Personalizing BabyChakra just for you!
This may take a moment!

नॉर्मल डिलीवरी के आसान और प्राकृतिक उपाय

cover-image
नॉर्मल डिलीवरी के आसान और प्राकृतिक उपाय

गर्भावस्था की तीसरी तिमाही शुरू होते ही एक लड़की माँ बनने के लिए पूरी तरह तैयार हो जाती है। शरीर और मन दोनों ही बच्चे के आने के लिए उन्मुख हो जाते हैं। कई बार आप अपने होने वाले बच्चे को सपनो में तक देख या महसूस कर पाते हैं, यह एहसास एक माँ को भावनाओं से ओत-प्रोत कर देता है।


इन भावनाओं के साथ कुछ चिंताए भी सताती है जैसे की डिलिवरी नार्मल होगी या नहीं। आपको अपने आस पास के लोगो से नॉर्मल डिलीवरी के लिए टिप्स भी मिलती रहती है। इसका कारण है की यदि नॉर्मल डिलीवरी होती है तो उसके बाद एक माँ को रिकवर होने में ज्यादा वक्त नहीं लगता है पर यदि ऑपरेशन हुआ हो तो काफी समय तक ध्यान रखना पड़ता है। आजकल की भागदौड़ वाली ज़िन्दगी और अनियमित जीवनशैली सी - सेक्शन डिलीवरी की सम्भावना को बढ़ा देती है।


इसी वजह से समय समय पर सभी अनुभवी लोग गर्भवती महिला को नॉर्मल डिलीवरी के लिए टिप्स देते रहते है ताकि बच्चे का जन्म सामान्य परीस्थिति में हो पाए। तो आज हम तीसरी तिमाही के महत्वपूर्ण बिन्दुओं पर गौर करेंगे, जिनसे नार्मल डिलीवरी की सम्भावना बढ़ सकती है।


नार्मल डिलीवरी के लिए महत्वपूर्ण टिप्स


1. नियमित व्यायाम


इस समय कुछ योगा और व्यायाम किया जा सकता है। यह आपके स्वास्थ्य को ठीक रखेगा और आपके वज़न को अन्यथा बढ़ने से रोकेगा। योग मोटापे से सम्बंधित जटिल समस्याओं से आपको बचाता है। प्रतिदिन योगा और व्यायाम से आपकी पेल्विक मांसपेशियां मज़बूत होती है और यह डिलीवरी के बाद स्वास्थ्य को बढ़ाती है। आपकी पीठ के निचले हिस्से में होने वाले दर्द को भी योगा द्वारा कम किया जा सकता है और इससे प्रसव का समय और पीड़ा भी कम हो जाती है।


2. पौष्टिक आहार


इस अवस्था में अच्छे और संतुलित भोजन की सबसे ज़्यादा सिफारिश की जाती है। मसालेदार खाना आपके पेट में एसिडिटी की संभावना को बढ़ा सकता है इसलिए इस समय हमें अधिक तैलीय खाना, जंक फ़ूड, ज़्यादा नमकीन, और ज़्यादा मीठा भी नहीं खाना चाहिए। अधिक से अधिक पेय पदार्थों का सेवन करे जिससे बच्चे और आपको पानी की कमी न हो। ताज़ा और पौष्टिक भोजन आपके शरीर को मज़बूत बनाता है और एक मज़बूत शरीर प्रसव की चुनौतियों को आसानी से पार करने में आपकी सहायता कर सकता है।


3. पर्याप्त आराम


अच्छी और भरपूर नींद आपके शरीर को आराम देती है, इससे बच्चे का विकास भी ज़्यादा अच्छी तरह हो पाता है और आप भी बेहतर महसूस करते है। अच्छी नींद के साथ साथ आप डीप ब्रीथिंग और मैडिटेशन भी कर सकती है जिससे आप तनाव रहित महसूस करेंगी।


4. बेहतर मानसिक स्वास्थ


शारीरिक आरोग्य के साथ साथ आपकी मानसिक सेहत भी महत्वपूर्ण होती है। डिलीवरी को लेकर आपकी पॉजिटिव सोच आपको ज़्यादा बेहतर नतीजों तक लेकर जाती है। इसके लिए आपके लाइफ पार्टनर और पूरे परिवार का साथ आपके आत्मविश्वास को बढ़ा देता है।


5. वाकिंग करे फिट रहे


वाकिंग एक संपूर्ण व्यायाम है जो की आपके कार्डियोवैस्कुलर स्वास्थ को बढ़ता है, शरीर में लचीलापन लाता है और मासपेशियों को टोन करता है | इससे नॉर्मल डिलीवरी में मदद मिलती है |


एक नयी शुरुआत


उपरोक्त सभी टिप्स नॉर्मल डिलीवरी के लिए मददगार साबित हो सकती है।मानव शरीर की यह खूबसरती है की जैसे ही आपकी डिउ डेट नज़दीक होती है तो आपका शरीर सिग्नल भेजता है की आप प्राकृतिक तरीके से जन्म देने के लिए तैयार है। नार्मल डिलीवरी आपके बच्चे के इम्यून सिस्टम और पाचन शक्ति को बढ़ाता है।


नार्मल डिलीवरी का  दर्द और असुविधा अपने आप दूर हो जाएगी जब आप अपने बच्चे को स्पर्श करेंगे , बस खुश रहे और आने वाली नयी ज़िन्दगी के लिए अपने आप को खुशकिस्मत महसूस करें।

 

#garbhavastha #hindi