9 खाद्य पदार्थ जो गर्भपात का कारण बन सकते हैं !

cover-image
9 खाद्य पदार्थ जो गर्भपात का कारण बन सकते हैं !

गर्भावस्था के दौरान नए नए आहार खाने का मन होना काफी सामान्य है। लेकिन आप हर चीज नहीं खा सकते, आपको सतुंलित आहार उचित मात्रा में लेना चाहिए । हालांकि गर्भावस्था में अधिकांश खाद्य पदार्थ खाने के लिए सुरक्षित हैं,लेकिन कुछ खाद्य पदार्थों का सेवन आपको नहीं करना चाहिए।

 

मातृत्व की यात्रा गर्भावस्था से शुरू होती है। गर्भवती महिला के लिए संतुलित और पौष्टिक आहार लेना और अपने बच्चे और खुद का उचित स्वास्थ्य सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है। हालांकि, पपीता, अनानास, केकड़े, अंडे और पारा युक्त मछली जैसे कुछ खाद्य पदार्थ हैं जिन्हें गर्भवती महिलाओं को सेवन करने से बचना चाहिए। ऐसा इसलिए है क्योंकि इन खाद्य पदार्थों से गर्भपात की संभावना बढ़ सकती है, खासकर गर्भावस्था के पहले तिमाही के दौरान, जब गर्भवती महिलाओं को आमतौर पर एक होने का अधिक खतरा होता है।

 

जबकि गर्भवती महिला की आयु और स्वास्थ्य, उसकी जीवन शैली और भोजन की आदतों जैसे अन्य कारकों भी गर्भपात की वजह हो सकते हैं लेकिन यह सलाह दी जाती है कि गर्भावस्था के शुरुआती चरणों के दौरान कुछ खाद्य पदार्थों से दूर रहे । ये खाद्य पदार्थ गर्भवती महिला में गर्भाशय ग्रीवा और आंतरिक संकुचन को चौड़ा करने या खोलने का कारण बन सकते हैं, जिससे उसे गर्भपात का खतरा होता है।

 

जिन खाद्य पदार्थों से गर्भपात हो सकता है, वे हैं :

 

1. अनानास/पाइनेप्पल

 

अनानास में ब्रोमेलैन होता है जो गर्भवती महिला में संकुचन शुरू करने के लिए गर्भाशय ग्रीवा को नरम कर सकता है। इसके परिणामस्वरूप गर्भपात हो सकता है। गर्भावस्था के शुरुआती चरणों में अनानास या अनानास के रस के सेवन से बचना चाहिए। बाकि अन्य फलो का सेवन आप कर सकतीं है। अपने डॉक्टर की सलाह लेना न भूलें। याद रखें अनानास का सेवन आप फ्रूट केक या अन्य रूप में भी ना करें।

 

 

२. तिल के बीज

 

गर्भवती महिलाओं को गर्भावस्था के शुरुआती दौर में तिल के बीज नहीं खाना चाहिए। शहद के साथ सेवन करने पर तिल गर्भावस्था के दौरान गर्भपात का कारण बन सकता है। हालांकि, गर्भवती महिलायें गर्भावस्था के बाद के चरणों में तिल के काले बीज का सेवन कर सकतीं हैं क्यूंकि ये उन्हें प्रसव में लाभ देता है ।

 

 

३. पशु का कलेजा

 

लीवर को आमतौर पर स्वस्थ माना जाता है क्योंकि यह विटामिन ए से भरा होता है। इसलिए इसे महीने में एक-दो बार लेना हानिकारक नहीं होता । लेकिन, अगर गर्भवती महिलाओं द्वारा बड़ी मात्रा में इसका सेवन किया जाता है, तो यह गर्भावस्था के दौरान परेशानी का कारण बन सकता है क्योंकि यह रेटिनॉल के क्रमिक संचय को बढ़ावा दे सकता है जो बच्चे को प्रतिकूल रूप से प्रभावित कर सकता है।

 

 

४. एलोवेरा

 

अद्भुत एलोवेरा अपने कई स्वास्थ्य लाभों के लिए जाना जाता है। लेकिन कई अध्ययनों से ये पता चला कि गर्भावस्था के दौरान गर्भवती महिलाएं एलोवेरा खाने से पहले किसी विशेषज्ञ की बात करना न भूलें । ऐसा इसलिए है क्योंकि एलोवेरा में एंथ्राक्विनोन नामक एक रेचक शामिल होता है , एक प्रकार का रेचक जो गर्भाशय और श्रोणि के रक्तस्राव को प्रेरित कर सकता है, जिससे संभावित गर्भपात हो सकता है। हालांकि, गर्भावस्था के दौरान सतही रूप से लागू एलो वेरा जेल असुरक्षित नहीं माना जाता है।

 

 

५. ड्रमस्टिक्स :

 

गर्भवती महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान ड्रमस्टिक का सेवन करते समय थोड़ी सावधानी बरतने की आवश्यकता होती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि इसमें अल्फा-सिटोस्टेरोल शामिल है, जो गर्भावस्था के लिए हानिकारक हो सकता है। हालांकि, ड्रमस्टिक लोहे, पोटेशियम और विटामिन से भरपूर होते हैं। इसलिए, उन्हें सीमित मात्रा में खाने की सलाह दी जाती है। इसके अलावा, किसी भी बैक्टीरिया और कीटनाशकों से छुटकारा पाने के लिए, इसके सेवन करने से पहले अच्छी तरह से धोना आवश्यक है।

 

 

६. चाय , कॉफ़ी /कैफीन :

 

कई शोधकर्ताओं के अनुसार, गर्भावस्था में कैफीन को गर्भावस्था के दौरान असुरक्षित नहीं माना जाता है। फिर भी, गर्भवती महिलाओं को इसकी मात्रा का ध्यान रखना चाहिए , क्योंकि अगर गर्भावस्था के दौरान कैफीन का स्तर बढ़ जाता है, तो गर्भपात या जन्म के समय वजन कम होने जैसी समस्याएं हो सकती हैं। इसके अलावा, कैफीन को कुछ विशेषज्ञों द्वारा मूत्रवर्धक या निर्जलीकरण माना जाता है, जिसका अर्थ है कि यह शरीर में तरल पदार्थ के नुकसान का कारण बन सकता है। ध्यान रखें कैफीन कई खाद्य पदार्थों जैसे चाय, कॉफी, चॉकलेट में उच्च मात्रा में पाया जाता है।

 

 

 

७. आड़ू :

 

माना जाता है कि आड़ू तासीर में 'गर्म' होते हैं। यदि गर्भावस्था के दौरान बड़ी मात्रा में इसका सेवन किया जाता है, तो यह गर्भवती महिला के शरीर में अत्यधिक गर्मी पैदा कर सकता है। इससे आंतरिक रक्तस्राव हो सकता है, जिसके परिणामस्वरूप गर्भपात हो सकता है। इसके अलावा, गर्भवती महिलाओं को खाने से पहले इसकी त्वचा को छीलने का ध्यान रखना चाहिए क्योंकि फलों के बाल गले में जलन और खुजली पैदा कर सकते हैं। हो सके तो गर्भावस्था में इस फल का सेवन न करें।

 

 

 

८ . समुद्री भोजन:

 

शेलफिश, सीप, साशिमी, सुशी, झींगे जैसी अधिकांश समुद्री खाद्य किस्मों को लिस्टेरिया जैसे बैक्टीरिया से प्रदूषित किया जा सकता है, जब गर्भवती महिलाओं द्वारा इनका सेवन किया जाता है, तो समयपूर्व बच्चे का जन्म या गर्भपात जैसी समस्याएं हो सकती हैं। कच्चे या ताजे समुद्री भोजन में आमतौर पर टेपवर्म और वायरस जैसे परजीवियों के साथ संभावित रूप से दूषित होने का ज़्यादा खतरा रहता है , जिससे गर्भवती महिलाओं को लिस्टेरियोसिस और फूड पॉइज़निंग जैसे संक्रमण का सामना करना पड़ सकता है। गर्भवती महिलाओं के लिए सलाह दी जाती है कि वे केवल अच्छी तरह से पकाए गए सीफूड का सेवन करें, खासकर अगर आप किसी रेस्तरां में भोजन कर रहीं हैं। 

  

९. पपीता :

 

कच्चा पपीता या हरे पपीते में ऐसे तत्व होते हैं जो एक रेचक/लैक्सेटिव के रूप में कार्य करते हैं और समय से पहले बच्चे के जन्म और गर्भपात की  शुरुआत कर सकते हैं। पपीते के बीज एंजाइमों से समृद्ध होते हैं जो गर्भाशय के संकुचन का कारण बन सकते हैं, जिसके परिणामस्वरूप गर्भपात हो सकता है। इसीलिए गर्भावस्था के दौरान किसी भी रूप में पपीते का सेवन करना सुरक्षित नहीं होता।

 

 

 

यह भी पढ़ें: क्या न खाएं गर्भावस्था में?

 

#babychakrahindi
logo

Select Language

down - arrow
Personalizing BabyChakra just for you!
This may take a moment!