क्या आप गर्भावस्था के दौरान टाइफाइड की स्थिति को जानते हैं?

cover-image
क्या आप गर्भावस्था के दौरान टाइफाइड की स्थिति को जानते हैं?

यदि आपको गर्भावस्था के दौरान बुखार है यानि आपका तापमान 100.4 डिग्री फ़ारेनहाइट से अधिक है तो चिंता होना स्वाभाविक है। गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को कोई भी तकलीफ होती है तो उन्हें यह डर लगा रहता है कि इसक उनके गर्भस्थ बच्चे पर कोई बुरा असर तो नहीं पड़ेगा? आपकी जानकारी के लिए बता दें कि गर्भावस्था में बुखार होना आम है, लेकिन अगर यह किसी बैक्टीरियल इन्फेक्शन के कारण है तो इससे माँ और शिशु के स्वास्थ्य पर असर पड़ सकता है। बेबीचक्रा के इस लेख में पढेंगें गर्भावस्था में टाइफाइड बुखार (Typhoid In Pregnancy) के बारे में और जानेंगें कि यह गर्भवती महिला को कैसे प्रभावित कर सकता है। चलिए जानकारी की शुरुआत करते हैं और जानते हैं कि टाइफाइड क्या है?

टाइफाइड क्या है? - What Is Typhoid?

यूरोप में टाइफाइड एक दुर्लभ बीमारी है; हालांकि, भारत जैसे ट्रोपिकल देशों में यह समस्या आम मानी जाती है। यह साल्मोनेला टाइफी नामक बैक्टीरिया के कारण होता है। यह एक तरह का अंदरुनी बुखार है, जिसे मियादी बुखार या आंत्र ज्वर भी कहते हैं। असल में यह एक ऐसा जीवाणु संक्रमण है, जो मनुष्य के शरीर में आसानी से फैलता है। टाइफाइड बैक्टीरिया आँतों पर हमला करता है और फिर रक्त के साथ फैलकर धीरे-धीरे अन्य सभी प्रणालियों को प्रभावित करता है।

टाइफाइड होने व फैलने के कारण - Cause Of Typhoid?

जैसा कि हमने बताया कि टाइफाइड फैलने की वजह साल्मोनेला टाइफी है, इसका संक्रमण आपको नीचे दिए गए कारणों की वजह से हो सकता है -

 

  • फेकल-ओरल ट्रांसमिशन माध्यम से

विकसित देशों में ज्यादातर लोग यात्रा के दौरान टाइफाइड के बैक्टीरिया से संक्रमित हो जाते हैं। एक बार जब वे संक्रमित हो जाते हैं, तो उनके माध्यम से अन्य लोग भी संक्रमित होते हैं, इसका मतलब है कि साल्मोनेला टाइफी मल में और कभी-कभी संक्रमित लोगों के मूत्र में पाया जाता है। यदि आप ऐसा खाना खाते हैं जिसे टाइफाइड बुखार है और जिसने शौचालय का उपयोग करने के बाद स्वच्छता का ध्यान नहीं रखा है, तो आप संक्रमित हो सकते हैं।

भारत जैसे विकासशील देशों में ज्यादातर लोग दूषित पानी पीने से साल्मोनेला टाइफी से संक्रमित होते हैं। यह बैक्टीरिया दूषित भोजन और संक्रमित व्यक्ति के सीधे संपर्क में आने से भी फैल सकता है।

  • टाइफाइड के संवाहक या कैरियर द्वारा

एंटीबायोटिक उपचार के बाद भी, टाइफाइड बुखार से ठीक होने वाले लोगों में कुछ मात्रा में बैक्टीरिया रह जाते हैं। क्रोनिक कैरियर्स के रूप में जाने जाने वाले इन लोगों में टाइफाइड रोग के लक्षण नहीं होते हैं, जबकि वे अभी भी बैक्टीरिया को अपने मल और मूत्र के जरिए फैलाने में सक्षम होते हैं।

  • टाइफाइड बुखार के लक्षण - Signs And Symptoms Of Typhoid

टाइफाइड बुखार के लक्षण आमतौर पर बैक्टीरिया के संपर्क में आने के 6 से 30 दिनों के बीच दिखने शुरू हो जाते हैं। टाइफाइड के दो प्रमुख लक्षण बुखार और रैशेज होना हैं। टाइफाइड का बहुत हाई फीवर होता है, धीरे-धीरे करके यह 104 डिग्री फ़ारेनहाइट या 39 से 40 डिग्री सेल्सियस तक बढ़ जाता है। रैशेज, प्रत्येक रोगी को प्रभावित नहीं करते हैं, ये गुलाबी रंग के धब्बे होते हैं जो विशेष रूप से गर्दन और पेट पर उभर आते हैं। इनके अलावा टाइफाइड के दौरान दुर्बलता, पेट में दर्द, कब्ज, सिर दर्द, दस्त और उल्टी भी हो सकती है।


टाइफाइड से निदान

डॉक्टर शुरूआती जांच में लक्षणों को देखते हुए टाइफाइड की आशंका जता सकते हैं, जिसकी पुष्टि के लिए एक ब्लड टेस्ट करवाने की सलाह दी जा सकती है। ब्लड में साल्मोनेला टाइफी की मौजूदगी से टाइफाइड की पुष्टि की जाती है।


टाइफाइड का उपचार

टाइफाइड के शुरुआती चरणों में गर्भावस्था में टाइफाइड का उपचार अच्छा परिणाम दिखाता है और एक दो दिनों में बीमारी को खत्म किया जा सकता है। उपचार आम तौर पर एमोक्सिसिलिन या सेफ्ट्रिएक्सोन इंजेक्शन से शुरू होता है। हालांकि, इन दवाओं के अपने साइड इफेक्ट हैं। अपने आप किसी भी दवा के सेवन से सख्ती से बचा जाना चाहिए, और एक अच्छे डॉक्टर की राय लेनी चाहिए। महिला को खुद को अच्छी तरह से हाइड्रेट करना भी महत्वपूर्ण है, भोजन के बाद हर दिन शहद के साथ गुनगुना पानी पीएं, हर समय केवल पके हुए भोजन और उबले हुए पानी का सेवन करें।


गर्भावस्था के दौरान टाइफाइड की जटिलताएं

गर्भावस्था में टाइफाइड बुखार गर्भवती महिला की भूख को प्रभावित कर सकता है और मां की कम भूख के कारण भ्रूण का विकास प्रभावित हो सकता है। टाइफाइड दूषित भोजन और पानी के माध्यम से होता है। सीवेज के पानी के साथ उगाए जाने वाले कच्चे फल और सब्जियां भी बीमारी का संक्रमण कर सकती हैं। टाइफाइड (Typhoid In Pregnancy) मुख्य रूप से खराब स्वच्छता का परिणाम माना जाता है।

यदि टाइफाइड को अनुपचारित छोड़ दिया जाता है या सही तरीके से इलाज नहीं किया जाता है, तो टाइफाइड बैक्टीरिया प्लेसेंटा को पार कर सकता है और भ्रूण को संक्रमित कर सकता है, जिसके परिणामस्वरूप बच्चे में संक्रमण हो सकता है जिसे कोरिओमनीओनाइटिस के रूप में जाना जाता है। इससे भ्रूण की मृत्यु या गर्भपात हो सकता है। प्रेगनेंसी में टाइफाइड होना (Pregnancy Me Typhoid Hona) शिशु के विकास में जटिलता पैदा कर सकता है। इसके अलावा, क्योंकि मां कम भूख के कारण निर्जलित और अल्पपोषित हो जाती है तो भ्रूण का जन्म कम वजन के साथ हो सकता है और, कुछ मामलों में, प्री-मैच्योर डिलीवरी का खतरा हो सकता है।


खुद को टाइफाइड होने से कैसे बचाएं?

टाइफाइड बुखार के लिए वैक्सीन मौजूद है लेकिन यह इससे पूरी तरह सुरक्षा नहीं देती है इसलिए, कुछ बातों का ध्यान रखना जरूरी है -

1. अपने हाथ साफ़ रखें

साबुन के पानी में बार-बार हाथ धोना संक्रमण को नियंत्रित करने का सबसे अच्छा तरीका है। खाना खाने या बनाने से पहले और शौचालय का उपयोग करने के बाद हाथ जरूर धो लें। जब पानी उपलब्ध न हो तो अल्कोहल-आधारित हैंड सैनिटाइज़र अपने साथ रखें।

2. गन्दा पानी पीने से बचें

दूषित पेयजल उन क्षेत्रों में एक विशेष समस्या है जहां टाइफाइड बुखार आम है। इसलिए उबला हुआ पानी, RO का पानी ही पिएँ। अपने दांतों को ब्रश करने के लिए स्वच्छ पानी का प्रयोग करें और कोशिश करें कि शॉवर वाला पानी न निगलें।

3. कच्चे फल और सब्जियों का सेवन न करें

कच्चे उत्पाद दूषित पानी में धोए जाते हैं , ऐसे फलों और सब्जियों से बचें जिन्हें आप छील नहीं सकते, खासकर सलाद पत्ता। पूरी तरह से सुरक्षित रहने के लिए, आप कच्चे खाद्य पदार्थों से पूरी तरह बचे रहें।

4. भोजन गर्म करें

कमरे के तापमान पर संग्रहीत या बासी भोजन से बचें। खाना तब तक गर्म करें जब तक उसमें भाप न निकले। इस बात की कोई गारंटी नहीं है कि बेहतरीन रेस्तरां में परोसा जाने वाला भोजन सुरक्षित है, स्ट्रीट वेंडर्स के भोजन से भी बचना सबसे अच्छा है। बाहर के खाने के संक्रमित होने की अधिक संभावना है।

यदि आप टाइफाइड बुखार से उबर रहे हैं, तो ये उपाय दूसरों को सुरक्षित रखने में मदद कर सकते हैं:

 

अपने एंटीबायोटिक्स लें

अपने एंटीबायोटिक्स लेने के लिए अपने डॉक्टर के निर्देशों का पालन करें, और सुनिश्चित करें कि आप अपनी खुराक को पूरा कर लें।


भोजन को हाथों से छूने से बचें

दूसरों के लिए भोजन तैयार करने से बचें जब तक कि आपका डॉक्टर यह न कहे कि आप अब संक्रामक नहीं हैं।

 

गर्भावस्था में टाइफाइड के लिए टीकाकरण

यदि आप खराब स्वच्छता वाले क्षेत्र में रहते हैं या ऐसे देश की यात्रा कर रहे हैं जहां टाइफाइड का प्रचलन है, तो आपको और आपके बच्चे को इस गंभीर संक्रमण से बचाने के लिए टाइफाइड का टीका लेना सबसे अच्छा है। यह गर्भस्थ शिशु की देखभाल का बेसिक नियम है।

टाइफाइड के टीके टायफिम या टायरफिक्स इंजेक्शन या विवोटिफ टैबलेट के रूप में उपलब्ध हैं। एक इंजेक्शन वैक्सीन की सिफारिश की जाती है क्योंकि टैबलेट वैक्सीन एक जीवित वैक्सीन है और गर्भावस्था के दौरान इससे बचना चाहिए। हमेशा याद रखें कि ये टीके आपको पूरी सुरक्षा नहीं दे सकते हैं, गर्भावस्था के समय सख्त सावधानी बरतनी चाहिए।

ज्यादातर महिलाओं में गर्भावस्था के दौरान टाइफाइड का सफलतापूर्वक इलाज किया गया है और अगर आप डॉक्टर ले देख-रेख में हैं तो स्टिलबर्थ या गर्भपात की संभावना कम है। हालांकि, भ्रूण और माता के स्वास्थ्य को सुनिश्चित करने के लिए आगे की जटिलताओं से बचने के लिए बीमारी का जल्द से जल्द इलाज करना सबसे अच्छा उपाय है।

Related Articles:

1. गर्भावस्था के दौरान कैल्शियम का सेवन क्यों जरूरी है? - कैल्शियम गर्भस्थ शिशु के शारीरिक और मानसिक गठन के लिए एक जरूरी तत्व है, जानिए इसके कमी से किस तरह की समस्याएं पैदा हो सकती हैं?

2. गर्भावस्था में दांतों का ख्याल कैसे रखें ? - प्रेगनेंसी के दौरान महिला को कई बदलावों से गुजरना पड़ता है, इसका असर दांतों पर भी पड़ सकता है, जानिए कैसे ?

3. कैसे सँभालें प्रेगनेंसी में ऑफिस ? - गर्भावस्था में हर महिला को ख़ास ख्याल रखने की जरूरत होती है, ऐसे में ऑफिस की जिम्मेदारी भारी पड़ सकती है, कुछ महिलाएं कैसे मैनेज कर रही हैं जानिए?

#babychakrahindi
logo

Select Language

down - arrow
Personalizing BabyChakra just for you!
This may take a moment!