गर्भावस्था की पहली तिमाही और शारीरिक बदलाव

एक महिला का शरीर गर्भावस्था के नौ महीनों के दौरान कई परिवर्तनों से गुजरता है। इन शारीरिक परिवर्तनों में से कुछ दिखाई देते हैं और कुछ नहीं , जैसे कि एक बढ़ा हुआ पेट और वजन बढ़ना आदि। गर्भावस्था के पहले तिमाही के दौरान आपका शरीर बहुत सारे परिवर्तनों से गुजरता है - शारीरिक और भावनात्मक।

 

आपके शरीर में कुछ बदलाव स्पष्ट होंगे जैसे, आपके पीरियड्स रुक जाएंगे, आपके स्तन कोमल हो सकते हैं और आपके निपल्स के आसपास के क्षेत्र काले पड़ सकते हैं। आपको आरामदायक, सहायक ब्रा पहनने से मदद मिल सकती है, जैसे कि नर्सिंग ब्रा। अप्रत्याशित रूप से मानसिक परिवर्तन का अनुभव भी हो सकता है - यह सामान्य होता है। खुद पर ध्यान देना सुनिश्चित  करें। अपने दोस्तों, परिवार और सहकर्मियों के साथ अपनी भावनाओं के बारे में बात करें। नियमित रूप से और थोड़े थोड़े अंतराल पर खाएं , और शारीरिक रूप से सक्रिय रहें।

 

१. बार बार मूत्रत्याग होना :

 

पहली तिमाही के अंत तक, आपको बार बार मूत्रत्याग की इच्छा होगी। ऐसा इसलिए है क्योंकि आपका बढ़ता हुआ गर्भाशय आपके मूत्राशय पर आगे धकेल देता है। जब आप खांसते या छींकते हैं तो थोड़ा सा मूत्र का रिसाव भी हो सकता है।

 

२ .चक्कर आना:

 

आपका शरीर आपके बच्चे को सहारा देने के लिए अतिरिक्त रक्त बनाने के लिए ज़्यादा काम करता है। इससे आपको चक्कर आ सकते हैं । भूख, कमजोरी या तनाव जैसी लक्षण भी पैदा हो सकतें हैं।

 

३.दिल में जलन :

 

गर्भावस्था के दौरान भोजन को पचाने वाली मांसपेशियां अधिक शिथिल हो जाती हैं। हार्मोन परिवर्तन भी इस प्रक्रिया को धीमा कर देते हैं। पोषक तत्वों को अवशोषित करने के लिए आपके शरीर को अधिक समय देने के लिए भोजन आपके पेट में अधिक समय तक रहता है। ये सभी चीज़ें सीने और पेट में जलन का कारण सकती हैं।

 

४.कब्ज:

 

आपको रोजाना प्रसवपूर्व ज़रूरी विटामिन लेना चाहिए जिसमें आयरन होता है। विटामिन में मौजूद आयरन कब्ज पैदा कर सकता है। भोजन को पचाने की धीमी प्रक्रिया भी कब्ज, गैस और सूजन का कारण बन सकती है।डॉक्टर आपको राहत प्रदान करने के लिए फाइबर सप्लीमेंट या स्टूल सॉफ्टनर (मल को कोमल ) के सेवन का सुझाव दे सकता है। सुनिश्चित करें कि आप दिनभर में खूब सारा पानी (प्रति दिन लगभग आठ गिलास) पियें । अगर आपको गंभीर समस्या है तो अपने डॉक्टर को बताएं। वे आपको एक अलग प्रसवपूर्व विटामिन में बदल सकते हैं।

 

५.हाथ पैरों की नसे दिखाई देने लगती हैं :

 

आपका शरीर अतिरिक्त रक्त बनाता है और गर्भावस्था की जरूरतों को पूरा करने के लिए आपका दिल तेजी से पंप करता है। यह आपके पेट, स्तनों और पैरों की नीली नसों का कारण बन सकता है। आप अपने चेहरे, गर्दन या बाहों पर उभरी हुई नसों को साफ़ देख सकतीं हैं । ये छोटी रक्त वाहिकाएं हैं जो एक केंद्रीय क्षेत्र से बाहर निकलती हैं, ये बिलकुल मकड़ी के पैर जैसी दिखाई पड़ती हैं ।

 

६.त्वचा में बदलाव:

 

आप देख सकते हैं कि आपकी त्वचा अधिक चमकदार लगने लगती है। कुछ को इसके विपरीत त्वचा का रूप दिखाई देता है : रूखी और बेजान। यह रक्त परिसंचरण में वृद्धि के कारण होता है। गर्भावस्था के हार्मोन आपकी त्वचा पर अतिरिक्त तेल का कारण बन सकते हैं। इससे आपको मुंहासों की समस्या हो सकती है।

 

७.स्तन बदल जाते हैं :

 

ज्यादातर महिलाएं गर्भावस्था में अपने स्तनों में बदलाव की बात करतीं है । गर्भवती महिला के शरीर में आये अनेक बदलावों में से ये पहला बदलाव है जो जल्दी महसूस किया जा सकता है। शरीर में हार्मोन स्तनपान की तैयारी के लिए बदलते हैं। आपके स्तन कोमल और सूजे हुए लग सकते हैं। आप अपने निपल्स के आसपास के क्षेत्र में बनने वाले छोटे थक्कों को देख सकतीं हैं ।आपकी गर्भावस्था के दौरान आपके स्तन बढ़ते हैं और बदलते रहतें हैं। वे बाद में और भी बड़ा और भरे हुए महसूस हो सकते हैं ।

 

८.योनि परिवर्तन:

 

आपकी योनि की त्वचा मोटी और कम संवेदनशील हो जाएगा। आप एक पतले, सफेद निर्वहन देख सकते हैं। यह गर्भावस्था के दौरान सामान्य है। हल्के योनि से रक्तस्राव (स्पॉटिंग) भी सामान्य है। हालांकि, योनि से रक्तस्राव होने पर आपको अपने डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिए । यदि रक्तस्राव भारी या दर्दनाक है, तो आपातकालीन चिकित्सा ज़रूरी है , देर न करें।

 

९. बढ़ता हुआ पेट :

 

जैसे-जैसे आपका शिशु और गर्भाशय बड़ा होता जाता है , आपकी कमर का विस्तार होना शुरू होता जाता है । गर्भावस्था से पहले अपने आकार के आधार पर, आप इस बदलाव को दूसरी तिमाही तक नोटिस नहीं कर सकते हैं। आपके पहले तिमाही में वजन कम होना सामान्य है।

 

बरतें कुछ सावधानियाँ

 

गर्भावस्था में अपने आहार का ध्यान रखें। पोषक तत्वों की कमी न तो आपके लिए अच्छा है और न ही आपके बच्चे के लिए। इसलिए, अपच के किसी भी लक्षण से दूर रहने के लिए अच्छी तरह से और नियमित अंतराल पर खाएं।
पानी की कमी गर्भावस्था में जटिलताएं पैदा कर सकती हैं, इसलिए एक दिन में कम से कम 8 से 10 गिलास पानी पिएं।
गर्भावस्था में स्वस्थ रहने के लिए नियमित रूप से व्यायाम करें। आप जो भी व्यायाम करने की योजना बनाते हैं, उसके बारे में अपने डॉक्टर से बात करें।
गर्भावस्था में आपके मन का सकारात्मक और खुश होना बेहद ज़रूरी है। ध्यान और योग का अभ्यास करके अपने मन को खुश और सकारात्मक रखने प्रयास करें।
आपको रात में 7 से 8 घंटे की नींद लेनी चाहिए और दिन में थोड़े -थोड़े अंतराल पर दो से तीन छोटी-छोटी झपकी लेनी चाहिए।
गर्भावस्था आपकी रोग प्रतिरोधक शक्ति को प्रभावित करती है और आपको विभिन्न संक्रमणों और अन्य बीमारियों के लिए अति संवेदनशील बनाती है। इसलिए स्वच्छता बनाए रखें और अपनी अच्छी देखभाल करें।

 

यह भी पढ़ें: पहली तिमाही और गर्भपात - क्या यह सुरक्षित है ?

 

#babychakrahindi

Pregnancy

Read More
गर्भावस्था

Leave a Comment

Comments (5)



vry helpfull

जानकारी देने के लिए धन्यवाद मैडम जी

अच्छी जानकारी

Recommended Articles