स्टेम सेल क्या होता है और क्यों यह जरुरी है?

cover-image
स्टेम सेल क्या होता है और क्यों यह जरुरी है?

स्टेम सेल क्या होता है?

 

स्टेम सेल एक विशेष प्रकार का ‘स्रोत’ है जिसमें वयस्क टिश्यू में विकसित होने की क्षमता होती है। स्टेम सेल मानव शरीर के हर अंग और कोशिका का आधार है। स्टेम सेल क्षतिग्रस्त टिश्यू को सही करने के लिए सक्षम है, इसलिए यह कई बीमारियों और जड़ों को दूर कर सकता है, जैसे :

 

  • कैंसर
  • डायबीटीज
  • दिल-धमनी की बीमारियां
  • खून संबंधी बीमारियां
  • मानसिक और अन्य बीमारियां


यह अन्य सेल्स से कैसे भिन्न है?

स्टेम सेल की दो प्रमुख विशेषताएं हैं जो अन्य सेल से इन्हें भिन्न करते हैं ।

 

१ खुद-नवनीकरण –;यह कई कोशिका विभाजन प्रक्रियाओं से गुजर सकता है और फिर भी इसकी मूल अवस्था कायम रख सकता है

२ सक्षमता –यह विभिन्न खास प्रकार की कोशिकाओं में परिवर्तित होने में सक्षम है ।

 

स्टेम सेल के स्रोत

 

स्टेम सेल विभिन्न स्रोतों से प्राप्त किए जा सकते हैं जैसे अम्बलिकल कार्ड ब्लड, बोन मैरो, एडीपोज टिश्यू, पेरिफेरल ब्लड, डेंटल पल्प आदि ।

 

अम्बलिकल कॉर्ड ब्लड बैंकिंग क्यों चुनें? 


अम्बलिकल कार्ड गर्भ के अन्दर आपके शिशु का पोषण करता है । यह स्टेम सेल का अच्छा स्रोत हो जो बीमारियों के उपचार में सक्षम है ।

नमूना लेने का सबसे सुरक्षित उपाय है और इसमें दर्द नहीं होता ।

ट्रांस्फाटेशन के दौरान मिलन की कम आवश्यकता की संभावना होती है ।

स्टेम सेल लेने के बाद कोई समस्या नहीं और जन्म के बाद भी कोई समस्या नहीं होती है ।

अन्य स्रोतों की तुलना में स्टेम सेल के जीवित और सक्षम रहने की अधिक क्षमता होती है ।

 

नमूना एकत्र करने की क्या प्रक्रिया है?

 

स्टेप 1 – नामांकन

 

अम्बलिकल कोर्ट बैंकिंग के लिए शिशु के जन्म की नियत तिथि से पहले करार करें और एक कलेक्शन किट प्राप्त करें जिसका उपयोग शिशु के जन्म के समय नमूना लेने और उसे सुरक्षित ले जाने के लिए होगा ।

 

स्टेप 2 – संग्रह

 

बच्चे के जन्म के बाद 1० मिनट की एक सरल प्रक्रिया के माध्यम से अनुभवी चिकित्सा कर्मचारियों द्वारा अम्बलिकल कई ब्लड और टिश्यू के नमूने एकत्रित किए जाते हैं ।

 

स्टेप 3 – परिवहन

 

एकत्रित किया गया नमूना अस्पताल से ले लिया जाता है और 48 घंटों के अंदर अनुभवी लॉजिस्टिक चैनल के द्वारा हमारी स्टोरेज फैसिलिटीज संचय शाला तक सुरक्षित पहुंचाया जाता है ।

 

स्टेप 4 – परीक्षण एवं प्रसंस्करण (टेस्टिंग एवं प्रोसेसिंग)

 

नमूने के सुरक्षित स्थान पर पहुंच जाने के बाद विभिन्न परीक्षण किए जाते हैं ताकि उनकी व्यवहार्यता (जीवित रहने की संभावना) के साथ यह सुनिश्चित हो कि उस में संक्रामक बीमारियाँ नहीं है । इसके बाद हम अपनी अत्याधुनिक तकनीकी के माध्यम से नमूने का प्रसंस्करण प्रोसेसिंग करते हैं ताकि अधिक-से-अधिक स्टेम सेल निकाले जा सके ।

 

स्टेप 5 – संरक्षण

 

कई ब्लड और कई टिश्यू स्टेम सेल को वैश्विक मान्यता प्राप्त  क्रायोप्रोटेक्टेंट के साथ मिलाया जाता है और तरल नाइट्रोजन के भाप में – 196 डिग्री सेत्निनयरन पर संरक्षित किया जाता है

 

यह भी पढ़ें: स्टेम सेल बैंकिंग कितनी उपयोगी है?

 

#babychakrahindi
logo

Select Language

down - arrow
Personalizing BabyChakra just for you!
This may take a moment!