kaash yeh 10 baatein aapke dost samajh paate

kaash yeh 10 baatein aapke dost samajh paate

9 May 2022 | 0 min Read

Tinystep

Author | 2578 Articles

अभिभावक बनने की सबसे बड़ी सच्चाई है कि आपकी ज़िन्दगी कभी पहले जैसी नहीं हो पाएगी| इसे गलत तरह से न लें; एक अभिभावक होने के अपने फायदे भी होते हैं – वो ख़ुशी के छोटे छोटे पल जो आपके ज़ीने का कारण बन जाते हैं| एक बात है आपके, वो दोस्त जो अभी तक अभिभावक नहीं बने हैं, नहीं समझ पाएंगे कि अब आपके जीवन में आनंद का मतलब पूरी तरह से बदल गया है| आपने अब अपने शराब पीने के दिनों को अलविदा कह दिया है| आखिरकार अब आपको अपने साथ साथ एक नन्ही सी जान का भी ध्यान रखना है, जो पूरी तरह से आप पर निर्भर है|

वो खट्टे मीठे एहसास!

इनका मतलब भी कुछ होता है न? पर आपके दोस्त आपके लिए कोई चीज़ आसान नहीं करते| आपको एक रात के लिए अपने घर बुलाना या किसी भी तरह के प्लान के लिए एकदम से बाहर बुलाना अब काम नहीं करेगा,और ये बात आपको सबसे ज़्यादा परेशान करती है जब आपके ग्रूप में आप पहले व्यक्ति हैं जिन्हें पेरेंटिंग का सुख मिला हो ! बेशक अब आप दोस्तों को तो नहीं छोड़ सकते – वो आपके हर सुख और दुःख में आपके साथ थे| पर ये थोड़ा और अच्छा होता अगर वो आपकी समस्याओं और मुश्किलों के प्रति थोड़ा संवेदनशील होते|

ये कुछ बातें हैं जिनसे काश आपके दोस्त आपके जीवन में आ रहे बदलाव के बारे में समझ पाते:

1. बच्चे चीज़ें बिखेरते हैं, ये सीधी साधी बात है और इसका आप से कोई लेना देना नहीं है| जब घर में एक बढ़ता बच्चा दौड़ भाग करता है तो आपके पास बहुत सी चीज़ें होती हैं ध्यान रखने के लिए| आपके दोस्तों को ये समझना चाहिए|

2. आपके घर आना और सब कुछ बिखरा हुआ देख कर चिड़चिड़ाना ,आपका जीवन आसान नहीं करता| आपको पता है कि आपका घर कितना गन्दा है, आपके दोस्तों को आपको इसकी याद दिलाने की कोई जरूरत नहीं होनी चाहिए |

3. किसी भी तरह की योजना आखिरी मिनट पर बना कर न बताएं| जब आप बिना बच्चों के थे तब बात अलग थी और अब आपके पास ज़िम्मेदारियाँ हैं और आप एकदम से किसी फन के लिए अचानक घर से नहीं निकल सकतें |

4. बेबीसिटर ढूँढना कोई आसान काम नहीं है| एक सिटर को काम पर रखने से पहले कई बातों का ध्यान रखना पड़ता है| आपको ये सुनिश्चित करना पड़ता है कि आप अपने बच्चे के लिए एक सही इंसान चुनें| आपको नुक़्ताचीन करने का दोष देने से चीज़ें आसान नहीं हो जाएंगी|

5. आपको बहुत सी चीज़ों का ध्यान रखना पड़ता है, खाना क्या बनाना है और किन लोगों के लिए क्या क्या बनाना है? एकदम से बने प्लान्स अब आपकी दिनचर्या से कोसो दूर हैं| बाहर जाने से एक हफ्ते पहले आपको सब तय करना पड़ता है|

6. आपकी थकान को नहीं समझ पाना एक बात होती है; पर जब वो अपनी थकान की तुलना आपकी थकान से करते है ,तब गुस्सा आना सामान्य है| एक माँ या बाप होने पर, आपकी थकान केवल शारीरिक नहीं पर मानसिक भी होती है| 

7. चैन की नींद लिए आपको बरसों हो गए हैं| आपको याद नहीं कि पिछली बार कब आपने अकेले या अपने साथी के साथ एक गरमा गरम चाय का आनंद लिया था! एक पल की शान्ति आपको पिछली बार कब मिली थी? कोई शिकायत नहीं कर रहा, पर परवरिश करना आपके जीवन के हर पल पर हावी है और जब तक आप एक अभिभावक नहीं बन जाते तब तक आपको असली थकान के मतलब नहीं पता चलेगा| ये अच्छा होता अगर आपके दोस्त ये समझ पाते!

8. बेशक अब आप अपने सब अच्छे दोस्तों से उतना नहीं मिल पाते जितना बच्चे के आने से पहले मिल पाते थे| पर अगर वो आपके सच्चे दोस्त हैं तो उन्हें आपकी स्थिति को समझना चाहिए और आपके घर अक्सर आने की कोशिश करनी चाहिए|

9. आपके दोस्तों को ये समझना ज़रूरी है कि आपके बच्चे की एक दिनचर्या है और आप उसके बारे में कुछ नहीं कर सकते|

10. और आखिर में, ये बहुत अच्छी बात होगी अगर आपके दोस्त शिकायत करना बंद कर दें| उन्हें ये समझना होगा कि आप अपने जीवन के नए पड़ाव पर पहुँच गए हैं और ये पड़ाव आपके लिए महत्वपूर्ण है|

आप खुद को भाग्यशाली समझें अगर आपके जीवन में समझदार और संवेदनशील दोस्त हैं| अगर नहीं तो अपनी प्राथमिकताओं को सबसे पहले रखने का ये सही समय है|

like

0

Like

bookmark

0

Saves

whatsapp-logo

0

Shares

A

gallery
send-btn
ovulation calculator
home iconHomecommunity iconCOMMUNITY
stories iconStoriesshop icon Shop