• Home  /  
  • Learn  /  
  • नवजात शिशु को नहलाने के समय pH Balance को सुनिश्चित करना क्यों होता है जरूरी
नवजात शिशु को नहलाने के समय pH Balance को सुनिश्चित करना क्यों होता है जरूरी

नवजात शिशु को नहलाने के समय pH Balance को सुनिश्चित करना क्यों होता है जरूरी

24 Aug 2022 | 1 min Read

Mousumi Dutta

Author | 94 Articles

नवजात शिशु की त्वचा की देखभाल करना माँ के लिए चुनौतीभरा काम होता है। शायद आपको पता नहीं कि शिशु की त्वचा बड़ों की त्वचा से तीन गुना पतली और नाजुक होती है। इसलिए नवजात शिशु को नहलाने के समय ऐसे प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करना चाहिए, जो त्वचा के पीएच बैलेंस को बनाए रखें। शिशु को नहलाने के समय माँ को न्यूबॉर्न बेबी के स्किन की स्पेशल केयर करने की जरूरत होती है। 

शुरू-शुरू में नवजात शिशु को त्वचा संबंधी बहुत सारी समस्याओं का सामना करना पड़ता है, जैसे- रैशेज, बेबी एक्ने, बेबी एक्जिमा, क्रैडल कैप, ड्राई स्किन आदि। इसके अलावा न्यूट्रिशन, आनुवांशिक कारण, पोल्युशन, मौसम भी शिशु की संवेदनशील त्वचा को प्रभावित करते हैं। शिशु की नाजुक त्वचा को हेल्दी और मुलायम बनाए रखने में बेबी सोप, बेबी वाश, बेबी शैंपू, बेबी ऑयल की भी बहुत बड़ी भूमिका होती है। ये त्वचा और स्कैल्प के पीएच बैलेंस को बनाए रखने में बहुत मदद करते हैं। 

पीएच बैलेंस (pH balance) क्या होता है?। What is pH balance?

पीएच बैलेंस असल में हाइड्रोजन के पोटेन्शियल के लिए होता है। वह यह संकेत देता है कि त्वचा पर इस्तेमाल किए जाने वाला पदार्थ एसिडिक है या अल्कलाइन। वस्तु का पीएच बैलेंस का लेवल जितना हाई होगा वह प्रकृति से उतना ही एसिडिक होगा। पीएच स्केल का रेंज 0-14 के बीच में होता है, जिसमें एसिड कम और बेस ज्यादा होता है। शिशु की त्वचा का पीएच बैलेंस 5.5 होता है।

जैसा कि आप जानते हैं कि बेबी स्किन की स्पेशल केयर करने की जरूरत होती है ताकि त्वचा संबंधी समस्याएं न हो। नवजात शिशु की त्वचा की परत बहुत पतली होती है, इसलिए संवेदनशील और त्वचा बहुत रूखी होती है। वयस्कों की डर्मिस तीन गुना पतली होती है। 

चलिए बात को कुछ इस तरह से समझते हैं कि स्किन के हाइड्रोलिपिडिक फिल्म में पसीना, सीबम और पानी होता है, वयस्कों की तुलना में शिशुओं में यह पतला होता है। इस फिल्म का रोल बैक्टीरिया के खिलाफ स्किन को प्रोटेक्ट  करना होता है, जो एक बाधा के रूप में कार्य करता है। पतली हाइड्रोलिपिडिक फिल्म बच्चे की त्वचा को संवेदनशील बनाती है।

नवजात शिशु के जन्म के बाद से ही पीएच बैलेंस का लेवल विकसित होना शुरू हो जाता है, इससे स्किन एसिडिक हो जाता है। जिसके कारण नवजात शिशु की त्वचा में संक्रमण  होने की संभावना बढ़ जाती है।

नवजात शिशु की त्वचा का पीएच बैलेंस। pH Balance of baby skin

अध्ययन के अनुसार सामान्य रूप से त्वचा का पीएच बैलेंस का रेंज  5.4-5.9 होता है। शिशु की त्वचा का पीएच बैलेंस का रेंज 5-5.5 होता है, जिसमे अल्कलाइन स्किन सरफेस का रेंज 6.34- 7.5 होता है।  त्वचा अल्कलाइन होने के कारण किसी भी तरह के संक्रमण से लड़ने में बहुत मदद करता है। यानि आदर्श पीएच बैलेंस का रेंज  5.5 में थोड़ा भी बदलाव त्वचा को और भी संवेदनशील बना देता है।

नवजात शिशु को नहलाने के समय pH Balance को सुनिश्चित क्यों करना चाहिए/चित्र स्रोत-गुगल

नवजात शिशु को नहलाने के समय PH Balance को सुनिश्चित करना क्यों होता है जरूरी। Why is it important to Ensure pH Balance when bathing your Newborn?

अगर नवजात शिशु के आदर्श पीएच बैलेंस को बनाए रखना है तो नेचुरल एसिड और अल्कलाइन के लेवल को संतुलित रखना बहुत जरूरी है। नहीं तो स्किन पर्यावरणीय कारकों जैसे मौसम संबंधी संक्रमण, एलर्जी, जलन, संक्रमण और बीमारियाँ सब होने का वजह बन जाता है। 

पीएच बैलेंस जितना हाई होगा त्वचा पतली होती जाएगी। त्वचा जितनी पतली होगी त्वचा में दरार पड़ने, रैशेज, एक्जिमा आदि होने की संभावना और बढ़ जाएगी।

नवजात शिशु को नहलाने के समय पीएच बैलेंस को मेंटेन करने का टिप्स। Tips to maintain pH Balance during Newborn Baby bath

  • शिशु के लिए बेबी वाश या बेबी शैंपू खरीदने के पहले लेबल पर पीएच वैल्यु को चेक कर लें। इसलिए कहते हैं #labelpadhomoms 
  • बेबी क्लिनिंग प्रोडक्ट क्लिनिकली टेस्टेड होना चाहिए और पैराबेन, मिनरल ऑयल और सिंथेटिक कलर और फ्रेगरेंस फ्री होना चाहिए।
  • बॉडी वाश और बेबी शैंपू प्राकृतिक चीजों से बना होना चाहिए। वह जितना अधिक प्राकृतिक चीजों से बना होगा बेबी के स्किन के लिए उतना ही अच्छा होगा। बॉडी वाश में रोज ऑयल, स्ट्रॉबेरी ऑयल, मंजिष्ठा का एक्स्ट्रैक्ट, मरिंगा सीड ऑयल, पंपकीन सीड ऑयल और डी पैंथिनोल जैसे नेचुरल चीजें होनी चाहिए।
  • वैसे बेबी शैंपू में करी पत्ता, हिबिस्कस, ऐलो वेरा एक्स्ट्रैक्ट, सैंडलवुड ऑयल, बीटरूट कंडिशनर जैसे नेचुरल चीजें होनी चाहिए। 
  • बेबी का अच्छी तरह से  साफ-सफाई कराने के लिए कभी भी ‘ओवर बाथ’ कराने की गलती नहीं करनी चाहिए। 

अब तक के चर्चा से आप समझ ही गई होंगी कि नवजात शिशु लप नहलाने के समय पीएच बैलेंस को मेंटेन करने का एक ही तरीका है नैचुरल चीजों से बना बेबी वाश प्रोडक्ट खरीदें। जितना पीएच बैलेंस मेंटेन करेंगे उतना बेबी को स्किन डिजीज से दूर रख पाएंगे। इसलिए अब से अपनी नन्ही-सी जान के लिए कुछ भी प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करने के पहले #LablePadhoMoms। 

संबंधित लेख:

नवजात शिशु की देखभाल के लिए 10 जरूरी टिप्स

बेबी केयर प्रोडक्ट्स : शिशु को नहलाने के लिए हेड-टू-टो बाथ प्रोडक्ट लिस्ट

बच्चे को नहलाने का सही तरीका

like

0

Like

bookmark

0

Saves

whatsapp-logo

0

Shares

A

gallery
send-btn
ovulation calculator
home iconHomecommunity iconCOMMUNITY
stories iconStoriesshop icon Shop