• Home  /  
  • Learn  /  
  • गर्भावस्था में MRI स्कैन की सुरक्षा और महिला पर असर
गर्भावस्था में MRI स्कैन की सुरक्षा और महिला पर असर

गर्भावस्था में MRI स्कैन की सुरक्षा और महिला पर असर

13 Apr 2022 | 1 min Read

Tinystep

Author | 2578 Articles

MRI स्कैन का मतलब होता है Magnetic resonance imaging (MRI)। इसमें महिला के शरीर पर शक्तिशाली चुम्बक (मैगनेट) का प्रयोग होता है। चुम्बक की मदद से शरीर पर चुम्बकीय किरणें पड़ती हैं जिनसे अंदरूनी अंगों के चित्र निकाले जाते हैं। इसमें एलेक्ट्रोमैग्नेटिक किरणें नहीं प्रयोग की जाती हैं। स्कैन से गर्भवती के स्वास्थ्य की जाँच की जाती है।

वैसे तो डॉक्टर अक्सर महिला की स्कैनिंग को उनकी गर्भावस्था समाप्त होने के बाद ही करना पसंद करते हैं परन्तु अगर माँ या शिशु को गम्भीर समस्या आ जाये तो MRI स्कैन करने की ज़रूरत जल्दी पड़ जाती है।

1. MRI स्कैन की ज़रूरत क्यों पड़ती है ?

डॉक्टर अगर माँ या उसके होने वाले शिशु पर कोई खतरा मंडराता पाता है तो वे महिला को फ़ौरन MRI स्कैन करने के लिए कहते हैं।

वैसे तो अधिक्तर बीमारियों का पता अल्ट्रासॉउन्ड से पता चल जाता है परन्तु यह गर्भ में होने वाले शिशु पर ही सारा ध्यान केंद्रित रखता है। जब शरीर के अन्य अंगों का पता लगाना होता है तब MRI अच्छा विकल्प माना जाता है।

पिछले 30 सालों में हज़ारों महिलाओं ने MRI स्कैन करायें हैं। किसी ने भी शिशु पर कोई हानिकारक प्रभाव नहीं पाया।

2. MRI स्कैन में क्या होता है?

MRI स्कैन में आपके शरीर के किसी एक अंग पर सारा ध्यान केंद्रित किया जायेगा। यह pelvis (पेट/गर्भाशय/मूत्राशय के आस पास का स्थान), रीढ़ की हड्डी या फिर मस्तिष्क हो सकता है।

स्कैनिंग की कोई निर्धारित अवधि नहीं होती। पूरा समय “किस अंग की स्कैनिंग हो रही है?” उसपर निर्भर करता है। सामान्य रूप से स्कैन में 20 से 40 मिनट लगते हैं।

3. MRI स्कैन में कौन सा Contrast material इस्तेमाल होता है?

कुछ MRI स्कैन में गैडोलीनियम (gadolinium) नामक तत्व बाज़ू की नस में इंजेक्शन द्वारा डाला जाता है। कंट्रास्ट का इस्तेमाल MRI के नतीजे को अधिक स्पष्ट और साफ़ देखने के लिए किया जाता है। परन्तु गर्भावस्था में MRI स्कैन में कंट्रास्ट मटीरियल नहीं लिया जाता है।

स्कैन के नतीजे को वरिष्ठ रेडियोलॉजिस्ट पढ़ कर महिला को बता देंगे।

4. अंतिम शब्द

किसी भी टेस्ट को सावधानी से किया जाये तो कोई भी मरीज़ सुरक्षित है। परन्तु अगर हॉस्पिटल कर्मचारी लापरवाही करें तब परेशानी/संक्रमण आ सकता है।

आप सभी स्वस्थ्य और खुशहाल रहें व हमारे ब्लोग्स शेयर करती रहें। धन्यवाद 🙂

हेलो मॉम्स,

हम आपके लिए एक अच्छी खबर ले कर आये हैं।

Tinystep आपके और आपके बच्चों क लिए प्राकृतिक तत्वों से बना फ्लोर क्लीनर ले कर आया है! क्या आपको पता है मार्किट में मिलने वाले केमिकल फ्लोर क्लीनर आपके बच्चे के लिए हानिकारक है?

Tinystep का प्राकृतिक फ्लोर क्लीनर आपको और आपके बच्चों को कीटाणुओं और हानिकारक केमिकलों से दूर रखेगा। आज ही आर्डर करें – http://bit.ly/naturalfc

like

0

Like

bookmark

0

Saves

whatsapp-logo

0

Shares

A

gallery
send-btn
ovulation calculator
home iconHomecommunity iconCOMMUNITY
stories iconStoriesshop icon Shop