• Home  /  
  • Learn  /  
  • गर्भावस्था के दौरान त्वचा की रंगत मे हुए बदलाव के कारण और उनसे कैसे बचें
गर्भावस्था के दौरान त्वचा की रंगत मे हुए बदलाव के कारण और उनसे कैसे बचें

गर्भावस्था के दौरान त्वचा की रंगत मे हुए बदलाव के कारण और उनसे कैसे बचें

5 Apr 2022 | 1 min Read

Tinystep

Author | 2578 Articles

अगर गर्भावस्था में आप की त्वचा मे भारी बदलाव नज़र आ रहा है तो घबराइए नहीं । ये एक प्राकृतिक प्रक्रिया है जो हर एक महिला में होती है । क्या आपने मेलास्मा या त्वचा की भूरी रंगत के बारे में सुना है ? वैसे ये एक प्रकार का त्वचा संबन्धित रोग है जो ज़्यादातर डिलीवरी के बाद अपने आप ठीक हो जाता है । इसमें कई बार चेहरे की त्वचा प्रभावित होती है । चेहरे पर भूरे या काले धब्बे नज़र आते हैं । इसमें माथे, नाक के आस-पास  और कभी-कभी  दाँतों के आस-पास त्वचा प्रभावित होती है । इनमें खुजली तो नहीं होती परन्तु आपके आकर्षण में थोड़ी कमी ज़रूर आ सकती है । कुछ महिलाओं को हीन-भावना आ जाती है ।

 कारण

 सूरज के सामने ज़्यादा वक्त बिताना

 आप की जानकारी के लिए हम ये बताना चाहेंगे की मेलानोसाइट्स नामक एक ख़ास प्रकार की कोशिका हमारे शरीर में पाई जाती है । इनसे शरीर में मेलानिन नामक  रसायन पदार्थ उत्पन्न होता है । इससे त्वचा को उसकी रंगत मिलती है । अगर आप के शरीर में मेलानिन की मात्रा ज़्यादा है तो आप का रंग भूरा होता जायेगा । गर्भावस्था  में मेलानोसाइट्स ज़रूरत से ज़्यादा मेलानिन को जन्म देते हैं । इसके साथ आपका धूप मे बाहर जाना मेलानोसाइट्स को और भी उत्तेजित कर देता है ।

 इसके अन्य कारण हो सकते हैं,  परिवार में किसी महिला का पूर्व बिगड़ा स्वास्थय  या फिर हॉर्मोनल असंतुलन ।

वेरीकोज वेन्स जिसे  मकड़ी नस भी कहते हैं , वे नसें होती हैं जो त्वचा की ऊपरी सतह से उभरी हुयी दिखाई देती हैं। अधिक दबाव पड़ने के कारण ये ऐसी नज़र आती हैं । इनकी नीली-बैगनी रंगत के कारण ये देखने में डरावनी नज़र आती हैं । परन्तु छूने में दर्द नहीं देती ।

 चूँकि आप त्वचा में आये बदलाव के  बारे में जान गए हैं , तो हम आपको इनसे निजात पाने के लिए कुछ नुस्खे भी बताएँगे ।

1. सनब्लॉक क्रीम

 घर से बाहर निकलने से पहले चेहरे और हाथों पर सनस्क्रीन एस.पी.एफ  लगाना मत भूलियेगा । हाथों को पूरी बाहों वाले कपड़े पहन कर ढके रखें ।  

 2. अन्य उपचार

 – प्रभावित त्वचा पर घृतकुमारी / अलो-वेरा जेल लगाएं और 10 -15 मिनट मालिश करें ।

– कठोर साबुन का प्रयोग न करें । कोमल साबुन प्रयोग करें ।

– आप केले को पीस कर उसे चेहरे पर लगा सकती हैं ।

आप चिंता न करें । ये परिवर्तन अस्थायी हैं । डिलीवरी के कुछ दिनों  बाद आप अपनी पुरानी युवा त्वचा पा  सकेंगी ।  लेकिन अपना ध्यान ज़रूर रखियेगा ।

like

0

Like

bookmark

0

Saves

whatsapp-logo

0

Shares

A

gallery
send-btn
ovulation calculator
home iconHomecommunity iconCOMMUNITY
stories iconStoriesshop icon Shop