swasth chamkile twacha ke liye 7 aayurvedic ilaaj

swasth chamkile twacha ke liye 7 aayurvedic ilaaj

22 Apr 2022 | 1 min Read

Tinystep

Author | 2578 Articles

जब त्वचा की बात आती है तो, हम सब बहुत ख्याल रखते हैं| हमे नकली, रासायनिक उत्पादों का उपयोग कम रखना चाहिए| हमे ब्लैकहैड्स, मुँहासे और सनटैन का कारण होने वाली किसी भी अशुद्धता से मुक्त निर्दोष त्वचा चाहते हैं, है ना?  इसका उत्तर आयुर्वेद में है। आयुर्वेद, विशेष रूप से हम भारतीयों के लिए नया शब्द नहीं है,इसे त्वचा की देखभाल संबंधी समस्याओं के लिए सबसे प्रभावी, सुरक्षित और प्राकृतिक उपचार में से एक माना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि आयुर्वेद का उद्देश्य परिस्थितिजन्य उपचार देने के बजाय समस्याओं के मूल कारणों से निपटना होता है।

तो आइए इन आयुर्वेदिक इलाजों में से कुछ पर एक नज़र डालें जो आपको सुंदर, चमकदार त्वचा प्राप्त करने में मदद करेंगे।

आयुर्वेद के मुताबिक, त्वचा 3 के तीन प्रकार हैं- वात, पित्त, और कफ| वात त्वचा उन लोगों के होते हैं जिनके पास सूखी त्वचा है, पित्त त्वचा के प्रकार संवेदनशील त्वचा वाले होते हैं और कफ त्वचा के प्रकार में तेल त्वचा होती हैं| आयुर्वेद का मानना ​​है कि किसी को त्वचा के प्रकार के आधार पर त्वचा की देखभाल नियमित रूप से देखभाल करनी चाहिए।

1. मुल्तानी मिटटी

इसे फुलरस भी कहा जाता है| यह त्वचा को कोमल बनाने का पौराणिक उपाय है, जिसका उपयोग  पूरे भारत में सालों से होता आ रहा है|इसकी प्रभावशीलता इस बात का प्रमाण है कि यह आपकी त्वचा की देखभाल नियमानुसार आज भी आदर्श तत्व के रूप में कार्य करता है। मुल्तानी मिटटी आपकी त्वचा में गन्दगी और ज़्यादा मात्रा में तेल को हटा देता है| यह मुँहासे से मुकाबला करने में आपकी मदद करता है, यहां तक ​​कि यह आपकी त्वचा को टोन करता है और तन और रंजकता सेभी छूटकारा दिलाता है| मुल्तानी मिटटी की प्रभावशीलता बढ़ाने के लिए उपर्युक्त किसी भी सामग्री के साथ इसे मिश्रित किया जा सकता है।

2. चन्दन

चन्दन एक आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है जिसका उपयोग त्वचा से संबंधित परेशानियों का इलाज करने और त्वचा में टोनिंग बनाए रखने के लिए किया जाता है। चंदन के पाउडर को और एक पेस्ट के रूप में त्वचा पर लगाया जा सकता है| इसके हल्केपन के कारण पित्त और कफ त्वचा के प्रकार को मदद करता है| बैक्टीरिया के कारण त्वचा पर होने वाले किसी भी मुँहासे और आपकी त्वचा देखभाल के लिए इसे अपने त्वचा के रूटीन में शामिल करें|

3. गुलाब जल

गुलाब जल ठंडा और हाइड्रेटिंग गुणों के कारण साधक पिटा को संतुलित करने के लिए जाना जाता है।गुलाब जल में त्वचा टोन को ठीक  रखने ,रंजकता को कम करने और त्वचा में कसाव बनाये रखने की क्षमता है। गुलाब के पानी में भी जीवाणुरोधी गुण होते हैं जो त्वचा को बैक्टीरिया के लिए प्रजनन स्थल बनने से रोकते हैं। यह एक ऐसा तत्व है जिसे आपकी त्वचा की मंदता को दूर करने के लिए जाना जाता है और त्वचा को चमकीला बनाने में मदद करता है |

4. एलो वेरा जेल

एलो वेरा जेल को संस्कृत में घृतकुमारी भी कहा जाता है और इसकी चिकित्सा गुणों के लिए आयुर्वेदिक ग्रंथों में इसका बड़ा नाम है। यह त्वचा की जलन को कम करने में मदद करता है| इसके अलावा, यह जेल पिगमेंटेशन को भी कम करता हैं | यह त्वचा को नरमाई देता है| वता त्वचा के लोगों को इस जेल का इस्तेमाल करना चाहिए| इसका ध्यान रखें कि जेल को सीधे पेड़ में से निकालकर इस्तेमाल करें| 1-2 चम्मच जेल को लेने से, आपकी त्वचा चमकदार लगेगी और आप ताज़ा महसूस करने लगेंगी |  

5. आंवला

आंवला या भारतीय गूसबेरी के कई अनगिनत लाभों के कारण अक्सर इसे सुपरफ़ूड माना जाता है| आंवला पित्त , वात और कफ को संतुलित करता है|  कसैले गुणों वाले आंवला रस को बाहरी और आंतरिक रूप से त्वचा पर इस्तेमाल किया जा सकता है। आंवला भी हमारे शरीर में मौजूद विषाक्त पदार्थों को नष्ट करने के लिए जाना जाता है| यह एक प्रकार से प्राकृतिक रक्त शोधक के रूप में कार्य करता है| यह त्वचा में कोलेजन के स्तर को बढ़ावा देने में मदद करता है, जिससे यह चिकनी हो जाती है और त्वचा को एक स्वस्थ चमक देता है।

6. हल्दी

हल्दी एक ऐसा तत्व  है जो हर भारतीय परिवार में मौजूद है। इसकी समृद्ध गुणों के कारण, यह भारतीय व्यंजनों में इस्तेमाल किया जाता है|  हल्दी अपनेर जीवाणुरोधी गुणों के लिए जाना जाता है। इससे चेहरे के दाने और मृत त्वचा कोशिकाओं को हटाया जाता है, जिससे त्वचा को ताजा और साफ़ दिखती है।उबटन  – बेसन का मिश्रण (ग्राम आटा) हल्दी और दूध अक्सर त्वचा को टोन में मदद करता है|

7. केसर

केसर, एक शास्त्रीय मसाला , आयुर्वेदिक परंपराओं में त्वचा की चमक को बढ़ाने, त्वचा को टोन बढ़ाने और सबसे महत्वपूर्ण रूप से वात,पित्त , और कफ को संतुलित करने के लिए उपयोग किया जाता है। केसर को खपत होने पर रक्त शुद्ध करने के अपने गुणों के लिए जाना जाता है। जब दूध के साथ इसे बाहरी रूप से लगाया जाता है तो यह सूखी त्वचा, मुँहासे, धब्बा का इलाज भी कर सकता है |

like

0

Like

bookmark

0

Saves

whatsapp-logo

0

Shares

A

gallery
send-btn
ovulation calculator
home iconHomecommunity iconCOMMUNITY
stories iconStoriesshop icon Shop