शिशु के सिर की देखभाल से संबंधित जरूरी बातें

cover-image
शिशु के सिर की देखभाल से संबंधित जरूरी बातें

आपके नवजात शिशु के जन्म के बाद सिर के आकार का सिर हो सकता है - खासकर अगर आपने प्राकृतिक रूप से जन्म दिया हो। सी-सेक्शन के माध्यम से पैदा होने वाले शिशुओं के सिर गोल होते हैं और आम तौर पर, योनि से जन्म लेने वाले बच्चों की तुलना में कम गलत आकार लेते हैं। लेकिन क्या सामान्य है, और आपको कब चिंतित होना चाहिए?

 

आपके बच्चे सिर के बारे में क्या अलग है?

 

प्रसव के दौरान आपके बच्चे को जन्म नहर से गुजरने का आदेश, भ्रूण का सिर एक वयस्क की तुलना में थोड़ा अलग होता है। एक वयस्क की तरह, यह छह हड्डियों से बना है, हालांकि, ये एक साथ जुड़े नहीं होती हैं। इसके बजाय, वे आपके बच्चे के मस्तिष्क पर एक जिगसॉ पज़ल की तरह होते है , जिसे कपाल सूत्र कहे जाने वाले स्थानों द्वारा एक साथ रखा जाता है। खोपड़ी की हड्डियां भी निंदनीय हैं, इसलिए उन्हें प्रसव के दौरान आपके श्रोणि के माध्यम से फिट करने के लिए हेर फेर किया जा सकता है।

 

सिर पीछे से चपटा न हो

 

नए जन्मे शिशु का सिर इतना कोमल होता है कि कभी कभी उसका सिर पीछे से चपटा हो जाता है। शिशु के सिर के नीचे तकिया कुछ इस तरह लगाना चाहिये कि उसके सिर का शेप न बिगड़े।  सिर;के पीछे या;तो एकदम;नर्म छोटा;तकिया होना चाहिए या शिशु के लिए विशेष मिलने वाला तकिया लेना चाहिए।

 

शिशु के सिर का मूवमेंट

 

कोशिश करें की शिशु एक ही दिशा में हमेशा सिर करके न सोएं , इसलिए जब भी आप उसके सामने हों तब उसके सिर को दूसरे दिशा में कर के सुलाने की कोशिश करें।

 

सिर पर ज्यादा जोर ना पड़े इसलिए पेट के बल लिटाएं

 

अपने नवजात को शुरुआत से ही पेट के बल लिटाने की कोशिश करें। शिशु जब जगा हुआ हो, तो उसे जितनी ज्यादा बार हो सके उतना ज्यादा पेट के बल लिटाएं। पेट के बल लेटे रहने से शिशु के सिर का हिस्सा समतल होने से बचाया जा सकता है। बहुत ज्यादा समय तक पीठ के बल लेटे रहने से शिशु के सिर का हिस्सा चपटा हो सकता है। ​शिशु जितने अधिक समय तक पेट के बल रहेगा, उसकी खोपड़ी पर उतना ही कम दबाव पड़ेगा। ;

 

शैम्पू करें

 

बच्चों के सिर को धोने के लिए हमेशा कैमिकल रहित शैम्पू का इस्तेमाल करें। कई महिलाएं जल्दी-जल्दी में अपने शैम्पू से ही बच्चों के बाल धो देती हैं जिससे बाल झड़ने लगते हैं और कमजोर हो जाते हैं। इसके अलावा शैम्पू का इस्तेमाल तभी करें जब बच्चे के सिर पर तेल लगा हो।

 

घने और लंबे बालो के लिए

 

शिशु के बालों की ग्रोथ बढ़ाने के लिए;तेल से मसाज;करें। इसके लिए सरसों, नारियल, जैतून या बादाम के तेल से;सिर की मसाजकरें। इसके अलावा देसी घी से भी सिर की मालिश कर सकते हैं। इससे बालों को पोषण मिलता है जिससे बाल घने और लंबे हो जाते हैं।

 

शिशु के ध्यान को भटकाएं

 

अक्सर आपने देखा होगा कि शिशु ऊपर लगे हुए पंखे को एक टक से देखते हैं, इसलिए शिशु के साइड में कुछ लाल-पिली चीजें या खिलौने रख दें जिसे वह देखता रहे ताकि उसका सर दूसरी तरफ मुड़ सके।

 

स्तनपान करते वक्त ध्यान दें

 

जब भी आप शिशु को गोद या;स्तनपान;कराएं तो इस बात का ध्यान रखें कि शिशु का सिर हमेशा एक ही स्थिति में न रहे। इससे शिशु को उसी अवस्था में लेटने या दूध पीते-पीते उसी स्थिति में सोने की आदत पड़ सकती है

 

बैनर छवि: jyotidehliwal

यह भी पढ़ें: क्या हैं स्तनपान कराती माँ का सही आहार ? 

#babychakrahindi
logo

Select Language

down - arrow
Personalizing BabyChakra just for you!
This may take a moment!