yoni strav ka rang aapki sehat ke bare mein kya kahta hai

yoni strav ka rang aapki sehat ke bare mein kya kahta hai

14 Apr 2022 | 1 min Read

Tinystep

Author | 2578 Articles

योनि स्त्राव किशोरावस्था से लेकर 40 वर्ष की महिला के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। क्योंकि 40 वर्ष पार करने के बाद महिला की प्रजनन क्षमता कम हो जाती है। वह मेनोपॉज़ की तरफ रुख करती है। क्या आप जानती हैं की गुप्तांग के रोगों के लिए अक्सर महिला रोग विशेषज्ञ स्त्री से उसके मासिक व योनि स्त्राव के बारे में प्रश्न पूछती है। इसलिए एक स्वस्थ्य नारी के योनि स्त्राव से जुड़े तथ्य आपको पता होने चाहिए।

योनि स्त्राव क्या होता है ?

योनि स्त्राव सामान्यतः cervix और योनि के स्त्रावों का मिश्रण होता है। यह हर बच्चा पैदा करने योग्य महिला में आता है। यह गंधहीन और सफ़ेद रंग का होता है।

योनि स्त्राव से रोग/संक्रमण का पता कैसे चलता है?

योनि स्त्राव आमतौर पर गंधहीन और सफ़ेद होता है। परन्तु इसके रंग और गंध बदलने पर यह संकेत देता है की महिला को संक्रमण हुआ है।

1.अत्यधिक गाढ़ा सफ़ेद स्त्राव

आमतौर पर योनि स्त्राव सफ़ेद, महीन और आसानी से बह पाता है। परन्तु जब इसका टेक्सचर अधिक मोटा/अधिक गाढ़ा हो जाता है, यानि वह पनीर जैसा लगता है तो इसका मतलब है की महिला को यीस्ट(yeast) संक्रमण हो गया है।

2. भूरा या हल्का लाल खून जैसा स्त्राव

यह माहवारी से पहले या उसके बाद के एक दो दिन होना प्राकृतिक बात है, परन्तु अगर आप माहवारी की तारीक पार कर चुकी हैं तो यह किसी अन्य मामले को दर्शाता है।

अगर आप गर्भवती हैं और बिना प्रोटेक्शन के पति के साथ सेक्स की हैं, तो शायद यह प्रेगनेंसी का संकेत हो सकता है। इसके अतिरिक्त यह मिसकैरेज के दौरान भी हो सकता है जहाँ किसी कारणवश गर्भाशय में गर्भ ठहर नहीं पाता और रक्त योनि मार्ग से नीचे बह जाता है।

3.पीला योनि स्त्राव

यह सामान्यतः रूप से बैक्टेरियल इंफेक्शन का लक्षण होता है। इसके साथ ही पीले स्त्राव से बदबू / तेज़ गंध भी आती है। संक्रमण का एक कारण है कई यौन पार्टनर बनाना जिनके साथ महिला असुरक्षित सेक्स करती है। जौंडिस(पीलिया) में भी शरीर के secretions का रंग बदल जाता है जिनमें पीला योनि स्त्राव शामिल है।

4. हरा योनि स्त्राव

हरा रंग योनि स्त्राव में निश्चित रूप से बीमारी का लक्षण है क्योंकि बदन में कोई भी secretion हरे रंग का नहीं होता।

अगर पेशाब करते समय आपको जलन महसूस हो, खुजली हो, तो बीमारी की जाँच के लिए आपको डॉक्टर से मिलना होगा।

महिला रोग विशेषज्ञ आपसे रोग सम्बंधित सवाल पूछेंगी और दवाईयां देंगी।

जानकारी बाँटने से बढ़ती है, तो शर्माइये नहीं और इस पोस्ट को अन्य लोगों में शेयर करें।

like

0

Like

bookmark

0

Saves

whatsapp-logo

0

Shares

A

gallery
send-btn
ovulation calculator
home iconHomecommunity iconCOMMUNITY
stories iconStoriesshop icon Shop