bookmark

0

Saves

whatsapp-logo

0

Shares

A

gallery
send-btn
ovulation calculator
home iconHomecommunity iconCOMMUNITY
stories iconStoriesshop icon Shop